दुआ



मौन दुआएँ अमर रहेंगी !

श्वासों की आयु है सीमितये नयन भी बुझ ही जाएँगे !उर में संचित मधुबोलों केसंग्रह भी चुक ही जाएँगे !संग्रह भी च



बदल गया सुखदुआ समाज

किन्नर से बने सुखदुआ | SUKHDUA SAMAJहारमोनल इनबायलेंस के कारण आयी एक बीमारी की वजह से हमारा समाज हमेशा ही उन्हें कौतुहल से देखता आया है। सैंकड़ो-हजारोंं वर्षों से उपेक्षित इस समाज को किन्नर, हिजड़ा, छकका और भी न जाने किन-किन नामों से पुकारा जाता रहा लेकिन डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां ने 14 नवंब



दिल दुआ देगा - dil dua dega

जब कभी दिल दुआ देगा,तो नफरत को मिटा देगा,ये बेचारा इंसान क्या देगा,जो भी देगा खुदा देगा।jab kabhi dil dua degato nafrat ko mita degaye bechara insan kya degajo bhi dega khuda dega।



मेरे हक़ में दुआ - mere hak men dua

न जाने किसने पढ़ी है मेरे हक़ में दुआ,आज तबियत में जरा आराम सा है।n jane kisne padhi hai mere hak men duaaaj tabiyat men jara aram sa hai।



दिल से दुआ करते हैं - dil se dua karte hain

हम दुआओं में दिल से दुआ करते हैं,हाथ फैलाये रब से इल्तज़ा करते हैं,उन पर गम का साया न आने पाए,जो दिल से हमें अपना कहा करते हैं।ham duaaon men dil se dua karte hainhath failaye rab se iltajaa karte hainun par gam ka saya n ane payejo dil se hamen apna kaha karte hain।



कामयाबी के शिखर पर - kamyabi ke shikhar par

कामयाबी के हर शिखर पर तुम्हारा नाम होगा,तुम्हारे हर कदम पर दुनिया का सलाम होगा,हिम्मत से मुश्किलों का सामना करना दोस्त,दुआ है कि वक़्त एक दिन तुम्हारा गुलाम होगा।kamyabi ke har shikhar par tumhara naam hogatumhare har kadam par duniya ka salam hogahimmat se mushkilon ka samna karna dostdua hai ki va



बस एक ही दुआ - bas ek hi dua

ज़िंदगी में न कोई राह आसान चाहिए,न कोई अपनी ख़ास पहचान चाहिए,बस एक ही दुआ माँगते हैं रोज भगवान से,आपके चेहरे पे प्यारी सी मुस्कान चाहिए।jindagi men n koi raah aasan chahiyen koi apani khas pahachan chahiyebas ek hi dua mangte hain roj bhagwaan seaapke chehre pe pyari si muskan chahiye।



तेरी आरज़ू बदल जाये - teri arzu badal jaye

तेरी दुआ से कज़ा तो बदल नहीं सकती,मगर है इस से यह मुमकिन कि तू बदल जाये,तेरी दुआ है कि हो तेरी आरज़ू पूरी,मेरी दुआ है तेरी आरज़ू बदल जाये।teri dua se kaja to badal nahin saktimagar hai is se yah mumkin ki tu badal jayeteri dua hai ki ho teri aarzu purimeri dua hai teri arzu badal jaye।



तुम्हारे प्यार की दास्तां - tumhare pyar ki dastan

तुम्हारे प्यार की दास्तां हमने अपने दिल में लिखी है,न थोड़ी न बहुत बे-हिसाब लिखी है,किया करो कभी हमे भी अपनी दुआओं में शामिल,हमने अपनी हर एक सांस तुम्हारे नाम लिखी है।tumhare pyar ki dastan hamne apane dil men likhi hain thodi n bahut be-hisab likhi haikiya karo kabhi hame bhi apni duaaon men shamilh



भूल न जाऊं माँगना - bhul n jaun maangna

भूल न जाऊं माँगना उसे हर नमाज़ के बाद,यही सोच कर हमने नाम उसका दुआ रक्खा है।bhul n jaun maangna use har namaz ke baadyahi soch kar hamne naam uska dua rakkha hai।



पलभर की भी तन्हाई - palbhar ki bhi tanhai

पलभर की भी तन्हाई तुम्हें नसीब ना हो,कोई भी गम तुम्हारे करीब ना हो,रब तुम्हारी ज़िन्दगी में इतनी खुशियाँ दे,कि तुमसे बढ़कर कोई खुशनसीब ना हो..palbhar ki bhi tanhai tumhen nasib na hokoi bhi gam tumhare karib na horab tumhari jindagi men itni khushiyan deki tumase badhakar ko khushnasib na ho..



मेरी दुआ खाली - meri duaa khali

लौट आती है हर बार मेरी दुआ खाली,जाने कितनी ऊँचाई पर खुदा रहता है। laut aati hai har baar meri duaa khalijaane kitni unchai par khuda rahta hai।



दुआ है इमरोज़ को इमरोज़ मिले

जन्मदिन की शुभकामनाओं के साथ फिर एक बार अपनी सोच दे रही हूँ ...अमृता का तोहफा तो यूँ भी तुमने खुद ही अपने सिरहाने रख लिया है जिल्द तुम्हारे अद्भुत रंगों का वर्तमान की हर करवट हौज़ ख़ास सी बातों में वही कमरा वही छत वही कबूतर वही दाने !.... परे इस सत्य के मैं तुम्हारे ही अंदर की बंद घड़ी की व्यथा तुम्हें



दर्द को तो दुआओं ने कम कर दिया,

दर्द को तो दुआओं ने कम कर दिया,एक गहरा सा दिल में ज़ख्म कर दिया।बस सुलगता रहा रात दिन आदमीं ,दिल के रिश्तों ने दिल को ख़त्म कर दिया।जल गए रास्ते खो गईं मंज़िलें रुख़ हवाओं ने अपना गरम कर दिया। हाथ खाली हैं भरलो दुआ दोस्तों,लो मुक़द्दर ने पूरा करम कर दिया। ना रुकेगा कहीं कारवां वक़्त का,अब तुम्हारे हवाले ध



देकर दुआएँ आज फिर हम पर सितम वो कर गए

Hindi Sahitya Kavya Sanklan provides free publishing opportunity to poets to write their poems in hindi, OR hindi kavita and hindi poems for kids Hindi Sahitya | Hindi Poems | Hindi Kavita | hindi poems for kids



जब दिन भी थे 'इन्द्रधनुष '

आ -आ के मेरे गांव से ठंडी हवाएँ पूछती हैं ,लौटकर आये ना क्यों ?ये सूनी रहें पूछती हैं |तुम गए मौसम गए ,सावन की वो पुरवायां,आम की डाली से ,झूलों की पलायें पूछती हैं |गोरियाँ पनघट पे अब भी,राह तकती हैं तेरी,पायलों से पांव की से ,रूठी अदाएं पूंछती हैं |गूंजते पगडंडियों में, वो सुरीले प्रेमगीत,फूल,पत्



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x