hindi



योग के आसन

योग का अर्थ एकता या बांधना है। इस शब्द की जड़ है संस्कृत शब्द युज, जिसका मतलब है जुड़ना। ... व्यावहारिक स्तर पर, योग शरीर, मन और भावनाओं को संतुलित करने और तालमेल बनाने का एक साधन है। (yoga in hindi) के आसन, प्राणायाम और मुद्रा का नियमित अभ्यास से शारीरिक, मानसिक और आ



03 अप्रैल 2021

Android download manager

आज मैैं आपको स्मार्टफोन पर हिन्दी site देखने एंव पढ़ने के लिए बता रहा हूँ कुछ एंड्रॉयड फोन पर हिन्दी साइट को पढ़ने मे मुश्किल हो जाती हैं आइये द…Read more§ Hinditechtrick



29 मार्च 2021

how i can read hindi alphabat

how i can read hindi alaphabat



27 मार्च 2021

Hinditechtrick

Technology related tips trick tech news hindi site Hinditechtrick आज मैैं आपको स्मार्टफोन पर हिन्दी site देखने एंव पढ़ने के लिए बता रहा हूँ कुछ एंड्रॉयड फोन पर हिन्दी साइट को पढ़ने मे मुश्किल हो जाती हैं आइये द…Read more§ Hinditechtrick



कभी टूटे हौंसला तो ये 51 मोटिवेशनल कोट्स ज़रूर पढ़ लेना

नमस्ते दोस्तो हम आपके लिए लाए है, बेस्ट मोटिवेशनल कोट्स हिंदी में जो आपको जीवन में सफल होने के लिए प्रेरित करेगा। Best Motivational thoughts in Hindi that will inspire you to succeed in life.



ऊधौ मोहिं ब्रज बिसरत नाहीं संदर्भ, प्रसंग सहित व्याख्या । Udhav Mohi Braj Bisrat Nahi Soordas Ke Padp । Up Board Hindi 10th Syllabus

इस देख को पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें - Udhav Mohi Braj Bisrat Nahi Soordas Ke Pad Explanation



शब्दों की माला

शब्दों की मालाशब्दजब तक मुझको न था उचित ज्ञान,शब्दों के प्रयोग से थी मैं अनजान,न था इन पर मेरा तनिक ध्यान,न ही थी इनकी मैं कद्रदान।मंडराते थे ये मेरे आसपास,छोड़ते न थे कभी मेरा ये साथ,इनको मुझसे थी यही एक आस,कभी तो इनका मुझे होगा एहसास।धीरे से मुझे इनसे प्यार हुआ,इन शब्दों



बैरी चाँद

मोरी अटरिया पे ठहरा ये “बैरी चाँद”देखो कैसे मोहे चिढायेदूर बैठा भी देख सके है मोरे पिया कोमोहे उनकी एक झलक भी न दिखाए .. कभी जो देखूं पूरा चाँद, याद आती है वो रातजब संग देख रहा था ये बैरी, हम दोनों को टकटकी लगाये … बिखरी थी चांदनी पुरे घर में, रति की किरण पड़ रही थी तन मन मेंऔर खोये थे हम दोनो, घर क



इंतज़ार

लहरें होकर अपने सागर से आज़ादतेज़ दौड़ती हुई समुद्र तट को आती हैं ,नहीं देखती जब सागर को पीछे आतातो घबरा कर सागर को लौट जाती हैं ,कुछ ऐसा था मेरा प्यारखुद से ज्यादा था उसपे विश्वास,के मुझसे परे, जहाँ कही भी वो जायेगाफिर लौट कर मुझ तक ही आएगा ,इंतजार कैसा भी हो सिर्फसब्र और आस का दामन थामे ही कट पाता है



बंदिशें

"इस तन पर सजती दो आँखेंबोलो किस से ज्यादा प्रेम करोगे,काटना चाहो अपना एक हाथतो बोलो किस हाथ को चुनोगे "कुछ ऐसा ही होता है बेटी का जीवनसब कहते उसे पराया धनबचपन से ही सीखा दिए जाते हैंबंदिश में रहने के सारे फ़नएक कोख एक कुटुंब में जन्मेंफिर भी क्यों ये बेगानापन ?कुछ ऐसी थी उसकी कहानीजो थी महलों की रानी



ताबीर

शीर्षक :- ताबीरमहज़ ख़्वाब देखने से उसकी ताबीर नहीं होतीज़िन्दगी हादसों की मोहताज़ हुआ करती है ..बहुत कुछ दे कर, एक झटके में छीन लेती हैकभी कभी बड़ी बेरहम हुआ करती है …नहीं चलता है किसी का बस इस परये सिर्फ अपनी धुन में रहा करती है ..न इतराने देगी तुम्हें ये, अपनी शख्सियत



अरमान

अरमान जो सो गए थे , वो फिर सेजाग उठे हैंजैसे अमावस की रात तो है , परतारे जगमगा उठे हैं…बहुत चाहा कि इनसे नज़रें फेर लूँपर उनका क्या करूँ,जो खुद- ब – खुद मेरे दामन में आ सजे हैं ….नामुमकिन तो नहीं पर अपनी किस्मत पेमुझे शुभा सा है,कही ऐसा तो नहीं , किसी और के ख़तमेरे पते पे आने लगे हैं …जी चाहता है फिर



कोविड की तानाशाही...

कोविड की तानाशाहीहम कहते हैं बुरा न मानोमुँह को छिपाना जरूरी हैअपनेपन में गले न लगाओदूरियाँ बनाना जरूरी हैकोरोना महामारी तोएक भयंकर बीमारी हैकहने को तो वायरस हैपर छुआछूत बीमारी हैहट्टे कट्टे इंसानों पर भी एक अकेला भारी हैआँख मुँह और नाक कान सेकरता छापेमारी हैएक पखवाड़े के भीतर हीअपना जादू चलाता हैकोर



वक़्त अच्छा हो तो....

वक्त अच्छा हो तो….कोरोना काल में अंतर्मन ने पूछा -इस दुनिया में तुम्हारा अपना कौन है..?सवाल सुनते हीएक विचार मन में कौंधामाँ-बाप, भाई-बहन, पत्नी…बेटा - बेटी या फिर मित्र..किसे कहूँ अपना..?यदि वक़्त अच्छा हो तोजो अदृश्य हैसर्वशक्तिमान हैसर्वव्यापी हैवो भी अपना है तब सब कुछ ठीक है।वक़्त अच्छा हो तोमाँ-ब



Clickan Lyrics Babbu Maan Song

सानू नी Clickan पेंदीयां सानू हुन्दे नी View सरकार ऐ खाड़ेयां दा कठ दस दा खाड़ेयां दा कठ दस दा कौन किने कू पानी च मुटियारे सानू नी Clickan पेंदीयां Full Song Lyrics Click Here



_नशीली चीजों की लत क्यों लगती है_हिंदी और अंग्रेजी में

आज का विज्ञान _नशीली चीजों की लत क्यों लगती है_आनंद, फिर ललक, और फिर उसके बिना ना रह पाने की हालत विज्ञान की नजर से देखिए कि किसी भी नशीली चीज की लत क्यों लग जाती है। किसी भी तरह का नशा हो, उसकी लत लग ही जाती है। ऐसा सोचने वाले हमेशा गलत साबित होते हैं जो पहले तो अपनी मर्जी से कोई



Dua Ban Ja Song Lyrics – Akhil Sachdeva & Harshdeep Kaur Song

क्यूँ लगे तू सामने हैं सच तो है की तू जा चुकी है रूह मे अब भी तू बसी है जाने जा Read More Full Lyrics Click Here



Samjhawan Song Lyrics – Humpty Sharma Ki Dhulhania Song Lyrics

नहीं जीना तेरे बाजू नहीं जीना नहीं जीना मैं तेनु समझावां की ना तेरे बिना लगदा जी मैं तेनु समझावां की ना तेरे बिना लगदा जी Read More Full Lyrics



Channa Mereya Song Lyrics – Arijit Singh

अच्छा चलता हूँ दुआओं में याद रखना मेरे जिक्र का जुबां पे स्वाद रखना दिल के संदूकों में मेरे अच्छे काम रखना चिट्ठी तारों में भी मेरा तू सलाम रखना Read More Full Lyrics



Kabira Song Lyrics in Hindi – Yeh Jawani Hai Deewani Song Lyrics

कैसी तेरी खुदगर्जी ना धुप चुने ना छांव कैसी तेरी खुदगर्जी किसी ठोर टीके ना पाऊँ कैसी तेरी खुदगर्जी ना धुप चुने ना छांव कैसी तेरी खुदगर्जी किसी ठोर टीके ना पाऊँ Read More Full Lyrics Click Here



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x