आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
x
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस

नारीशक्ति

नारीशक्ति से सम्बंधित लेख निम्नलिखित है :-

एक बेटी को मार देते हैं

" डाक्टर मैँ एक गंभीर समस्या मेँ हुँ और मै आपकी मदद चाहती हुँ । मैं गर्भवती हूँ, आप किसी को बताइयेगा नही मैने एक जान - पहचान के सोनोग्राफी लैब से यह जान लिया है कि मेरे गर्भ में एक बच्ची है। मै पहले से एक बेटी की माँ हूँ और मैं किसी भी दशा मे दो बेटियाँ नहीं चाहती" -


मानसिकता बदले .........

कुछ दिनों से नगालैंड में जनजातीय संगठनों का विरोध-प्रदर्शन चल रहा है। जिससे निपटने के लिए हुई पुलिस फायरिंग में दो व्यक्तियों की मौत हो चुकी है। अराजकता तथा अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए सरकार ने कुछ शहरी इलाकों में कर्फ्यू , इंटरने


कानपुर के किसोरा राज्य की आत्मबलिदानी राजकुमारी ताजकुंवरी की सच्ची कहानी !!

कानपुर के किसोरा राज्य की आत्मबलिदानी राजकुमारी ताजकुंवरी भारत पर आक्रमण करने के पीछे मलेच्छ आक्रांताओं का उद्देश्य भारत में लूट, हत्या, बलात्कार, मंदिरों का विध्वंस और दांव लगे तो राजनीतिक सत्ता पर अधिकार स्थापित करना था। अत: भारतीयों ने भी इन चारों मोर्चों पर ही अपन


भारत की प्रथम महिला शिक्षिका सावित्रीबाई फुले के जन्मदिवस पर हार्दिक बधाई

वे स्कूल जाती थीं, तो लोग पत्थर मारते थे। उन पर गंदगी फेंक देते थे। आज से 160 साल पहले बालिकाओं के लिये जब स्कूल खोलना पाप का काम माना जाता था कितनी सामाजिक मुश्किलों से खोला गया होगा देश में एक अकेला बालिका विद्यालय।सावित्रीबाई पूरे देश की महानायिका हैं। हर बिरादरी और धर्म के लिये उन्होंने काम किया


महिलाओं को ' हिलाओं ' बनाने में भी पुरुषों का हाथ

जी हाँ, यह अब तक का सबसे बड़ा खुलासा है. खुलासा करने वाली कोई महिला नही बल्कि एक लड़का कर रहा है. यह कोई गलत बात नहीं हैं आपने भी तो देखा ही होगा, ये 'हिलाओं' वाला कारनामा और यह


भारत मे चल रही फैशन प्रतियोगिताओं के पीछे का सत्य जानकार आप भी रह जाएंगे हैरान!

सौन्दर्य प्रतियोगिताओं का असर —मित्रो दस साल पहले भारत से कई विश्व सुंदरियां बनी इसके पीछे विदेशी कंपनियों की सोची समझी साजिश थी .– कई प्रसाधन बनाने वाली कम्पनियां भारत में अपना मार्केट खोज रही थी . पर यहाँ अ


मुस्लिम महिला की स्थिति मजाक

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने तीन तलाक के मुद्दे पर तल्ख़ टिप्पणी करते हुए कहा -''मुस्लिम महिलाओं से क्रूरता है तीन तलाक ''.आरम्भ से हम सुनते आये कि मुसलमानों में बस पति ने कहा ''तलाक-तलाक-तलाक'' और हो गया तल


वर्तमान में महिलाओं पर आधुनिक शिक्षा का प्रभाव

वर्तमान में देखा जाए तो महिलाओं पर आधुनिक शिक्षा का प्रभाव काफी हुआ ,समान्यता आज भी यह माना जाता है कि महिलाएं अपने जीविकोपार्जन के लिए काम नहीं करती और उनके लिए षिक्षा की आवष्यकता नहीं थी । ऐसे बात भक्ती आंदोलन की करें तो उन्हों ने रूच


भावुकता स्नेहिल ह्रदय ,दुर्बलता न नारी की ,

भावुकता स्नेहिल ह्रदय ,दुर्बलता न नारी की ,संतोषी मन सहनशीलता, हिम्मत है हर नारी की ........................................................................भावुक मन से गृहस्थ धर्म की , नींव वही जमाये है ,पत्थर दिल को कोमल करना ,नहीं है मुश्किल नारी की.................................................


नोटबंदी के दौर में मिसाल बनी ये महिला कांस्टेबल, जीत लिया हर किसी का दिल

नोटबंदी और पुराने नोट बदलने के लिए आ रही दिक्कतों के बीच एक महिला कांस्टेबल ने मिसाल पेश की है. इस महिला कांस्टेबल को कैशियर ने गलती से ज्यादा दे दिए थे, जिसे लौटाने के लिए वह दोबारा बैंक पहुंची.महिला कांस्टेबल के ईमानदारी की मिसाल कायम करने का यह मामला मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल का है. यहां कांस्


वायरल हुई सोशल मीडिया पर दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला की तसवीरें, आप भी देखें ! तारीफ किये बिना रह नहीं पाएंगे

खूबसूरती की कोई सीमा नहीं होती और ना ही उसकी कोई परिभाषाी होती है। खूबसूरती आंखों का नजरिया और हमारे दिमाग की सोच है। किसी कोई कोई खूबसरत लगता है तो दूसरे को वो बदसूरत। लेकिन इन दिनों सोशल मीडिया पर एक ऐसी महिला की तस्वीर वाय रल हो गई है, जिसे देखना वाला शख्स उनकी खूबसूरत


असम की पहली महिला आईपीएस अधिकारी जिसने मार गिराया आतंकियों को

यूपीएससी परीक्षा में उसे 85 वें रैंक (पूरे भारतमे)के साथ, “संजुक्ता पाराशर” एक आरामदायक डेस्क काम के लिए चुनी जा सकती थीं। जवाहरलाल विश्वविद्यालय से Ph.Dकरने के बाद औरदो साल बेटे के होने के बावजूद उन्होनें एक कठिन रास्ता चुना जैस्पर चलते हुए वो हर रोज आतंक से लड़ रही


बेटी को तू क्यो मार रहा है ।।

ये केसा दौर आ गया इंसान खुद ही खुद को मार रहा है ।बेटे की अती चाहत में बेटी को तु क्यों मार रहा है ।।अपने मान समान के कारण ग़लत क़दम तु क्यों उठा रहा है ।बेटे की अती चाहत में बेटी को तु क्यो मार रहा है ।।बेटीयॉं घर की लक्ष्मी है पगले बेटीयॉं घर की शान है ।बेटियों की ही बदौलत से तो यह सारा संसार है ।


आदर्श नारी

आदर्श नारी के गुण बखान करती कविता - ******************************************** @@@@@@@@ सुलखण नार @@@@@@@@ ************************************************************ घर -मन्दिर की जो हो देवी ,पूजे जिसको उसका भरतार | जीवन में ही स्वर्ग मिल जाए ,पाकर पत्नी सुलखण नार || जान हो जो अपने बच्चों की ,पत


नारी

नारी , तुम किसकी बराबरी करना चाह रही हो ? नर की , जिसे तुम जन्म देती हो !कुछ बड़ा और अलग करो , देवी ।


नारी

नारी "-ईश्वर की सर्वश्रेष्ठतम कृति ================== ‘नारी तुम केवल श्रद्धा हो विश्वास रजत नग, पग-तल में, पीयूष स्रोत सी बहा करो जीवन के सुन्दर समतल में।' वास्तव में नारी इन पक्तियों को चारितार्थ करती है।नारी श्रद्धा,प्रेम,समर्पण और सौंदर्य का पर्याय है। नारी अमृत तुल्य है क्योंकि वह जीवन देती है,


नारी तुम महान हो

सूर्य में कितनी ऊर्जा है ये उसे नहीं पता ,चन्द्रमा में कितनी शीतलता है ये उसे नहीं पता ,फूल अपनी सुगंध से अवगत नहीं है ,हीरा अपने मूल्य से अंजान है                                                                                                                                                         


नारी

                                                                                                                                                                                                     ईश्वर ने पावन प्रतिमा ऊपर से उतारी है .                                                                


नारी

@@@@@@@@- नारी- @@@@@@@@इस दुनिया की शोभा है , इस दुनिया की रौनक है |खुश रखें सदा इसको ,रचा कुदरत ने है जिसको ||जिसकी दीवानी सृष्टि सारी,वो नारी है कहलाती |बुझे -बुझे मर्दों का मन ,नारी ही तो बहलाती ||घर में पायल खनकाती ,मन का मोर नचवाती |पतली कमर लचकाती ,प्यार में आकर इठलाती ||इस दुनिया की शोभा है


नारी अत्याचार की क्रृरतम कुप्रथाएं

आज पुरुष और नारी समानता का युग होने के बावज़ूद, अभी भी नारी अत्याचार की इतनी घिनौनी कुप्रथाएं मौजूद है कि जिन्हें जानकर आप दाँतों तले उंगली दबा देंगे। नारी अत्याचार की क्रृरतम कुप्रथाएं | आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल


आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
x
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस