भाद्रपद पूर्णिमा का महत्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव जीवन में जल का बहुत बड़ा महत्व है | बिना जल के जीवन की संकल्पना भी नहीं की जा सकती | जिस प्रकार जीवन में जल का महत्व है उसी प्रकार बारह महीनों में भाद्रपद मास का भी बहुत बड़ा महत्व है क्योंकि जल वर्षा का मुख्य समय भाद्रपद मास ही है | वर्ष की बारह महीनों में यदि भाद्रपद मास में जल वर्षा न हो तो



कुशोत्पाटिनी अमावस्या :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में प्रत्येक माह के प्रत्येक दिन या प्रत्येक तिथि को कोई न कोई पर्व या त्यौहार मनाया जाता रहा है , यह सनातन धर्म की दिव्यता है कि वर्ष भर नित्य नवीन पर्व मनाने का विधान बनाया गया है | इसी क्रम में भाद्रपद कृष्ण पक्ष की अमावस्या को एक विशेष पर्व मनाने का विधान हमारे सर ग्रंथों में वर्णित



उपदेश सूत्र

*श्रीमते रामानुजाय नमः**श्रीगोदम्बाय नमः**चीराणि किं पथि न सन्ति दिशन्ति भिक्षां* *नैवाङ्घ्रिपाः परभृतः सरितोऽप्यशुष्यन् ।**रुद्धा गुहाः किमजितोऽवति* *नोपसन्नान् कस्माद्भजन्ति कवयो धनदुर्मदान्धान्*पहनने को क्या रास्तों में चिथड़े नहीं हैं? रहने के लिए क्या पहाड़ो की गुफाएँ बंद कर दी गयी हैं? अरे भाई !



श्री हन्मान चालीसा (तात्त्विक अनुशीलन) भाग - १ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *भाग - प्रथम* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️प्रातःस्मरणीय , परमपूज्यपाद , कबिकुल शिरोमणि , गोस्वामी तुलसीदा



वृक्षों का आध्यात्मिक एवं वैज्ञानिक महत्व

वृक्षों का आध्यात्मिकएवं वैज्ञानिक दोनों ही दृष्टि से विशेष महत्व है ये जहां विभिन्न त्योहारोंतिथियों पर पूजे जाते हैं वहीं विज्ञानइनके फल, फूल, मूल एवं छाल का प्रयोग कर नित नए अनुसंधान करनेमें लगा हुआ है जिनसे की अनेक जानलेवाबीमारियों से हमारी रक्षा हो सके।मानव शरीर में शायद हीऐसा कोई रोग हो जिसक



विद्या :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरा धाम पर ब्रह्मा जी ने अनेकों प्रकार की सृष्टि की जिससे कि मानव जीवन सुगमता से व्यतीत हो सके | ब्रह्मा जी को चतुर्मुख कहा जाता है | ब्रह्मा जी ने अपने चारों मुख से मनुष्य के जीवन निर्वाह के लिए चार प्रकार की विद्याओं का सृजन किया वेदव्यास जी महाराज श्रीमद्भागवत महापुराण में लिखते हैं :--- "आन्



देखि न सकइं पराइ विभूती :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर मनुष्य सभी प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ कहा जाता है | अपने गुणों से मनुष्य ने यह श्रेष्ठता स्थापित करके स्वयं को सिद्ध भी किया है | आदिकाल से मनुष्य आपसी सामंजस्य , प्रेम एवं भाईचारा बनाकर एक दूसरे का सहयोग करता चला आया है | जहां समाज में एक दूसरे का हित चाहने वाले देखे जाते हैं जो दूसरो



बाग बगीचे याद आए तो सही।

चलो बाग याद आये तो सही जलियावाला बाग के बाद से अब जुबा पर फिर से बाग निकलने लगे है। पेड़ पौधों के न सही महिला पुरषो के झुंड ही सही खुशबू न सही बेरोजगारी की मांग ही सही। पहले इंसान के बगीचे में फल फूल दिखाई देता था। अब होनहार युवा मासूम बचपन दिखाई देता है। पहले का इंसान



सूर्यग्रहण :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारे देश भारत का मार्गदर्शन आदिकाल से धर्मग्रन्थों ने किया है | इतिहास एवं पुराण के माध्यम से हम पूर्वकाल में घटित हो चुकी घटनाओं के विषय में जानकारी प्राप्त करते हैं | अनेक ऐसी घटनायें , देवी - देवता , भगवान , अवतार , पीर - पैगम्बर एवं महापुरुषों को किसी ने नहीं देखा है परंतु उनमें श्रद्धा एवं वि



भविष्य की आवाज।

भविष्य की आवाज।जुबा चुप ही सही सत्य बोलताहैं, गरीब ही अमीरी को जानता हैं।लम्हे कितने भी दुख भरे होजीवन की राह मे, चलते रहो मंजिल की तरफ। जिसे मजदूर अपनी जरूरत समझताहैं, अमीर उसे अपना सौक समझता हैं।मोटा दाना खाने वाले को दिमागसे मोटा कहते हैं,चना खाकर घोड़ा दौड़ता हैं।मक



अब महिला सम्मान को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाए ।

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w



नौ रसों की गाथा

बिना मिठास के फल ही क्या ?बिना रस के काव्य की रचना ही कैसे हो भला.चलो रस भरते है जीवन में, काव्य रचते है रंग बिरंगे से हम.प्रेम रस के रूप अनेकश्रृंगार, वात्सल्य, भक्ति का का होता संचार.कभी मिलन है तो कभी विरह है, श्रृंगार रस.कभी कृष्ण तो कभी राधा है इसका दूसरा नाम.कभी ममत



26/11 आतंकी हमलाः जब दहल उठा था आर्थिक राजधानी मुंबई, जानिये इससे जुडी ख़ास बातें

26 नवम्बर 2008 को मुंबई में हुई आतंकी हमले(attack for 26 11) के 11 साल पूरे हो गए. इस बड़े आतंकी हमले(26/11 attack on mumbai) में पकिस्त्तान से आये आतंकवादियों ने 160 से ज्यादा बेक़सूर लोगों को मौत के घाट उतार दिया, जबकि लगभग 300 लोग घायल हुए



प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना : PM Kisan Samman Nidhi Yojna

प्रिय पाठक, यह पोस्ट प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना ( pm kisan samman nidhi yojna ) से सम्बन्धित है. इस पोस्ट में हम इस योजना से सम्बन्धित सारी जानकारी आपसे साझा करेंगे जैसे कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना क्या है? योजना ( pm kisan yojana ) का लाभ उठाने के ल



संस्कृति का सच और अश्लीलता पर हल्ला

(जो देश चांदतारों, मंगल पर पहुंच कर इठला रहे हैं,विज्ञान के नए-नए आविष्कार कर देश के लिए खुशियां समेट रहे हैं,उन की तुलना में हम कहां हैं ? पढ़ कर आप कीआंखें खुली की खुली रह जाएंगी ।)अधिकतरभारतीय जानते ही नहीं कि, संस्कृति है क्या ? जिसे वे अपनी संस्कृति बता रहेहैं, क



लव रिलेशनशिप -: 8 नवम्बर से इन दो राशियों को मिलेगी अपनी अधूरी मोहब्बत

मकर राशिकल ८ नवंबर २०१९ मकर राशि वाले जातको के लिए बड़ा शुभ दिन है | इन राशि वालो को कल अपना सच्चा प्यार मिल सकता है जो आपकी भावनाओं की कद्र करेगा | जो आपके दुःख और सुख में आपका साथ देगा| आपके जीवन के अटके सभी कार्य में सफलता प्राप्त होगी| संतान की सफलता से आपका मन अत्यधिक



१२ वर्षों बाद होगा अद्भुत चमत्कार, इन ८ राशियों को मिलेगा फल

लगभग १२ वर्षो के बाद शनि और बृहस्पति का मिलन एक ही राशि में होता है | इस बार गुरु की राशि धनु में वर्षो के बाद यह मिलन होगा | धनु राशि में पहले से शनि और केतु विद्यमान हैं | और बृहस्पति के अजाने के बाद तीनो गृह एक साथ हो जायेंगे| इस संयोग पर राहु और मंगल की दृष्टि पूर्ण र



देवउठनी एकादशी २०१९ - देवउठनी एकादशी का विशेष महत्व और मुहूर्त

हिन्दू धर्म में बहुत सारे पर्व और त्योहार मनाये जाते है | उसी तरह हिन्दू धर्म में देवउठनी एकादशी का बहुत महत्व होता है | यह पर्वे शुक्ल पक्ष की एकादशी को देव जागरण के रूप में मनाया जाता है | इस बार यह पर्वे ८



क्यों बेअसर हो जाते है मोटिवेशनल विचार कुछ वक्त बाद ?

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC



छठ व्रत पूजा 2019 - इन चार अर्घ्य से होती यह खास पूजा

छठ पूजा चार दिवसीय व्रत है, यह व्रत कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से प्रारंभ होकर कार्तिक शुक्ल सप्तमी को समाप्त होता है यह व्रत ३६ घंटे का होता है इस व्रत के दौरान व्रतधारी पानी भी ग्रहण नहीं करते|इस व्रत में छठी मै



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x