आस्था

आस्था

हे ईश्वर , यदि तुम हो,तो कहो कौनसा अपराध ऐसा हुआ? जिसका दंड ऐसा मिला ?तुमने ही कहा था, पत्ता भी न हिलेगा बिन इच्छा के तुम्हारे, अर्थात किया तो ये तुमने ही है, तनिक भी मन विचलित न हुआ तुम्हारा? कहते हो हम सब तुम्हारे बच्चे हैं, फिर किस तरह तुम इतने निर्दयी हुए? हेईश्व



देव दीपावली :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म की विशेषता रही है कि अपने पर्व / त्यौहारों के माध्यम से मानवमात्र को एक दूसरे के समीप लाता रहा है | यहाँ प्रत्येक महीने में दिव्य त्यौंहारों की एक लम्बी सूची है , परंतु कार्तिक मास इसमें विशेष है | स्वयं में अनेक दिव्य त्योहारों को समेटे हुए कार्तिक मास का आज समापन हो रहा है | जाते हुए द



पंचकोसी परिक्रमा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म के प्रत्येक क्रिया - कलाप धार्मिकता के साथ वैज्ञानिकता भी लिये हुए होते हैं | जिस प्रकार प्रत्येक कार्य का कोई न कोई महत्वपूर्ण कारण होता उसी प्रकार परिक्रमा का भी बड़ा महत्त्व है | परिक्रमा से अभिप्राय है कि सामान्य स्थान या किसी व्यक्ति के चारों ओर उसकी दाहिनी तरफ से घूमना | इसको 'प्रद



परिक्रमा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*कार्तिक मास में अनेकों त्यौहार मनाए जाते हैं | इसी क्रम में कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को वर्ष भर का सर्वोत्तम दिन माना जाता है , और इसे "अक्षय नवमी" का नाम दिया गया है | अक्षय का अर्थ होता है जिसका कभी क्षय (विनाश) न हो | वर्ष पर्यन्त जो धर्मकार्य/व्रत किये जाते हैं उसकी अपेक्षा "अक्षय नवमी



नरकचतुर्दशी एवं हनुमान जयंती :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*कार्तिक महीने की कृष्ण पक्ष में मनाए जाने वाली पंच पर्व का दूसरा दिन अर्थात कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को "नरक चतुर्दशी" के नाम से जाना जाता है | आज के दिन भगवान श्याम सुंदर कन्हैया ने नरकासुर दैत्य का वध करके उसके कारागार से सोलह हजार कन्या , युवती एवं नारियों को मुक्त कराकर एक नया जीवन प्रदा



महिलाओं के लिए ये कैसी लड़ाई जिसे महिलाओं का ही समर्थन नहीं

महिलाओं के लिए ये कैसी लड़ाई जिसे महिलाओं का हीसमर्थन नहीं मनुष्य की आस्था ही वो शक्ति होती है जो उसे विषम से विषम परिस्थितियों से लड़कर विजयश्री हासिल करने की शक्ति देती है। जब उस आस्था पर ही प्रहार करने के प्रयास किए जाते हैं, तो प्रयास्कर्ता स्वयं आग से खेल रहा होता है।क्योंकि वह यह भूल जाता है कि



अहोई अष्टमी :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*कार्तिक मास त्यौहारों एवं पर्वों का महीना है | पूरे महीने नये नये व्रत एवं पर्व इसकी पहचान हैं | अभी चार दिन पहले महिलाओं ने अपने पतियों के दीर्घायु होने के लिए दिन भर निर्जल रहकर "करवा चौथ" का कठिन व्रत किया था | आज फिर अपने परिवार की कुशलता के लिए , विशेषकर अपनी संतान की कुशलता एवं लम्बी आयु के ल



शक्ति के समस्त रूप नारी में ;---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर जब-जब ईश्वर ने अवतार लिया है तब-तब उनकी शक्ति, उनकी माया उनके साथ आई है | यह माया नहीं होती तो अध्यात्म कैसे होता | ईश्वर स्वयं शक्ति को मानते हैं क्योंकि बिना शक्ति के ईश्वर का भी अस्तित्व नहीं है | इसी शक्ति में जब वीर गुण होता है तो यह "महादुर्गा" हो जाती हैं | जब रजोगुण होता है तो



कालरात्रि :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*एकवेणी जपाकर्ण , पूर्ण नग्ना खरास्थिता,* *लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी , तैलाभ्यक्तशरीरिणी।* *वामपादोल्लसल्लोह , लताकण्टकभूषणा,* *वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा , कालरात्रिर्भयङ्करी॥-------* *नवरात्र की सप्तमी तिथि को देवी कालरात्रि की उपासना का विधान है। पौराणिक मतानुसार देवी क



गणेश चतुर्थी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*देवताओं की विचरणस्थली दिव्यभूमि भारत देश में नित्य नये पर्व एवं उल्लास परक त्यौहार होते रहते हैं | जहाँ यह सभी त्यौहार मौसम के अनुकूल होने के साथ प्रासंगिकता सहित सभी देशवासियों को एकता के सूत्र में बाँधने का कार्य करते हैं वहीं लगभग सभी त्यौंहार पौराणिक कथाओं से भी सम्बंधित हैं | इसी क्रम में आज द



हरतालिका (कजली तीज) :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी है | मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना अपनी शक्ति के बल पर | बिना शक्ति के इस संसार में किसी भी कार्य में सफलता नहीं मिल सकती | चाहे वह ज्ञान की शक्ति हो , चाहे विवेक की , शक्ति का होना अनिवार्य है | मनुष्य को शक्ति प्राप्त होती है प्रकृति से , और प्रकृति है क्या ?? प्रक



नवरात्री का वैज्ञानिक महत्व क्या है

हमारे देश में साल भर अलग-अलग प्रकार के उत्सव मनाने की हमेशा से एक परम्परा रही है जैसे कि दिवाली, दशहरा, होली, शिवरात्री और नवरात्रि(Navratri)आदि लेकिन इनमे से कुछ उत्सव को हम रात्रि में ही मनाते है-इनका अगर कोई विशेष कारण न होता तो ऐसे उत्सवों को रात्रि न कह कर दिन ही



समानता की मांग या इस आड़ में कुछ और?

यह बंधु कौन हैं मैं जानती नहीं और इन्होने जो लिखा है उसको पढ़ कर जानने की इच्छा रह भी नहीं गयी। बस ट्विटर पर यह दिखा और मन उद्वेलित हो उठा। क्या सच में यह स्त्रियॉं के लिए समानता की बात कर रहे हैं? क्या इन्हे यह लग रहा है कि राखी बांधने से एक लड़की तथा लड़के में असमानता हो गयी? इनको राखी जैसे पवित्र त्





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x