आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
x
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस

विज्ञान

विज्ञान से सम्बंधित लेख निम्नलिखित है :-

क्या धर्म बौद्धिकता की अवहेलना करता है?

क्या धर्म बौद्धिकता की अवहेलना करता है? भगवान श्रीकृष्ण गीता में अर्जुन से कहते हैं, साधुजनों के उद्धार के लिये, दुष्कर्म करने वालों का विनाश करने के लिये और धर्म की स्थापना के लिये मैं पल-पल में प्रकट होता हूँ। मैं पूरे विषय को केवल दो पंक्तियों में समाप्त कर सकता हूँ। अगर आप


किसान के बेटे ने सेना के लिए बनाया ऐसा डिवाइस कि अब हजारों मील दूर से भी चलेगा हथियार

कहते है की किसी भी काम की अगर लग्न लग जाती है तो वो काम होकर रहता है चाहे वो काम लोगो को असम्भव लगता हो पर एक बार कोई ठान ले की ये करना है तो पूरी मेहनत के साथ करे तो हमेशा सफलता मिलती है कहते है ना ‘मेहनत का फल मीठा होता है’ ये बात कर दिखाई है कुशीनगर जिले के एक किसान के बेटें ने जिसने एक ऐसी डिवाइ


मोबाइल में क्या होता हैं प्रोसेसर

प्रोसेसर सबसे पहले बात करते हैं की प्रोसेसर क्या होता हैं प्रोसेसर किसी भी डिवाइस का दिमाग होता है जिस प्रकार मनुष्य का दिमाग काम करता हैं उसी प्रकार मोबाइल में प्रोसेसर कार्य करता हैं एक शब्द में कहे तो इसका अर्थ हैं की यूजर द्वारा कही


सुंदर होना बुद्धिमता की निशानी नहीं

हजारों वर्ष पहले का किस्सा है कि सिकंदर के गुरू अरस्तु एक बाग में बैठकर अध्ययन कर रहे थे। एक महिला आई ओर अरस्तु से शादी करने की जिद करने लगी। अरस्तु ने ऐसा करने से साफ मना कर दिया। किंतु महिला नहीं मानी तथा अपनी बात मनवाने को अड़ी रही। अरस्तु ने उससे पूछा कि तुम मेरे साथ शादी क्यों करना चाहती हो। उस


विकास और तरक्की की अंधी दौड़ में ये क्या हो रहा है ?

ये कहाँ आ गए हम ? “फ़रिश्ता बनने की चाहत न करें तो बेहतर है , इन्सान हैं इन्सान ही बन जाये यही क्या कम है !” तारीख़ : 25 अगस्त 2016 स्थान : ओड़िशा के कालाहांडी जिले का सरकारी अस्पताल अमंग देवी टी बी के इलाज के दौर


जाने सूर्योदय से पहले क्यूँ दी जाती है फांसी !

सुजीत कुमार :- हम सब के मन में हमेशा से एक सवाल रहा कि आखिर क्यूँ  किसी अपराधी को सूर्योदय से पहले फांसी दी जाती है। क्या आपने कभी सोचा है कि फांसी का समयसूर्योदय से पेहले का क्यों चुना जाता है। अगर आपका जवाब है नही तो चलिये हम आज आपको बताते है कि अखिर क्या है इसके पीछे का राज।सूर्योदय के बाद एक नया


न ये संयोग हैं, न अपवाद

एण्डले, फ्राँस में एक ऐसा विशाल पत्थर है, जो छोटे-से आधार पर नाचते लट्टू की सी स्थिति में खड़ा है। इसे देखने पर ऐसा लगता है, जैसे यह किसी विद्युत चुम्बकीय शक्ति के प्रभाव से टिका हो। वै ज्ञान िकों ने वहाँ ऐसे किसी बल की सम्भावना की सूक्ष्मता से जाँच-परख की, परखे किसी


Reliance Jio 4G की पूरी जानकारी ( In Hindi )

Reliance Jio 4G आ चूका है पुरे भारत में धूम मचाने. Reliance Jio 4G को 1 सितम्बर 2016 को मुकेश अम्बानी जी ने लांच किया. आपको बता दें Reliance Jio 4G पूरी दुनिया में सबसे सस्ता Tariff Plans लेकर आया है जो मात्र 50 रूपये में 1 GB 4G डाटा उपलब


अब चारों तरफ है इसका शोर

 प्रिसमा! प्रिसमा! प्रिसमा! चारों तरफ इन्टरनेट पर इसका शोर है। फेसबुकऔर ट्विटर जैसे सोशल नेटवर्क साइट्स पर इसकी चर्चा ज़ोर शोर से चल रही है।इस ऐप के माध्यम से आप अपनी शक्ल को एक सुन्दर छवि का रूप दे सकते हैं।किसी चित्रकार से रची तस्वीर के सामान आपकी छवि भी सौंदर्य प्राप्त करेगी।पर ये सिर्फ एक तस्वीर


मेरे सभी लेख हिंदी में

कंप्यूटर तकनिकी ,माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस (एक्सेल, वर्ड, ) टैली इंटरनेट भारतीय संविधान और कंप्यूटर बेसिक हिंदी भाषा मेंक्लिक करे करे इस लिंक पर Tips in Hindi [आई.सी.टिप्स हिंदी ]: मेरी कलम से सभी लेख


हंसी और स्वस्थ्य

यह अच्छी तरह अनुभव कर लिया गया है कि खिलखिलाकर हँसने से अच्छी भूख लगती है, पाचनशक्ति बढ़ती है और रक्त का संचार ठीक गति से होता है ।। क्षय जैसे भयंकर रोगों में हँसना अमृत- तुल्य गुणकारी सिद्ध हुआ है ।। खिल- खिलाकर हँसने से मुँह, गरदन, छाती और उदर के बहुत उपयोगी स्नायुओं को आवश्यकीय कसरत करनी पड़ती है,


इन्सान ही प्रश्न और इन्सान ही उत्तर

उत्तराखण्ड में हो रही‌ तबाही २०१३ के प्रलय की याद दिला रही है| एक तरह से वही विपदा फिर आयी है| देखा जाए तो इसमें अप्रत्याशित कुछ भी नही है| जो हो रहा है, वह बिल्कुल साधारण नही है, लेकिन पीछले छह- सात सालों में निरंतर होता जा रहा है| हर बरसात के सीजन में लैंड स्लाईडस, बादल फटना, नदियों को बाढ और जान-


प्रकृति, पर्यावरण और हम: कुछ कड़वे प्रश्न और कुछ कड़वे उत्तर

पर्यावरण के सम्बन्ध में चर्चा करते हुए हमने कई पहलू देखे| वन, पानी और अन्य प्राकृतिक संसाधनों के संवर्धन के कई प्रयासों पर संक्षेप में चर्चा भी की| कई व्यक्ति, गाँव तथा संस्थान इस दिशा में अच्छा कार्य कर रहे हैं| लेकिन जब हम इस सारे विषय को इकठ्ठा देखते हैं, तो हमारे सामने कई अप्रिय प्रश्न उपस्थित ह


भारतीय ज्ञान विज्ञान

इसी संदर्भ में Vinay Jha ji विनय झा जी की यह पोस्ट संदर्भित है- भारत मे जितने प्राचीन प्रमाणिक ग्रन्थ उपलब्ध हैं उतने शेष संसार में नहीं हैं | यह दूसरी बात है कि म्लेच्छ और उनके मानसपुत्र ऋषियों के ग्रन्थों को प्रामाणिक नहीं मानते | भारत के सभी पुस्तकालय जला दिए गए, मन्दिरों से संलग्न पाठशालाएं मन्


विज्ञान कथा परिवर्तन : दूसरा व अन्तिम भाग

एकाएक उसके दिमाग में एक विचार आया और उसकी ऑंखें चमकने लगीं. उसने एक बार फ़िर मृतक की तलाशी लेनी शुरू कर दी, और जल्दी ही उस व्यक्ति की भीतरी जेब से उसे सिक्के के आकार की एक माइक्रोचिप मिल गई. ये चिप दरअसल किसी भी महत्वपूर्ण व्यक्ति के जिस्म का अनिवार्य अंग होती थी. उस व्यक्ति का समस्त पिछला रिकॉर्ड ,


विज्ञान कथा परिवर्तन : भाग - 1

लेखक - जीशान जैदी बेरोज़गारी के धक्कों ने उसे बेहाल कर दिया था. दो दिन से उसके पेट में एक दाना भी नहीं गया था. मीठे पानी को तो वह बहुत दिन से तरस रहा था, क्योंकि पानी अब बहुराष्ट्रीय कंपनियों की संपत्ति हो चुका था. समुन्द्र का खारा पानी वह किसी तरह पी रहा था. ग्लोबल वार्मिंग की वजह से समुन्द्र में न


"बाग़ बिन पर्यावरण"

"बाग़ बिन पर्यावरण"बुजुर्गों ने अपने हाथों से बाग़ लगाया था गाँव के चारों ओर, याद है मुझे। मेरा गांव बागों सेघिरा हुआ एक सुन्दर सा उपवन था।कहीं से भी निकल जाओं, फलों से मन अघा जाता था। महुआ, जामुन मुफ़्त में मिल जाते थे तोआम, आवभगत के रसीले रस भर देते थे। शीतल हवा हिलोरें मारती थी तो बौर के खुश्बू, हर


विकास की दौड़ की कीमत चुकाता पर्यावरण

        एक आकलन के अनुसार, यदि विश्व का प्रत्येक व्यक्ति एक औसत अमेरिकीजितना संसाधन उपभोग करे तो हमारी पृथ्वी जैसे तीन और ग्रहों की ज़रुरत पड़ेगीअर्थात कुल चार ग्रह. ब्रिटेन के टीवी चैनल आईटीवी पर स्टीफन हॉकिन्स ने आगाह कियाकि जलवायु परिवर्तन करीब सात करोड़ साल पहले के क्षुद्र ग्रहों के उस टकराव से भीज


दुनिया के प्रमुख देशों में पर्यावरण की स्थिति

इस्राएल की बात हमने पीछले लेख में की| इस्राएल जल संवर्धन का रोल मॉडेल हो चुका है| दुनिया में अन्य ऐसे कुछ देश है| जो देश पर्यावरण के सम्बन्ध में दुनिया के मुख्य देश हैं, उनके बारे में बात करते हैं| एनवायरनमेंटल परफार्मंस इंडेक्स ने दुनिया के १८० देशों में पर्यावरण की स्थिति की रैंकिंग की है| देशों म


माँ मैं एक आनुवंशिक वैज्ञानिक हूँ

"माँ, मैं एक आनुवंशिक वैज्ञानिक हूँ। मैं अमेरिका में मानव के विकास पर काम कर रहा हूं। विकास का सिद्धांत, चार्ल्स डार्विन, आपने उसके बारे में सुना है?" वासु ने पूछा। उसकी मां उसके पास बैठी और मुस्कुराकर बोली, “मैं डार्विन के बारे में जानती हूं, वासु। मैं यह भी जानती हूं कि तुम जो सोचते हो कि उसने जो


आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
x
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस