मैडिटेशन

1


मैडिटेशन एक वरदान

मैडिटेशन न सिर्फ हमे स्वस्थ रखने में सहायक है अपितु इंसान में एक्चुअल में कुश चमत्कारिक शक्तिया होती है वो भी केवल मैडिटेशन के द्वारा ही विकसित हो पति हैं. इंसान रियल में ही शक्तियों का मालिक होता है यदि जरूरत है तो उन्हें निखारने की.इसलिए सुबह ३:००ब्ज़े



तन-मन दोनों के लिए वरदान समान है मेडिटेशन

आज की भागदौड़ भरी जिन्दगी में जब हर व्यक्ति किसी न किसी कारणवश तनाव में रहता है तो उसका सीधा असर स्वास्थ्य पर पड़ता है। यही तनाव व्यक्ति को बीमार या यूं कहें कि बहुत बीमार बनाने के लिए काफी है। दवाईयों के सहारे खुशहाल जीवन नहीं व्यतीत किया जा सकता। इसलिए इन सभी परेशानियों से बचने का एक आसान और असरदार



अहंकार गिराना: आत्म-चिंता से मुक्त करने का जादू

एक माइंडफुलनेस तकनीक है जिसे मैं अब कई वर्षों से अभ्यास कर रहा हूं, और जब मैं यह कर सकता हूं, तो यह जादू की तरह है।अभ्यास अहंकार को गिरा रहा है – मेरी आत्म-चिंता को छोड़ रहा है, हर चीज से अलग होने की मेरी भावना और हर चीज के साथ पूर्णता



Sketches from Life: विपासना शिविर का छठा और सातवाँ दिन

विपासना मैडिटेशन के पांच दिन हो चुके थे और अब सुबह चार बजे उठने में कोई दिक्कत नहीं थी. अधिष्ठान में लगातार बिना हिले जुले बैठने में भी अभ्यस्त हो गए थे. वैसे भी तो ये बात कहते तो किससे कहते ? बोलती तो बंद थी पांच दिनों से ! देख लीजिये



Sketches from Life: विपासना शिविर का पांचवां दिन

मैडिटेशन सीखने का पांचवां दिन आ गया. पद्मासन, या आलथी पालथी या चौकड़ी लगाकर, कमर गर्दन सीधी रखकर सांस पर ध्यान देना है और फिर अपनी काया पर हो रही संवेदनाओं को जानना है. सर से लेकर पैर तक और फिर पैर से लेकर सर तक. विभिन्न अंगों में विभिन्न तर



Sketches from Life: विपासना शिविर का चौथा दिन

विपासना शिविर की तीसरी शाम को गोयनका जी के एक घंटे के वीडियो प्रवचन में साधकों के मन में उठे सवालों की चर्चा की गई और समझाया गया. जैसा की रोज़ होता है उसी प्रवचन में अगले दिन की रूप रेखा भी बता दी गई. चौ



Sketches from Life: विपासना शिविर में दूसरा दिन

घंटी की आवाज़ से पता लगा की सुबह के चार बज गए हैं और अब उठ जाना ही ठीक है. अगर बिस्तर छोड़ कर लाइट नहीं जलाई तो दरवाज़े के बाहर घंटी बजाने वाला सेवादार घंटी बजाना बन्द नहीं करेगा. इसके बाद साढ़े चार बजे घंटी फिर बजेगी और कहेगी 'पधारो मैडिटेशन ह



Sketches from Life: हम चले विपासना करने

पेंशन मिल जाने के बाद बैंक की रोज़मर्रा की व्यस्तता ख़त्म हो गई. अब नाश्ते का समय 8 बजे से खिसक कर 9 बजे पहुँच गया. अखबार जो कभी दस मिनट में निपट जाता था अब दो तीन घंटों तक खींचता चला जाता है. दफ्तर जाना नहीं तो क्या जूते चमकाने और क्या टा





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x