बॉलीवुड

लंडन हैज फॉलेन ( फिल्म समीक्षा )

फिल्म एक नजर में : लंडन हैज फॉलेन .कुछ अरसे पहले दो फिल्मे एक ही विषय पर आई थी , ओलंपियसहैज फॉलेन ,और रोलेंड एम्मरिक की ‘’व्हाईट हाउस डाउन ‘’ जिनमे अमरीका एवं  व्हाईट हाउस पर हुवा हमला केंद्र में था ,दोनों में से ओलम्पियस हैज फॉलेन शानदार बनी थी , उसी की अगली कड़ी है ‘’लंडन हैज फॉलेन’’कहानी : अमरीकी



हमेशा तुमको चाहा और चाहा कुछ भी नहीं, गीत ही नहीं इसका फिल्मांकन भी बेजोड़

यूं तो शरतचन्द्र चट्टोपाध्याय की अमर कृति देवदास पर बहुत सारी फ़िल्में बनीहैं लेकिन २००२ में शाहरुख़ खान, ऐश्वर्या रॉय और माधुरी दीक्षित की यादगार भूमिकाओंसे सजी फिल्म देवदास प्रख्यात फिल्मकार-निर्देशक संजय लीला भंसाली के शानदारनिर्देशन हेतु याद की जाती है| इस फिल्म का संगीत आज भी अत्यंत लोकप्रिय है|



25 जनवरी 2015

"बॉलीवुड" हमारे नए जनरेशन की बर्बादी का एक बड़ा कारण

हमारे नए जनरेशन की बर्बादी का एक बड़ा कारण "बॉलीवुड" ही है.. पूरी तरह इस्लामिक हो चुके बॉलीवुड में फिल्मों को सुपर-हिट कराने के दो ही तरीके रह गए है एक 'नग्नता' और दूसरा 'हिन्दू धर्म का अपमान' ये 'बॉलीवुड' की ही मेहरबानी है जो 'सन्नी लीओन' नाम की एक वेश्या हमारे देश के युवाओं द्वारा गूगल सर्च में सब



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x