1


शिवजी का ऐसा मंदिर जहां कैदी बनाते हैं बाबा के लिए नाग मुकुट, जानिए ये अद्भुत परपंरा

17 जुलाई से सावन का महीना शुरु हो गया है और सभी शिवजी की पूजा अराधना में लग गए हैं। सभी शिवालयों में शिवभक्तों ने रौनक जमानी शुरु कर दी है और भारत में जितने भी बड़े शिव मंदिर हैं वहां पर भक्तों ने अपनी-अपनी अर्जी लगाना शुरु कर दिया है। ऐसा ही एक मंदिर है वैद्यनाथ धाम (baidyanath dham) जो एक प्राचीन



कलर्स शो के साथ टीवी पर वापसी करने वाली है द्रष्टि धामी

लीविजन दिवा दष्टि धामी, जिसे अंतिम बार सिलसिला बदलते रिश्त का, में देखा गया था वह छोटे पर्दे के लिए तैयार है। IWMBuzz ने जाना है कि अभिनेत्री को जय प्रोडक्शंस द्वारा निर्मित कलर्स शो गठबंधन में देखा जा सकता हैhttps://hindi.iwmbuzz.com/television/news/drashti-dhami-to-retur



Delhi Famous Places in hindi- ये हैं दिल्ली की 10 सुप्रसिद्ध जगह

अगर आप राजधानी दिल्ली में पहली बार आ रहे हैं और पूरी दिल्ली दर्शन का प्रोग्राम बना रहे हैं तो ये लेख आपके लिए हैं हम आपके लिए लेकर आये हैं आपके लिए दिल्ली के सबसे प्रसिद्ध जगहों (delhi famous places) की लिस्ट। तो आइये जानते हैं दिल्ली के सबसे प्रसिद्ध जगह कौन-कौन सी ह



जानें चारधाम यात्रा के दौरान किन बातों का रखें ध्यान

18 अप्रैल को अक्षय तृतीया के दिन गंगोत्री और यमुनोत्री मंदिरों के कपाट खुलने के साथ ही उत्तराखंड की चारधाम यात्रा शुरू हो गई थी, लेकिन केदारनाथ और बदरीनाथ धाम के कपाट 29 अप्रैल रविवार और 30 अप्रैल सोमवार को खुले। चारों मंदिरों के कपाट खुलने के साथ ही आधिकारिक रूप से चार ध



कांवड़ यात्रा

भगवान शिव की आराधना के लिये फाल्गुन की महाशिवरात्रि के पश्चात सावन शिवरात्रि भी बाला भोलेनाथ की आराधना का खास पर्व माना जाता है। सावन माह तो विशेष रूप से भगवान शिव का प्रिया मास माना जाता है। दोनों ही अवसरों



मानव ( मात्रिक छंद ) रे माँ तेरे चरणों में सगरो तीरथ सुरधामा

"मानव " ( मात्रिक छंद ) रे माँ तेरे चरणों में सगरो तीरथ सुरधामा करुणाकारी आँचल में मोहक ममता अभिरामा॥ सुख की सरिता लहराती तेरे नैनों की धारादुख के बादल दूर रहें पानी चाहे हो खारा॥ पीकर उसको जी लेता तेरा लाल निराला है अमृत बूंदे मिल जाती सम्यक स्वाद निवाला है॥ खाकर म



कांधे पर कांवर, जुबां पर 'बोलबम' और थामा बाबा धाम की डगर

न कोई निमंत्रण, न ही कोई बुलावा। न कोई पोस्टर और न ही पम्फलेट का वितरण। न मुनादी और न किसी का आह्वान। बिना किसी अपील और उकसावे के युवा अपने घरों से निकलने को बेताब हैं। कहीं-कहीं से कांवरियों का जत्था रवाना भी हो चुका है। कांधे पर कांवर, गेरुआ वस्त्र पहने, कमर में इलाहाबाद की शान कहा जाने वाला गमछा।





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x