“मुक्तक”तर्क

1


“मुक्तक”तर्क तौलते हैं सभी लिए तराजू हाथ।

“मुक्तक”तर्क तौलते हैं सभी लिए तराजू हाथ। उचित नीति कहती सदा मिलों गले प्रिय साथ। माँ शारद कहती नहीं रख जिह्वा पर झूठ- ज्ञान-ध्यान गुरुदेव चित अर्चन दीनानाथ॥-१ प्रथम न्याय सम्मान घर दूजा सकल समाज। तीजा अपने आप का चौथा हर्षित आज। धन-निर्धन सूरज धरा हो सबका बहुमान- गाय भाय बेटी-बहन माँ- ममता अधिराज॥-२





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x