हिन्दी पुस्तिका " रेलपथ गाइड"

<span lang="HI" style="font-size: 12.0pt;line-height:115%;font-family:&quot;Utsaah&quot;,&quot;sans-serif&quot;">नमस्कार मित्रों, <



क्या आप “अशिमा चटर्जी” के बारे में जानते है ???

अशिमाचटर्जी : आजभी देश में कई जगह ऐसी हैं जहाँ पर लड़कियों को पढ़ाया नहीं जाता है । अगरहम सन् 1920 और 1930कीबात करें तो उस समय लड़कियों क



क्रिकेट इतिहास के “भारतीय दिग्गज”

<!--[if gte mso 9]><xml><w:WordDocument><w:BrowserLevel>MicrosoftInternetExplorer4</w:BrowserLevel><w:DisplayHorizontalDrawingGridEvery>0</w:DisplayHorizontalDrawingGridEvery><w:DisplayVerticalDrawingGridEvery>2</w:DisplayVerticalDrawingGridEvery><w:DocumentKind>Docum



‘वसुधैव कुटुम्बकम’ का भाव रखने वाली एकमात्र संस्कृति ‘भारतीय संस्कृति’

हमारी प्राचीन भारतीय संस्कृति समूचे विश्व की संस्कृतियों में सर्वश्रेष्ठ और समृद्ध संस्कृति है | भारत विश्व की सबसे पुरानी सभ्यता का देश है। भारतीय संस्कृति के महत्वपूर्ण तत्व शिष्टाचार, तहज़ीब, सभ्य संवाद, धार्मिक संस्कार, मान्यताएँ और मूल्य आदि हैं। अब जबकि हर एक की जीवन शैली आधुनिक हो रही है भार



नवसंवत्सर एक नये सफर की शुरूआत

नव संवत्सर नववर्ष नवरात्रि नवभोर , समय है अपनी जड़ों को पोषित करने का समय है आगे बढ़ने का।नवरात्रि अर्थात् शक्ति स्वरूप माँ के नौ रूपों के पूजन के नौ विशेष दिन। वैसे तो नवरात्रि साल में दो बार आती हैं लेकिन चैत्र मास में पड़ने वाली नवरात्रि क



क्‍या हम अपने आप को सर्वश्रेष्‍ठ भारतीय समझते हैं?

यावि‍देशी चश्‍मे से जो हमेंदि‍खाया गया,वहीसही समझते हैं !'मस्‍ति‍ष्‍क-मंथन'राहुलखटे,उपप्रबंधक (राजभाषा),स्टेटबैंक ऑफ मैसूर,हुब्‍बल्‍लीमोबाइल:09483081656E-Mail:rahulkhate@gmail.comवेबसाइट:http://www.rahulkhate.online जबकभी हमें यह प्रश्‍



हिंदी और भारतीय भाषाओं के प्रयोग में तकनीक का योगदान

राहुलखटे,उपप्रबंधक (राजभाषा),स्‍टेटबैंक ऑफ मैसूर,हुब्‍बल्‍लीwww.rahulkhate.onlineआजका युग तकनीक का है,जिसे"टेक्नोयुग"भीकह सकते हैं,इसलिएआपने देखा होगा कि हम प्रत्येककाम में टेक्नोलॉजी का प्रयोगकरते हैं। उ



कोहली (Kohali) तेज़ी से भारत के सबसे सफ़ल कप्तान की सीढ़ी चढ़ने में हर घड़ी रिकॉर्ड बदल रहे हैं

चेन्नई टेस्ट के चौथे दिन जश्न के साथ एक शंका भी थी. नौजवान बल्लेबाज़ को मौका देने के चक्कर में विराट कोहली ने पारी घोषित करने में कहीं देर तो नहीं कर दी. लेकिन पांचवें दिन रवींद्र जडेजा की अगुवाई में भारतीय गेंदबाज़ों ने इन सवालों के जवाब में एक पारी और 75 रनों की विशाल ज



विलुप्त होती भारतीय संस्कृति पैर जमाती विलायती संस्कृति चिंतनीय विषय

वेद पुराणों पर आधारित भारतीय संस्कृति अब विलुप्त होती जा रही है आने वाली पीड़ी पर विलायती संस्कृति हावी होती जा रही है जैसे-जैसे वेद पुराणों पर धूल जमती जा रही है टेलिविजनों पर प्रसारित पश्चिमी संस्कृति युवाओं पर हावी हो रही है भारतीय संस्कृति का विलुप्त होने का ही कारण है घरेलु हिंसा !!!



संस्कृत किसी भाषा की मां नहीं है - दिलीप मंडल

संस्कृत किसी भाषा की मां नहीं है. किसानों ने कभी भी संस्कृत में अपनी फसल नहीं बेची. मछुआरों ने संस्कृत में मछली का रेट नही बताया. ग्वालों ने संस्कृत में दूध नहीं बेचा, सैनिक ने कमांडर से इतिहास में कभी भी संस्कृत में बात नहीं की, किसी मां ने बच्चे को संस्कृत में लोरी नहीं सुनाई, खेल के मैदान में कभी



आईएनएस कर्ण भारतीय नौसेना में शामिल

आईएनएस, ‘भारतीय नौसेना जहाज’ (Indian Naval Ship) हेतु प्रयुक्त संक्षिप्त नाम (Abbreviation) है। भारतीय नौसेना में आक्रमणात्मक एवं रक्षात्मक कार्यों में प्रयुक्त विभिन्न युद्ध पोतों जैसे- विमानवाहक पोतों, विध्वंसक पोतों, पनडुब्बियों, गश्ती पोतों आदि के साथ-साथ विभिन्न आधारों (Bases), हवाई आधारों (Air



टॉप 5 भारतीय महिला हॉकी खिलाड़ी

1980 में जब मास्को में हुए ओलंपिक में पहली बार महिला हॉकी को शामिल किया गया तो भारत की महिला हॉकी टीम भी पहली बार इतने बड़े स्पर्धा में भाग लेने गई थी। भारतीय महिला हॉकी टीम के लिए पहली बार कप्तानी का जिम्मा रूपा सानी ने निभाई थी। भारतीय महिला टीम ने मास्को के ओलंपिक में चौथा स्थान प्राप्त किया था।



भारतीय पञ्चाङ्ग

भरतीय इतिहास तथा सहित्य के ज्ञान के लिये पञ्चाङ्ग की परम्परा जानना आवश्यक है। अतः गत ३२ हजार वर्षों की पञ्चाङ्ग परम्परा दी जाती है। काल के ४ प्रकार, सृष्टि के ९ सर्गों के अनुसर ९ काल-मान, ७ युग तथा उसके अनुसार गत ६२ हजार वर्षों का युग-चक्र है(१) स्वायम्भुव मनु काल-स्वायम्भुव मनु काल में सम्भवतः आज क



69वें भारतीय स्वतन्त्रता दिवस-2015 की हार्दिक शुभकामनायें

Yesterday’s Reflection:स्वतन्त्रता दिवस हम सभी के मन में उमंग और जोश भर देता है। साल के कुछ चुनिंदा दिनों को छोड़ कर हम देशभक्ति या देशप्रेम को एक तरफ रख देते हैं। भारतीयता की भावना सभी में बराबर होती है लेकिन हममे से कुछ एक ऐसे भी हैं जो मानवधिकार या अम्बेडकरवाद की बात करते हैं उनको देश द्रोही या सम



भारत रत्न डॉ भीमराव अम्बेडकर जी के जन्मदिवस पर विशेष-2015

सामाजिक एकता, सामाजिक समानता और भ्रातृत्व के पक्षधर, ज्ञान के प्रतीक, भारतीय लोकतन्त्र के प्रणेता, दलितों के मसीहा, भारत में बुद्ध धर्म के पुनरुद्धार करने वाले प्रबुद्ध विचारक, शिक्षाशास्त्री और समकालीन दार्शनिक भारत रत्न डॉ भीमराव अम्बेडकर जी के जन्मदिवस पर आप सभी को हार्दिक बधाई। बाबा साहेब का जीव



भारत में वैचारिक दरिद्रता

एक बात तो स्पष्ट हो चुकी है की भारत में राजनीतिक पार्टियां अपना स्वरूप बिलकुल स्पष्ट कर चुकी हैं चाहे कोई गांधी के नाम पर राजनीति करे या हिन्दू धर्म के नाम पर। ...लोगों की मूर्खता की वजह से वो सत्ता में तो आ गए हैं लेकिन चरित्रहीन होकर। भाजपा की जनविरोधी नीतियां और आप का बचकानापन यह स्प्ष्ट कर चूका



अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर हार्दिक बधाई

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस हर वर्ष 8 मार्च को विश्व के विभिन्न क्षेत्रों में महिलाओं के प्रति सम्मान, प्रशंसा और प्यार प्रकट करते हुए इस दिन को महिलाओं के आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक उपलब्धियों के उपलक्ष्य में उत्सव के तौर पर मनाया जाता है। यह दिन हमें महिलाओं को दोयम दर्जे से मुक्ति के फलस्वरूप किय



भारतीय युवा और भ्रष्टाचार का भविष्य

भारत देश एक ऐसा देश बनता जा रहा है जो कागजों में तो लोकतान्त्रिक देश कहलाता है पर वास्तविकता देखे तो कुछ और ही नजारा हमारे सामने दीखता है . कुछ तथ्य देखें : पिछले कुछ वर्षों से लगातार इन मुद्दो पे बातचीत हो रही और वर्तमान सरकार बेशर्म और नपुसंक बनकर जनता का शोषण रही है . नेता लगातार घोटाले करते



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x