आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

ज्ञान

ज्ञान से सम्बंधित लेख निम्नलिखित है :-

Personalized Online Tuitions for Indian Students by TutStu

Time for Indian Students to reap the benefits of Digital India & 4G Internet. Students can use TutStu to Search, Find, Select & Learn Online via Video Chat. Thousands of Expert Global Teachers in 30+ Subjects & 350+ Branches.TutStu, has int



वन्दे मातरम और उसका हिन्दी अर्थ-

वन्दे मातरम्!सुजलां सुफलां मलयजशीतलांशस्यश्यामलां मातरम्!शुभ-ज्योत्सना-पुलकित-यामिनीम्फुल्ल-कुसुमित-द्रमुदल शोभिनीम्सुहासिनी सुमधुर भाषिणीम्सुखदां वरदां मातरम्!सन्तकोटिकंठ-कलकल-निनादकरालेद्विसप्तकोटि भुजैर्धृतखरकरबालेअबला केनो माँ एतो बले।बहुबलधारिणीं नमामि तारिणींरिपुदल वारिणीं मातरम्!तुमि विद्या त



आंख से ऑपरेशन करके निकाले 'पत्ता गोभी वाले' कीड़े की सच्चाई ये है

भाईसाब सवेरे सवेरे खोपड़िया भन्ना गई. जैसे ही व्हाट्सऐप खोला, गांव से एक भैया जी ने ये मैसेज भेजा. कहा कि इसकी सच्चाई पता करके बताओ. मैसेज में लिखा था “पत्ता गोभी वाला कीड़ा आपके शरीर के किसी भी अंग में दाखिल हो सकता है. पत्ता गोभी का बहिष्कार करो. किसानों से विनती है कि पत्ता गोभी उगाना बंद करें. ब



डिजिटल इंडिया की वजह से छात्रों को कैसे लाभ मिलेगा | TutStu

Digital India - is a “Social Change” which involvestransforming the mind-set of its Citizen. After observing modernisation in all aspects of ordinarylife, we can still sense th



नवरात्र दुर्गा पूजा नव सम्वत्सर

शैलपुत्रीचैत्र शुक्ल प्रतिपदा को माँ भगवती के एक रूप “शैलपुत्री” की उपासना के साथ ही साम्वत्सरिक नवरात्रों का आरम्भ होने जा रहा है | कल प्रथम नवरात्र है – माँ शैलपुत्री की अर्चना का दिन – जिनके एक हाथ में त्रिशूल और दूसरे में कमलपुष्प शोभाय



PAYTM WALLET APP को बिना इन्टरनेट के इस्तेमाल कैसे करें

फ्रेंड्स कभी कभी ऐसा होता है की हमारा डाटा बैलेंस ख़तम हो जाता है और ऐसे टाइम में हमें अगर किसी को पेमेंट करना हो तो हमें इंटरनेट की आवश्यकता होती है और तब हमें प्रॉब्लम का पता चलता है.फ्रेंड्स इसी को देखते हुए पेटम ने एक new service start की है जिसके द्वारा आप बिना इं



नेमतें बाहम रहें...

ऐसी कोई ख्वाहिश न थी,न ही इम्कां रखते थे कोई,कि वो समझेंगे जो कहेंगे हम।मुख्तसर सी ये गुजारिश कि,बैठें, रूबरू रहें, संग चलें,कि हमसायगी की कोई शक्ल बने।आसनाई मंसूब हो, फिर ये होगा,दरमियां कुछ सुर साझा हो चलेंगे,राग मुक्तिलिफ होंगे, लुत्फ का एका होगा।फर्क है भी नहीं



दोनों ही पेशेवर हैं...

जो हो, उसे न देख पाना,जो न हो, उसे देख पाना,दोनों ही मर्ज हैं मिजाज के,दोनों ही पहलू हैं यथार्थ के,एक को मूर्खता समझते हैं,दूजे को गर्व से विद्वता कहते हैं,नफा-नुकसान दोनों में बराबर है,नाजो-अंदाज में दोनों ही पेशेवर हैं,जरूरत दोनों की ही है समाज को,नशा अजीज है दोनों ही मिजाज कोदोनों जो एक-दूजे से उ



क्यूं सहम जाते हैं...?

सबके अपने-अपने तयशुदा सांचे होते हैं,इश्क भी सांचों की खांचों में फंसे होते हैं।मां-बाप, भाई-बहन, जोरू-सैंयां सब सांचे हैं,आप अच्छे जब सबके सांचों में ठले होते हैं।प्रेम, रूप-स्वरूप की आकृति से परे बेवा है,हम तो ईश्वर को भी पत्थरों में कैद रखते हैं।सफलता-विफलता के भी सरगम तय छोड़े हैं,रिश्तों की रागद



जीवन का मर्म बस इतना है कि दाल में नमक कितना है...

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:ValidateAgainstSchemas> <w:Sav



स्वामी विवेकानंद के जन्मदिवस पर जानते हैं, क्यों मानते है युवा उन्हें आपना आदर्श : National Youth Day

स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को कोल्कता के एक कायस्थ परिवार में हुआ था, उनका असली नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था, वह एक शिक्षित परिवार से थे, उनके पिता कोल्कता हाई कोर्ट में वकील थे, वह बचपन में बेहद शरारती थे लेकिन उनके घर का माहोल बेहद अध्यात्मिक और धार्मिक था, दर्शन, धर्म, इतिहास, सामाजिक विज



बसंत पंचमी पर क्यों की जाती है माँ सरस्वती की आराधना

Vasant Panchami 2018बसंत पंचमी का यह त्यौहार बसंत ऋतु के आगमन और माँ सरस्वती के जन्मदिवस के रूप में पूरे भारत वर्ष में मनाया जाता है। किसान इस त्यौहार का विशेष रूप से इंतज़ार करते हैं। बसंत पंचमी से सरसों के खेत सोने के समान दिखने लगते हैं। बसंत ऋतु के आगमन से चना, जौ,



किचन में ये 8 काम करने से घर से वापस चली जाती हैं लक्ष्मी !!! जाने क्या नहीं करना चाहिए

घर एक मंदिर होता है जिसकी साफ-सफाई करना बहुत जरूरी होता हैं, क्योंकि कहा जाता है कि माता लक्ष्मी घर में प्रवेश साफ-सफाई देखकर ही करती है. घर में सबसे ज्यादा खास जगह किचन होता है ये वो जगह होती है जहां हम अपनी मेहनत की कमाई से खरीदी गई खाघ सामग्री रखते हैं. किचन ऐसी जगह होती है जिसकी साफ-साफई के साथ



बेंगलुरु में स्कूल एनुअल डे फंक्शन पर हुआ ये हादसा हम सबके लिए चेतावनी है

देखिये विडियोबेंगलुरु में स्कूल एनुअल डे फंक्शन पर हुआ भीषण हादसा मौके पर 9 छात्रो की मौत हो गयी चार अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए.



इंटरनेट पर हिन्दी....!

भारत में अंग्रेजी अब इंटरनेट पर प्रयोग में लाई जाने वाली प्रमुख भाषा नहीं रह गई है। बड़े पैमान पर हिंदी और क्षेत्रीय भाषाओं के प्रयोग ने देश में अंग्रेजी के प्रयोग को पछ़ाड दिया है। शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक देशी भाषाओं का प्रयोग साइबर स्पेस में लगातार बढ़ता जा रहा है। हिंदी इनमें सबसे आगे



जानिए, कितना सुरक्षित है बैंक में रखा आपका पैसा बैंक डूब जाने पर

1/ 12पंजाब नेशनल बैंक में हुई बड़ी धोखाधड़ी के बाद यह सवाल लोगों के जेहन में घुमड़ने लगा है कि क्‍या बैंकों में जमा उनके पैसे डूब जाएंगे? महज चंद सप्‍ताह पहले ही अफवाह थी कि बैंक से जुड़े कुछ ऐसे नियम बनने जा रहे हैं, जिससे बैंकों में जमा आम आदमी के पैसे की गारंटी सरकार की नहीं रह जाएगी. और अगर वे प



क्या आप जानते हैं मुँह दिखाई के समय श्री राम ने माता सीता को क्या उपहार दिया था ?

भारत में आज भी मुहं दिखाई की रश्म है, यह रश्म आज की नहीं प्राचीन काल की है. रामायण के अंश में मुहं दिखाई से जुड़ा एक अंश भी है. इस अंश में बताया गया है की श्री राम ने माता सीता को मुहं दिखाई पर क्या दिया था. वैसे तो आप यह जानने के लिए उत्सक हो पर मैं आपको यह बताने से प



इस तस्वीर और वीडियो ने लाखों लोगों का दिल छू लिया ! पूरा वाक्य ही ऐसा है !!!

Highlightsक्या कभी आप निर्वस्त्र घूम रहे बच्चे की मदद के लिए रुके हैं?क्या आप आपने गरीबी और अन्याय पर संवेदनशील हुए हैं?यह तस्वीर इंसानियत को बयां करने के लिए काफी है।आधुनिकता के इस वर्तमान समय में आज इंसान ने भौतिकवाद को ही अपना ख़ास उद्देश्य बना लिया है। इंसानियत कहाँ तक गिर चुकी है, इसका अंदाज़ा लग



ये 10 काम बहुत ज़रूरी है ग्रहण के बाद

चंद्र ग्रहण के दौरान तो कई काम निषेध बताए गए हैं लेकिन ग्रहण खत्‍म होने के बाद इसके नकारात्‍मक प्रभाव खत्‍म करने के लिए भी कुछ उपाय जरूरी हैं -1. सूबह-सुबह स्नान कर के धुले हुए कपड़े ही पहनें।2. ग्रहण के वक्त पहने कपड़ों को किसी गरीब को दान दे देना चाहिए।3. स्नान करने के बाद ही पूजा घर में प्रवेश क



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x