इस



विश्व में ‘‘लाॅकडाउन की नीति’’ कहीं ‘गलत’ व ‘‘असफल’’ तो सिध्द नहीं हो रही है?

‘‘कोरोनावायरस’’ ‘‘(कोविड़-19)’’ के संक्रमण को रोकने के लिये कमोवेश पूरे विश्व में लाॅकडाउन की नीति अपनाई, जिसके परिणाम स्वरूप आज विश्व के लगभग 200 देशों की आधी से ज्यादा आबादी घर में कैद है, और आर्थिक रथ का चक्का जाम हो गया हैं। इसके बावजूद कमोवेश कुछ को छोड़कर प्रायः हर देश में संक्रमित मरीजों की संख



bangalorepartner

BangaloreCall Girls - We havebeen pioneers in the industry of Call Girls. So if you people have been always looking forIndia's best Call Girls in Bangalore then you have arrived an excellent place where youwould get pretty cute and chubby list of call girl who are eager to meet you inyour private pl



कोरोना का कहर

मनुष्य पर छाई है छिपी अंधेरा, रूप धारण कर वाईरस कोरोना ।इसका अर्थ है मनुष्य पर भारी , क्योंकि है ये महामारी ।अब मानव की दशा क्या होगी ?क्या कोरोना की विदाई होगी ?देख दृश्य मन विचलित हो उठता, क्या यही है सभ्य की कृपा ।क्या यह , मानव जीवन सिहर उठेगा ?या संसार पुनः हिलस उठेगा ?



जीवन: आरंभ या शून्य

ज़िन्दगी मुश्किल कब होती है? क्या तब जब आप जीवन के संघर्षो से लड़ते - लड़ते थक जाते है? या तब जब सारी मुश्किलें जाले की तरह साथ में आपको फांस लेती है?या फिर तब जब जीवन में आपके साथ कोई नहीं होता और आपको अपनी लड़ाई खुद लड़नी होती है? मेरे ख्याल से नहीं; इन सारी दुविधाओं से



साधुओं की हत्या

वीर भूमि पर संतों की निर्मम हत्या के हृदय विदारक कुकृत्य पर इनके परशुराम व दुर्वासा जैसे रौद्र स्वरूप का आह्वान करता हूँ ताकि इन नीच प्रवृत्तियों के दानवों का संहार हो सके !! नियति इन क्रूर पापियों को उनके कृत्यों की प्रबल यातना से भी दुष्कर दंड दे व ईश्वर जूना अखाडे के दिवंगत साधुओं को अपने श्रीचरण



राइस ब्रान आयल के फ़ायदे और उपयोग

भारतीयों के भोजन में सबसे बड़ी विशेषता इसका स्वाद है



आतंकवाद क्या हैं?

आतंकवाद एक ऐसा तत्व है जो जीवन के सभी पहलुओं को प्रभावित कर रहा हैं। आधुनिक समय मे आतंकवाद एक राजनीतिक मुद्दे के साथ-साथ एक कानूनी व सैनिक मुद्दा भी बन गया है। यह देशों की राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा मुद्दा भी हैं, किन्तु यह है क्या? आतंकवाद को परिभाषित नहीं किया जा स



गुनगुनाह ट

कविता गुनगुनाहट क्या तुम्हारी रगों में अपने भारत की मिट्टी से सुगंधित रक्त नहीं बहता ,क्या यहां के खेतों में उगा सोना तुम्हारे सौंदर्य में व्रद्धि नहीं करता ,क्या यहां की नदियां , झरने और दूर - दूर तक फैले हरे - भरे मैदान तुम्हारे अन्दर के संगीत का कारण नहीं बनते ,क्या उंचे - उंचे पेड़ों से सज्जित ह



भारतीय राजनीति की नई ‘गुगली’।

स्वतंत्र भारत के राजनैतिक इतिहास में बीता कल अभूतपूर्व कहलायेगा! यह घटना राजनैतिक भूचाल नहीं, बल्कि ‘भूकम्प’ है, जो स्वतंत्रता के बाद देश के राजनैतिक पटल पर प्रथम बार हुआ है। राजनीति में नैतिकता के निरंतर गिरते स्तर के बावजूद, इस तरह की यह पहली अलौकिक, अनोखी, अचम्भित करने वाली एक आश्चर्यजनक घटना है।



‘‘50-50!’’ ‘‘क्या राजनीति में इसका अर्थ अलग होता है’’!

अंततः शिवसेना-भाजपा का वर्ष 1990 से चला आ रहा लगभग 30 वर्ष पुराना गठबंधन टूट गया। तथाकथित 50-50 फॉमूले को आधार बनाकर महाराष्ट्र विधानसभा के परिणाम आने के तुरन्त बाद से ही शिवसेना के प्रवक्ता एवं सांसद संजय राउत लगातार यही कहते रहे है कि मुख्यमंत्री तो शिवसेना का ही बनेगा। 50-50 के सूत्र को स्पष्ट कर



महाबलीपुरम में दो प्राचीन संस्कृतियों का मिलन आपसी रिश्तों की मजबूत कड़ी साबित होगा

महाबली पुरम में दो प्राचीनसंस्कृतियों का मिलन आपसी रिश्तों की मजबूत कड़ी साबित होगा ? डॉ शोभा भारद्वाज तमिलनाडू की राजधानी चेन्नई से 60किलोमीटर दूर महाबलीपुरम प्राचीन ऐतिहासिक शहरों में से एक ,बंगाल की खाड़ी केकिनारे स्थित प्राचीन बन्दरगाह था |सातवीं सदी में इसकी स्थापना पल्लव वंश के शक्तिशाली राजा



टेंशन

लघुकथा ..................टेंशन अवकाशप्राप्ति बड़ी इज्जत से हुई . सभी ने उनके पूरे कार्यकाल की बड़ी तारीफ़ की . उनकी ईमानदारी और कर्मठता को हरेक ने सराहा . उपहारों का सिलसिला तो अगले दिन तक भी चलता रहा . कुछ ने कहा , " ऐसे समर्पित अधिकारी बहुत कम होते हैं और यदि आपके अनुभव का लाभ , विभ



‘‘नौ सौं चूहे खाकर बिल्ली हज को चली’’

विश्व के 195 देशों में भारत निश्चित रूप से एक अनूठा स्थान लिये हुये है। शायद इसका एक बहुत बड़ा कारण हमारी पीढि़यों से चली आ रही खुबसूरत सांस्कृतिक धरोहर एवं विरासत है। हमारे देश की संस्कृति में इतनी (एकता में अनेकता) विभिन्नतायें है, जो सदैव जीवन्त बनी रहकर और अंततः एक मुहावरे के रूप में प्रसिद्ध ह



टिक - टाॅक के बाजार मे

मुजरा करते दिख रही है लड़कियाँटिक - टाॅक के बाजार मे यू ही बदनाम है हम लड़के इस संसार मेलड़कियाँ नाचती दिख रही है टिक - टाॅक के बाजार मे फर्क क्या है उसमे और तुममे जो कोठे पर नाचती है संसार मेआज बड़े घरो के बेटियाँ नाचती हैटिक - टाॅक के बाजार मे कोई नाचती है पैसा के लिए सरेआम इस संसार मेकोई लाइक और शेयर



अनुच्छेद 370 (2) एवं (3) समाप्त! लेकिन उपबंध (1) क्या 370 का भाग नहीं?

स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद देश के इतिहास में राष्ट्रीय सुरक्षा व अंतर्राष्ट्रीय दृष्टि से वर्ष 1971 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने सबसे बड़ा कदम उठाकर पाकिस्तान को युद्ध में बुरी तरह से पटकनी देकर बंग्लादेश का निर्माण किया था। भारतीय सेना ने उक्त युद्ध में दो लाख से अधिक पाकिस्तानी सैनिको



देखिए इस प्यार को क्या नाम दूं प्रसिद्ध एक्टर बरून सोबती की उनकी बेटी सिफत के साथ पहली तस्वीर | आई डब्लयू एम बज

बरून सोबती जो स्टार प्लस के शो इस प्यार को क्या नाम दूं में अर्णव ये किरदार से प्रसिद्ध हुए है, ने कपल के पहले बच्चे की आने की खबर मीडिया को मई में दी थीं। आई डब्लू एम बज्ज.कॉम ने सबसे पहले अापको ये खबर दी थी कि बरून सोबती और पश्मीन मनचंदा अपने पहले बच्चे को जन्म देने वाल



Realmi ने अपना स्माटफोन लॉन्च किया कीमत जनके चोक जाओगे।

हेलो दोस्तों कैसे हो आप अगर आप Realmi में के कौन करते हो तो भारत में इस कंपनी ने अपना नया स्मार्टफोन लॉन्च कर दिया है। Realmi अपने स्मार्टफोन की शुरुआती कीमत ₹7999 रखी है। स्मार्टफोन की खास बात यह है कि इतनी कम कीमत में बेहतरीन फीचर्स वाला फोन उपलब्ध करवाया गया है तो चलो जानते हैं कि इस



[Photos] इस प्यार को क्या नाम दूं के अर्णव और खुशी: टीवी की एक सबसे बेहतरीन जोड़ी | आई डब्लयू एम बज

इस प्यार को क्या नाम दूं के खुशी और अर्णव एक आदर्श कपल है। जोड़ी एक आदर्श ऑन-स्क्रीन कपल का प्रतीक है और सिल्वर स्क्रीन पर भी दोनों ने कुछ समय से काफी अच्छी केमिस्ट्री शेयर की है। खुशी अर अर्णव की जोड़ी से लोग उनकी क्यूट, मनमोहक और रोमांटिक



इसबगोल के फायदे और साइड इफेक्ट्स - Isabgol Health Benefits in Hindi

Isabgol Health Benefits in Hindi- दुनिया में बहुत से औषधीय पौधे पाए जाते हैं जिनके बारे में किसी को कुछ नहीं पता होता लेकिन अगर पता होता है तो ये नहीं पता होता कि उसका उपयोग कैसे किया जाता है. ऐसे मे आप गूगल करने लगते हैं और हर चीज के बारे में जानने के बाद ही कुछ करते



आतंकवाद

घबराहट है, डर का साया है आतंकवाद ने घमासान मचाया हैमजहब या कि जिहाद के नाम पर आतंकवाद ने मौत का खेल खिलाया हैआतंकी किस मजहब का ? यह तो मानवता का दुश्मनइसमें बस आतंक समाया है मासूमों की जान से खेलाआतंकी ने सब में डर को है घोलायह ना हिन्दु, ना यह मुस्लिम यह तो ब



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x