फिर खतरे में आजादी

जिस देश में बेटियां बिकने पर मजबूर हों और बेटे घर परिवार की सुरक्षा के लिए कलम की बजाय बंदूक पकड़ने को मजबूर हो जाएँ, तो ऐसी आजादी बेमानी होने की बात मन में उठना स्वभाविक है. बाजार हो या ट्रेन, या बस हो, कब छुपाकर रखा बम फट जाये, इस दहशत में आजाद भारत में जीना पड़े तो इसे विडंबना ही कहा जायेगा. जहाँ ए



मुझे कौन भेजेगा स्कूल ......... मै लड़की हूँ ना !

तीन दिन से छुट्टी पर चल रही है, काम नहीं करना तो मना कर दे, कोई जोर जबरदस्ती थोड़ी है. रोज कोई ना कोई बहाना लेकर भेज देती है अपनी बेटी को, उससे न सफाई ठीक से होती है और ना ही बर्तन साफ़ होते है. कपड़ों पर भी दाग यूँ के यूँ लगे रहते है .......... और उसमे इस बेचारी का दोष भी क्या है? इसकी उम्र भी तो नही



विज्ञापन विज्ञान - व्यंग्य ‬

यह विज्ञापनों का देश था।कुछ विज्ञापन देकर कमाते थे, कुछ लेकर।गली, मोहल्ले, बाजार, स्कूल, पेड़, पौधे, सार्वजनिक सुविधा घर यहां तक कि दूसरों की फेसबुक दीवार और रोटी पर तक लोग विज्ञापन लगाने से नहीं चूकते थे। जो लोग विज्ञापन नहीं लगवाना चाहते थे वे भी अपनी दीवारों पर विज्ञापन देकर लिखते थे कि यहां विज्ञ



आज का ज्ञान

मोह सबसे बुरा रोग है। ये हमें कई बार उन चीजों से भी अलग नहीं होने देता जो भविष्य में हमारे लिए ही विनाशकारी हो सकती हैं। - वेद व्यास



वेदों में विज्ञान ...

हिंदु वेदों को मान्यता देते हैं और वेदों में विज्ञान बताया गया है । केवल सौ वर्षों में पृथ्वीको नष्टप्राय बनाने के मार्ग पर लानेवाले आधुनिक विज्ञान की अपेक्षा, अत्यंत प्रगतिशील एवं एक भी समाज विघातक शोध न करने वाला प्राचीन ‘हिंदु विज्ञान’ था ।पूर्वकाल के शोधकर्ता हिंदु ऋषियों की बुद्धि की विशालता दे



खली-पीली बेकार ख्याली बातों से

खाली-पीली बेकार ख्याली बातों से, दिन अपने न बदलो काली रातों से । यारा तेरे ज़ख्म एक दिन भर जाएंगे, अच्छे मरहम भी मिलते  हालातों से।  उठो तुम्हें लड़ना होगा तूफानो से, न घबराना मौसम की बरसातों से।  जब तक सूरत नहीं बदलती देखेंगे ,जंग रहेगी तख्त-ताज गलियारों से। तरकश में हैं तीर अभी उम्मींदों के,  सूरज न



Homeopathy-My talk With you-मेरी बात आपके साथ

My talk With you-मेरी बात आपके साथ -लगभग पिछले पैतालीस वर्षो से मै होम्योपैथी चिकित्सा जगत से जुड़ा हुआ हूँ इस बीच मुझे लाखो रोगियों की सेवा करने का सुअवसर मिला है -यद्यपि होम्योपैथी के सिधान्तों के अनुसार प्रत्येक रोगी अपनी एक अलग छाप रखता है तथा उसकी चिकित्सा सामूहिक आधार पर न होकर व्यक्तिगत आधार प



बच्चा बात नहीं मानता

जब भी कभी अभिभावकों से मिलना होता है तब कई बार वे यही कहते हैं , क्या करें बच्चा हमारी बात ही नहीं मानता । हम  कक्षा में बैठे हुए बच्चे के उठने - बैठने के ढंग , उसके बोलचाल के ढंग से आसानी से  उसके घर के तौर तरीकों के बारे में जान जाते हैं. बच्चा कक्षा में ऊँचे स्वर में बोलता है , अभद्र भाषा का प्रय



गर्व की बात - garv ky baat

हिंदी भाषी राज्यों में, दुकानों आदि के जितने भी बोर्ड दिखाई देते हैं, उनमें लिखे हुए पूरे बोर्ड में एक आधा शब्द तो अंग्रेजी का जरूर रहता है। जैसे:संजय सर्विस स्टेशनअजय मेडिकल स्टोरविजय कॉपी सेंटरजय बुक शॉपसंजना माॅलबबलू हेयर कटिंगशिवा बार एंड होटलगणेश लॉजज्योति हॉस्पिटल आदि।सिर्फ एक ही बोर्ड ऐसा नजर



इन बातो पे अमल करे ---------

1🚩अपने साथ और लोगो को भी जोड़ो।2🚩संगठन बढ़ाते चलो।3🚩गली मुहल्ले मे 10-12 लोगो का समुह बनवाओ।4🚩उन्हे प्रेरित करो कि वो अपने एरिए पर नजर रखे, लोगो को जगाए कट्टर हिन्दूबनाने के लिए5🚩खुदको शारीरिक और मानसिक रुप से मजबुत करने के लिए शाखा या अखाड़ा जरुर जाए।6🚩 चर्चा और मेल मिलाप के लिए छोटे छोटे स्तर प



वक्त - वक्त की बात है

 वक्त - वक्त की बात  हैवक्त क्या है !!!  घडी, पल, दिनों का लेखा -जोखा हैवक्त !कभी सोने सा सुनहरा , तो कभी कोयले सा काला है वक्त,कभी अच्छा तो कभी बुरा है वक्त !कभी  अर्श  पर तो कभी फर्श पर लाता हैवक्त.!कभी खुशिया तो कभी गम मेंरुलाता  है वक्त . वक्त क्या है !!! .........दोस्त है नसीबवालों  क़ा,  तो  व



हर बात

"प्रायः बुज़ुर्ग हर बात पर विश्वास कर लेते हैं, प्रौढ़ हर बात पर शक़ करते हैं जबकि युवाओं को हर बात मालूम होती है !"-ऑस्कर वाइल्ड 



रहने दो न दोहराओ वही बात पुरानी

रहने   दो   न   दोहराओ   वही  बात  पुरानी, अब  लगती  है मुझे झूठी परियों  की कहानी हर  पेट  के  जंगल  में   यहाँ  भूख   जले  हैहोठों  पे  जहाँ  प्यास  है  आँखों  में  है पानी हफ़्तों  जहाँ  चूल्हा  नहीं जलता ये वो घर है आती  नहीं  बिस्तर  पे   जहाँ   नींद  सुहानी ज़िंदा   हैं  वही  मौत  स



ज्ञान गंगा

विद्या मित्रं प्रवासेषु ,भार्या मित्रं गृहेषु च |व्याधितस्यौषधं मित्रं , धर्मो मित्रं मृतस्य च ||अर्थात् :ज्ञान यात्रा में ,पत्नी घर में, औषध रोगी का तथा धर्म मृतक का ( सबसे बड़ा ) मित्र होता है |



शब्दनगरी का प्रथम लेख

यह प्रथम परीक्षण लेख है |



शब्दनगरी का प्रथम लेख

यह प्रथम परीक्षण लेख है |



टैक्सीवाले भाईजान

कल कही से वापसी में ऑटो मिल नहीं रही थी ! बारिश की वजह से ट्रैफिक बहुत थी .रिक्शा मिल नहीं रही थी ,एक काली पिली वैगन मिली जिसमे बैठ गया .ड्राइवर चालु भाषा का इस्तेमाल कर रहा था ,,ट्रैफिक लगेली है ,मूड की माँ बहन हो रेली है !!!!!! वगैरह वगैरह .खैर बैठा और गाडी चल पड़ी , रस्ते में ट्रैफिक की वजह से काफ



जीवन और मन

हम अक्सर अपने मन मे अनेक विचारो को आते हुए देखते हैं। कभी नकारात्मक विचारो के रूप मे कभी सकारात्मक विचारो के रूप मे यही विचार हमारे जिंदगी को प्रभावित करते हैं। क्योंकि कहा भी गया हैं कि "जैसा मन वैसा जीवन"। इसलिए सकारात्मक सोचिए जिससे ज़िन्दगी को नई उड़ान मिले। नए नए लोगो से मिले, अच्छा संगीत सुने, क



फिल्म एक नजर में : वेलकम बैक -ट्रांसपोर्टर रिफ्युल्ड

फिल्म एक नजर में : ट्रांसपोर्टर रिफ्युल्डट्रांसपोर्टर सीरिज एक एक्शन पैक्ड मनोरंजन के लिए याद की जाती है ,जिसमे एक ट्रांसपोर्टर की कहानी होती है जो गैरकानूनी ट्रांसपोर्टेशन का कार्य करता है ,जिसके चलते वह बड़ी मुसीबतों में भी पड़ता है और उनसे बच भी निकलता है .ट्रांसपोर्टर की भूमिका में ‘जेसन स्टेथम ‘



पढ़ने और लिखने की उत्कृष्ट सेवायें

शब्दनगरी वेबसाइट तथा मोबाइल एप पर, पढ़ने और लिखने की उत्कृष्ट सेवायें उपलब्ध हैं|शब्दनगरी से जुड़े सभी ब्लॉगर्स, इन सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं और श्रेष्ठ रचनाकारों से जुड़कर उनकी रचनाओं का आनंद ले सकते हैं| उभरते हुए लेखक, शब्दनगरी मंच के द्वारा लेखन जगत में अपनी पहचान बना सकते हैं तथा अपनी रचनाओं प



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x