अमीर

आज का सुवचन



परिवार का वृद्ध वृक्ष और नयी कोपलें

जब हम किसी पुराने पीपल या बरगद के वृक्ष को देखते है तो हमारा हृदय एक प्रकार की श्रद्धा से भर जाता है पुराने वृक्ष ज्यादातर पूजा पाठ के लिए देव स्वरूप माने जाते है इसी प्रकार हमारे घर के वृद्ध वृक्ष हमारे बुजुर्ग भी देव स्वरुप है | जिनकी शीतल छाँव में हम अपने सब दुखों और समस्याओं को भूल कर शांति का



क्यों न स्त्री होने का उत्सव मनाया जाए

स्त्री ईश्वर की एक खूबसूरत कलाकृति ! यूँ तो समस्त संसार एवं प्रकृति ईश्वर की बेहतरीन रचना है किन्तु स्त्री उसकी अनूठी रचना है , उसके दिल के बेहद करीब । इसीलिए तो उसने उसे उन शक्तियों से लैस करके इस धरती पर भेजा जो स्वयं उसके पास हैं मसलन प्रेम एवं ममता से भरा ह्दय ,



भय

आज का सुवचन



कैशलेश होने में नुकसान क्या है!

भले ही किसी टीवी डीबेट का मुद्दा ‘नेशन वांट्स नोट’ हो पर खबर तो यह है कि अब जेब में पैसा ढ़ोने की कोई जरूरत नहीं है, पॉकेटमारों की छुट्टी. भारत अब कैशलेश हो कर भी धनी बनेगा, सोने की चिड़िया बनने की तैयारी. अब ऑनलाइन पेमेंट करना है, घपलाबाज



जीवन

आज का सुवचन



समस्या

आज का सुवचन



जोखिम

आज का सुवचन



विद्यार्थी को पतन की ओर ले जाती माता पिता की महत्वाकांक्षा

लेख क :- पंकज “प्रखर”कोटा (राज.) प्यारे विद्यार्थियों आपके लिए आज का लेख स्वर्गीय हरिवंश राय बच्चन की निम्न पंक्तियों से शुरू कर रहा हूँ ..“असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो।जब तक न सफल हो, नींद चैन क



धमाकेदार ऑफर ! अपनी पसंदीदा पुस्तक कम दाम में खरीदने का

प्रिय मित्र,अब शब्दनगरी पर आपको हर हफ्ते शब्दनगरी पर किसी एक चर्चित पुस्तक पर आकर्षक ऑफर और डिस्काउंट दिया जाएगा । हमारा दावा होगा की जितने कम दाम पर आपको आपकी पसंद की पुस्तक शब्दनगरी पर मिलेगी, उस मूल्य पर आपको वो किताब अन्य किसी स्थान पर नहीं मिलेगी।इस हफ्ते हमने चर्चित पुस्तक “बूंद बूँद गंगाजल” क



श्रेष्ट विद्यार्थी और गौरवशाली राष्ट्र (लेखक :- पंकज “प्रखर”)

विद्यार्थी जीवन मनुष्य के जीवन का सबसे महत्वपूर्ण समय होता है | इस समय में बने संस्कार, सीखी हुई कलाएँ हमारा भविष्य निर्धारित करती हैं | इसलिए यह बहुत जरूरी हो जाता है कि मनुष्य अपने विद्यार्थी जीवन से ही देश के प्रति अपने कर्तव्यों को समझे | इससे वह अपने जीवन को इस प्रकार ढाल सकेगा कि राष्ट्र के प्



बुद्धिमान

आज का सुवचन



कार्य

आज का सुवचन



परिणाम

आज का सुवचन



वर्तमान

आज का सुवचन



उत्‍साह

आज का सुवचन



खुशी

आज का सुवचन



निराशा एक अभिशाप है!

प्रत्येक व्यक्ति को संघर्षमयी जीवन पथ पर आगे बढ़ते हुए अनेक प्रकार की अनुकूल या प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है। इस क्रम में रात-दिन, धूप-छांव, सर्दी-गर्मी, हानि-लाभ, सुख-दुःख, सफलता-असफलता आदि का संयोग चलता रहता है।... JYOTISH NIKETAN: निराशा एक अभिशाप है!



सोनम गुप्ता और सोशल नेटवर्किग साईट की अबतक की सबसे बड़ी खबर |

मेरे प्रिय साथियो आर्टिकल थोड़ा बड़ा है पर जरूर पढ़े और पूरा पढ़े क्योकि इसमे सोसल न



खुशी

आज का सुवचन



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x