दिल



पास मेरे बैठो ना तुम - शिखा

Paas mere baitho na tum,bahut si baate karni hai,dil ke halat batane hai,Kai sapne sajane hai.Kuchh teri sunni hai, Kuchh meri karni hai,Na sata tu muje itna ,Do pal to muskura aa.Sirf tujse muhobbat hai,fir kyu muje ajmate ho.Tuje hi yaad karti hu,Tujhi se pyar karti hu.Meri zindagi tujse hai,Meri



तुरंत आवश्यकता है !!!

(1) एक इलेक्ट्रिशियन : जो ऐसे दो व्यक्तियों के बीचकनेक्शन कर सके, जिनकी आपस में बातचीत बन्द हो ।(2) एक ऑप्टिशियन : जो लोगों की दृष्टि के साथदृष्टिकोण में भी सुधार कर सके ।(3) एक चित्रकार : जो हर व्यक्ति के चेहरे परमुस्कान की रेखा खींच स



हमारे सैनिक नहीं है जानवर, बंद करो हमारे सैनिको का दुरूपयोग, ये सैनिको पर अत्याचार है

सेकुलरों वामपंथियों को ये तस्वीर बहुत ही अच्छी लग सकती है, और सेक्युलर तत्व इस तस्वीर को फैलाकर बहुत ही ज्यादा खुश हो रहे है, पर ये तस्वीर को देख हमारा खून खौल रहा हैये तस्वीर अत्याचार को दर्शा रही है, और हमारे सैनिक पर अत्याचार हो रहा है, ये तस्वीर कूल बिलकुल नहीं है ये



सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है - पियूष मिश्रा

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में हैदेखना है ज़ोर कितना बाज़ुए-क़ातिल में हैवक़्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमाँहम अभी से क्या बताएँ क्या हमारे दिल में हैसरफ़रोशी की...देख फाँसी का ये फंदा ख़ौफ़ से है काँपताउफ़्फ़ कि जल्लादों की हालत भी बड़ी मुश्किल में हैनर्म स्याही से लिखे शेरों की बातें चुक गईंइ



दिल और दिमाग

दिल और दिमाग की जंग में दिल का साथ देना चाहिए, शायद ज्यादातर लोग इससे सहमत होंगे, किन्तु गीता में इसके विपरीत ही कहा गया है. जब व्यक्ति दिल से सोचता है तो उसमे मोह होता है, अपने और अपनों के प्रति , वो मोह ही मनुष्य को धर्म के



दिल उनके हवाले

ना खुल जाए राज, हमको हमसफ़र बनाया है, छिपाने बेवफाई अपनी यूँ हमसे दिल लगाया है. खूबसूरत है जो वो क्योंकर न बेवफा न होंगे, हो दुनियां दीवानी जिनकी वो ही तो बेवफा होंगे.होते हम भी खूबसूरत तो शायद बेवफा होते, बदसूरती ने ही हमको वफ़ा



इश्क़ और दोस्ती मेरी - ishka aur dosti meri

इश्क़ और दोस्ती मेरीज़िन्दगी के दो जहाँ है, इश्क़ मेरा रूह तोदोस्ती मेरा ईमान है, इश्क़ पे कर दूँ फ़िदाअपनी सारी ज़िन्दगी, मगर दोस्ती पे तोमेरा इश्क़ भी कुर्बान है ।ishka aur dosti meri jaindagi ke do jaha haiishka mera ruh to dosti mera iman haiishka pe kar du faida apni sari jindagimagar dosti pe t



किस हद तक जाना - kis had tak jana

किस हद तक जाना है ये कौन जानता है,किस मंजिल को पाना है ये कौन जानता है । दोस्ती के दो पल जी भर के जी लो,किस रोज़ बिछड जाना है ये कौन जानता है ।kis had tak jana hai ye kaun janta haikis manjil ko pana hai ye kaun janta hai । dosti ke do pal ji bhar ke ji lokis roz bichad jana hai ye kaun janta hai ।



दोस्त समझते हो तो - dost samjhte ho to

दोस्त समझते हो तो दोस्ती निभाते रहना,हमें भी याद करना खुद भी याद आते रहना,हमारी तो हर ख़ुशी दोस्तों से ही है,हम खुश रहें या ना आप यूँ ही मुस्कुराते रहना।dost samjhte ho to dosti nibhate rahnahamen bhi yaad karna khud bhi yaad aate rahnahamari to har khushi doston se hi haihum khush rahen ya na aap yu



हमारी सच्चाई हमारी दोस्ती - hamari sachchai hamari dosti

दुनियादारी में हम थोड़े कच्चे हैं,पर दोस्ती के मामले में सच्चे हैं,हमारी सच्चाई बस इस बात पर कायम है,कि हमारे दोस्त हमसे भी अच्छे हैं।duniyadari men ham thode kachche hainpar dosti ke mamle men sachche hainhamari sachchai bas is baat par kayam haiki hamare dost humse bhi achhe hain।



उल्फत के फ़साने - ulfat ke fasane

होंठों पे उल्फत के फ़साने नहीं आते,जो बीत गए फिर वो ज़माने नहीं आते,दोस्त ही होते हैं दोस्तों के हमदर्द,कोई फ़रिश्ते यहाँ साथ निभाने नहीं आते।honthon pe ulfat ke fasaane nahi aatejo beet gaee fir wo zamane nahi aatedost hi hote hain doston ke hamdardkoi farishte yaha sath nibhane nahin aate।



तूफानों का साहिल दोस्ती - tufano ka sahil dosti

ज़िंदगी के तूफानों का साहिल है दोस्ती,दिल के अरमानों की मंज़िल है दोस्ती,ज़िंदगी भी बन जाएगी अपनी तो जन्नत,अगर मौत आने तक साथ दे दोस्ती।zindagi ke tufano ka sahil hai dostidil ke armaano ki manzil hai dostizindagi bhi ban jayegi apni to jannatagar maut aane tak sath de dosti।



दोस्ती खूबसूरत एहसास - dosti khubsurat ehsas

दोस्ती दर्द नहीं खुशियों की सौगात है,किसी अपने का ज़िंदगी भर का साथ है,ये तो दिलों का वो खूबसूरत एहसास है,जिसके दम से रोशन ये सारी कायनात है।dosti dard nahin khushiyon ki saugat haikisi apne ka zindagi bhar ka saath haiye to dilon ka wo khubsurat ehsas haijiske dam se roshan ye sari kaynat hai।



दोस्ती की खातिर - dosti ki khatir

अपनी ज़िंदगी के कुछ अलग ही उसूल हैं,दोस्ती की खातिर हमें काँटे भी क़बूल हैं,हँस कर चल देंगे काँच के टुकड़ों पर भी,अगर दोस्त कहे यह दोस्ती में बिछाये फूल हैं।apni zindagi ke kuch alag hi usul haindosti ki khatir hamen kaante bhi kabul hainhans kar chal denge kach ke tukadon par bhiagar dost kahe yah dos



दोस्ती बड़ी इबादत - dosti badi ibadat

रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी,दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी,जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा,उसे ज़िंदगी से कोई और शिकायत क्या होगी।rishton se badi chahat aur kya hogidosti se badi ibadat aur kya hogijise dost mil sake koi aap jaisause zindagi se koi aur shikayat kya hogi।



मुस्कराहट मोल नहीं - muskarahat mol nahin

मुस्कराहट का कोई मोल नहीं होता,कुछ रिश्तों का कोई तोल नहीं होता,लोग तो मिल जाते है हर मोड़ पर लेकिन,हर कोई आपकी तरह अनमोल नहीं होता।muskarahat ka koi mol nahin hotakuch rishton ka koi tol nahi hotalog to mil jate hai har mod par lekinhar koi aapki tarah anmol nahin hota।



सादगी पर दोस्ती शायरी - sadgi par dosti shayari

सादगी अगर हो लफ्जो में यकीन मानो,प्यार बेपनाह,और दोस्त बेमिसाल मिल ही जाते हैं ।sadgi agar ho lafjo me yakin manopyar bepnahaur dost bemisaal mil hi jate hain ।



दोस्तो पर भरोसा शायरी - dosto par bharosa shayari

हमने अपने नसीब से ज्यादा,अपने दोस्तो पर भरोसा रखा है,क्यूँ की नसीब तो बहुत बारबदला है...लेकिन मेरे दोस्त अभी भी वही है।hamne apne nasib se jyadaapne dosto par bharosa rakha haiku ki nasib to bahut baar badla hai... lekin mere dost abhi bhi wahi hai।



सवाल दोस्ती का नहीं - sawal dosti ka nahin

सवाल पानी का नहीं . सवाल प्यास का है सवाल सांसो का नहीं . सवाल मौत का है दोस्त तो दुनिया में बहुत मिलते है सवाल दोस्ती का नहीं . सवाल ऐतवार का है sawal pani ka nahin . sawal pyaas ka hai sawal saanso ka nahin . sawal maut ka hai dost to duniya men bahut milte hai sawal dosti ka nahin . sawal aitwaar



अनमोल लोगो से दोस्ती - anmol logo se dosti

खुश हूँ और सबको खुश रखता हूँ,लापरवाह हूँ फिर भी सबकी परवाहकरता हूँ..मालूम है कोई मोल नहीं मेरा,फिर भी,कुछ अनमोल लोगो सेदोस्ती रखता हूँ।khush hu aur sabko khush rakhta hulaparvah hu fir bhi sabki parwah karta hu.. malum hai koi mol nahin merafir bhikuch anmol logo se dosti rakhta ho।



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x