महज मनोरंजन नहीं : अब 'खेल' बनाते हैं नवाब!

खेलों में आगे आने का यदि कोई अचूक मंत्र है तो वह है ''कैच देम यंगÓÓ जिसका मतलब है छोटी उम्र में ही खेलों में रुचि रखने वाले, स्वस्थ, मजबूत शरीर च इच्छाशक्ति वाले बच्चों को चुनना । स्कूल स्तर से ही उन्हें अच्छे से अच्छा प्रशिक्षण देना, उन्हें सुविधाएं मुहैया कराना, उन्हें अच्छा कैरियर विकल्प व सुरक्ष



खेलों में शिक्षण के साथ प्रशिक्षण का महत्त्व

व्यक्ति को अपने जीवन में पग-पग पर शिक्षण और प्रशिक्षण की आवश्यकता पड़ती है I प्रशिक्षण ही वह चाक है, जिस पर कुशल कुम्हार के हाथों मिटटी का साधारण सा लोंदा खूबसूरत कुल्हड़, घड़ा या जगत को प्रकाश देने वाला दीपक बन जाता है I यूं तो कुछ प्रतिभाएं जन्मजात होती हैं, पर प्रशिक्षण पाकर ही वे अपनी अधिकतम क्षमता



एक पैरलाइज खिलाड़ी की आपबीती

जब जूलियो 10 साल का था तो उसका बस एक ही सपना था , अपने फेवरेट क्लब रियल मेड्रिड की ओर से फुटबाल खेलना ! वह दिन भर खेलता, प्रैक्टिस करता और धीरे-धीरे वह एक बहुत अच्छा गोलकीपर बन गया. 20 का होते-होते उसके बचपन का सपना हकीकत बनने के करीब पहुँच गया; उसे रियल मेड्रिड की तरफ से फुटबाल खेलने के लिए साइन कर



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x