आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

ज्ञान

ज्ञान से सम्बंधित लेख निम्नलिखित है :-

बेंगलुरु में स्कूल एनुअल डे फंक्शन पर हुआ ये हादसा हम सबके लिए चेतावनी है

देखिये विडियोबेंगलुरु में स्कूल एनुअल डे फंक्शन पर हुआ भीषण हादसा मौके पर 9 छात्रो की मौत हो गयी चार अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए.



इंटरनेट पर हिन्दी....!

भारत में अंग्रेजी अब इंटरनेट पर प्रयोग में लाई जाने वाली प्रमुख भाषा नहीं रह गई है। बड़े पैमान पर हिंदी और क्षेत्रीय भाषाओं के प्रयोग ने देश में अंग्रेजी के प्रयोग को पछ़ाड दिया है। शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक देशी भाषाओं का प्रयोग साइबर स्पेस में लगातार बढ़ता जा रहा है। हिंदी इनमें सबसे आगे



जानिए, कितना सुरक्षित है बैंक में रखा आपका पैसा बैंक डूब जाने पर

1/ 12पंजाब नेशनल बैंक में हुई बड़ी धोखाधड़ी के बाद यह सवाल लोगों के जेहन में घुमड़ने लगा है कि क्‍या बैंकों में जमा उनके पैसे डूब जाएंगे? महज चंद सप्‍ताह पहले ही अफवाह थी कि बैंक से जुड़े कुछ ऐसे नियम बनने जा रहे हैं, जिससे बैंकों में जमा आम आदमी के पैसे की गारंटी सरकार की नहीं रह जाएगी. और अगर वे प



क्या आप जानते हैं मुँह दिखाई के समय श्री राम ने माता सीता को क्या उपहार दिया था ?

भारत में आज भी मुहं दिखाई की रश्म है, यह रश्म आज की नहीं प्राचीन काल की है. रामायण के अंश में मुहं दिखाई से जुड़ा एक अंश भी है. इस अंश में बताया गया है की श्री राम ने माता सीता को मुहं दिखाई पर क्या दिया था. वैसे तो आप यह जानने के लिए उत्सक हो पर मैं आपको यह बताने से प



इस तस्वीर और वीडियो ने लाखों लोगों का दिल छू लिया ! पूरा वाक्य ही ऐसा है !!!

Highlightsक्या कभी आप निर्वस्त्र घूम रहे बच्चे की मदद के लिए रुके हैं?क्या आप आपने गरीबी और अन्याय पर संवेदनशील हुए हैं?यह तस्वीर इंसानियत को बयां करने के लिए काफी है।आधुनिकता के इस वर्तमान समय में आज इंसान ने भौतिकवाद को ही अपना ख़ास उद्देश्य बना लिया है। इंसानियत कहाँ तक गिर चुकी है, इसका अंदाज़ा लग



ये 10 काम बहुत ज़रूरी है ग्रहण के बाद

चंद्र ग्रहण के दौरान तो कई काम निषेध बताए गए हैं लेकिन ग्रहण खत्‍म होने के बाद इसके नकारात्‍मक प्रभाव खत्‍म करने के लिए भी कुछ उपाय जरूरी हैं -1. सूबह-सुबह स्नान कर के धुले हुए कपड़े ही पहनें।2. ग्रहण के वक्त पहने कपड़ों को किसी गरीब को दान दे देना चाहिए।3. स्नान करने के बाद ही पूजा घर में प्रवेश क



बसंत पंचमी पर क्यों की जाती है माँ सरस्वती की आराधना

Vasant Panchami 2018बसंत पंचमी का यह त्यौहार बसंत ऋतु के आगमन और माँ सरस्वती के जन्मदिवस के रूप में पूरे भारत वर्ष में मनाया जाता है। किसान इस त्यौहार का विशेष रूप से इंतज़ार करते हैं। बसंत पंचमी से सरसों के खेत सोने के समान दिखने लगते हैं। बसंत ऋतु के आगमन से चना, जौ,



स्वामी विवेकानंद के जन्मदिवस पर जानते हैं, क्यों मानते है युवा उन्हें आपना आदर्श : National Youth Day

स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को कोल्कता के एक कायस्थ परिवार में हुआ था, उनका असली नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था, वह एक शिक्षित परिवार से थे, उनके पिता कोल्कता हाई कोर्ट में वकील थे, वह बचपन में बेहद शरारती थे लेकिन उनके घर का माहोल बेहद अध्यात्मिक और धार्मिक था, दर्शन, धर्म, इतिहास, सामाजिक विज



जीवन का मर्म बस इतना है कि दाल में नमक कितना है...

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:ValidateAgainstSchemas> <w:Sav



बदलना आसान काम नहीं: लाइफ का गोलडेन रूल है इवाल्व-अपग्रेड होते रहना, अनलर्न करना...

शब्दों का अपने-आप में कोई खास महत्व नही। चारों ओर शब्द ही शब्द हैं। मगर, फिर भी उनका किसी पर असर हो, इसके लिए शब्दों की अच्च्छाई और उपयोगिता तभी बन पाती है जब शब्दों को बेहद उम्दा और ढेर सारे प्यार, आस्था और अपनेपन से स्वीकार किया जाए।शब्द तभी कामयाब और असरदार होते हैं जब उनको सुनने वाले की कहने वाल



ऐसा दिखता है अब ये बच्चा, जिसकी तस्वीर देख कर दुनिया सहम गई थी

कई खाड़ी देशों के हालात बद से बदतर हो चुके हैं। भयानक बमबारी और केमिकल वॉर के चलते जिंदगी ने वहां से पलायन कर लिया है। जो लोग बचे हैं वो मलबे में अपना आशियाना बनाए किसी चमत्कार का इंतजार कर रहे हैं। सीरिया के हालात किसी से छिपे नहीं हैं, हालात ऐसे बिगड़े की 15-15 सदस्यों वाले परिवार बमुश्किल 1 या 2



स्टीव जॉब्स के ये आखरी शब्द दुनिया की सबसे बड़ी सच्चाई हैं

स्टीव जॉब्स को कौन नहीं जानता। दुनिया की सबसे बड़ी स्मार्टफोन निर्माता ‘एप्पल’ कंपनी के संस्थापक स्टीव जॉब्स, व्यापार जगत के सबसे सफल लोगों की श्रेणी में आते हैं। बिजनेस को सफल बनाने के लिए लोग इन्हीं के नक्शे कदम पर चलने की कोशिश करते हैं।एप्पल कंपनी का निर्माण करने के बाद उसे बड़ी ऊंचाईयों तक पहुंचा



मिलिए 72 साल के हयात उल्ला से, जिन्हें संस्कृत का विद्वान होने के चलते चतुर्वेदी की उपाधि मिली है

देश में आज भी कई ऐसे लोग हैं जिनके लिए अपने मज़हब से कहीं ज़्यादा देश की एकता और अखंडता के लिए समर्पित होना मायने रखता है. 72 साल के हयात उल्ला चतुर्वेदी भी एक ऐसे ही शख़्स हैं.पेशे से शिक्षक हयात उल्ला को संस्कृत भाषा का संपूर्ण ज्ञान है. संस्कृत में विद्वान होने के कारण ही उन्हें 1967 में चतुर्वेदी



बियर पीती शादीशुदा औरत के वायरल वीडियो और उसपर लोगों की ये टुच्चई, देख दिल टूट गया

बियर पीने से एक ख़ास तरह की मर्दानगी जुड़ी है. ये लड़कों को ‘कूल’ बनाती है, वरना वो चलते-फिरते गाड़ी में बियर पीकर बोतलें सड़क पर न फेंकते. गाड़ी पार्क कर बोनट पर बैठकर बियर पीते हुए फोटो न खिंचाते. रात सड़क पर चलती हुई लड़कियों पर बियर न फेंकते. शराब मर्दों का एरिया है. इसमें औरतें घुसती हैं तो ज़माने को को



चवन्नी से अठन्नी का प्रबंधन सीखिये...

सब मिथ्या है, कहता तो हर कोई है,नश्वर है हर यथार्थ, जानते सभी हैं,झलावा है जो होने जैसा दिखता है,माया है जिसने सबको भरमाया है...अपना तो खुद का वजूद भी नहींगोया सोच भी अपनी मिल्कियत नहीं,‘मैं’ का उन्माद मूर्खता की नुमाइश है,चैरासी लाख जन्मों का यही सरमाया है...?जब सब ‘शून्य’ है तब यह हाल है,इंसान किस



आप भी पढ़ लो, ऐसे होंगे 2017 के आखिरी चार महीने

समय बड़ा बलवान है। यहाँ कभी भी कुछ भी हो सकता है। अगले पल क्या होगा यह कहना असंभव है। लेकिन राशि और हाथों की लकीरें इस बारे में जरूर कुछ इशारा देती हैं। 2017 की शुरुआत में आप में से कई लोगों ने अपना वार्षिक राशिफल देखा होगा। उनमें से कई घटना



हिंदी दिवस पर इन लोगों ने हिंदी का माठा कर दिया है

नए करेंसी नोटों में भी कई भाषाएं दिखती हैं.14 सितंबर. बोले तो हिंदी दिवस. सरकार भी यही कह रही है. हिंदी बोलो. अब जिन्हें हिंदी आती है, उन्हें तो कोई दिक्कत नहीं, लेकिन जिन्हें नहीं आती है, वो ट्विटर पर दंगा काटे पड़े हैं. हर बार हिंदी दिवस के मौके पर ट्विटर पर ये हैशटैग ट



क्यूं सहम जाते हैं...?

सबके अपने-अपने तयशुदा सांचे होते हैं,इश्क भी सांचों की खांचों में फंसे होते हैं।मां-बाप, भाई-बहन, जोरू-सैंयां सब सांचे हैं,आप अच्छे जब सबके सांचों में ठले होते हैं।प्रेम, रूप-स्वरूप की आकृति से परे बेवा है,हम तो ईश्वर को भी पत्थरों में कैद रखते हैं।सफलता-विफलता के भी सरगम तय छोड़े हैं,रिश्तों की रागद



एक दुखी बाप को परेशान करने वाली वो रिपोर्टर अकेली नहीं थी

रायन इंटरनेशनल स्कूल में मारे गए प्रद्युम्न ठाकुर के पिता विशाल ठाकुर (यूट्यूब स्क्रीनग्रैब)8 सितंबर, 2017 को गुड़गांव के रायन इंटरनेशनल स्कूल में प्रद्युम्न ठाकुर नाम के एक बच्चे की हत्या हो गई. इल्ज़ाम लगा स्कूल में बस कंडक्टर अशोक पर. पुलिस जांच कर रही है, जिससे बच्चे



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x