कुल्फी कुमार बाजेवाला: सिकंदर लेंगे नया अवतार जीतने के लिए कुल्फी का प्यार | आई डब्लयू एम बज

स्टार प्लस का शो कुल्फी कुमार बाजेवाला गुल खान और निलंजना पुरकायस्था द्वारा प्रोड्यूस में काफी ड्रामा देखा गया है जहा कुल्फी (आकृति शर्मा) को पता चल जाता है कि लवली (अंजलि आनंद) उसकी माँ निमरत (श्रुति शर्मा) की कातिल है।कुल्फी इस बात से काफी दुखी है कि सिकंदर (मोहित मलिक)



कुल्फी कुमार बाजेवाला: कुलफी की सिकंदर से आशीर्वाद पाने की योजना | आई डब्लयू एम बज

स्टार प्लस का प्रसिद्ध शो कुल्फी कुमार बाजेवाला गुल खान और निलंजना पुरकायस्था द्वारा प्रोड्यूस में काफी ड्रामा नजर आ रहा है जहा दोनों भाई सिकंदर (मोहित मलिक) और महिंद्र (रुद्रा कौशिश) के बीच टकराव आ गया है। विक्रम आहूजा (रोमीत राज प्रशर) की कुल्फी के गुरु के रूप में नियुक



कुल्फी कुमार बाजेवाला: क्या कुल्फी को गुरु पूर्णिमा के अवसर पर सिकंदर का आशीर्वाद मिलेगा...पढ़िए यहां | आई डब्लयू एम बज

गुल खान और निलांजना पुरकायस्थ द्वारा निर्मित लोकप्रिय स्टार प्लस शो कुल्फी कुमार बाजेवाला में सिकंदर (मोहित मलिक) और कुल्फी (आकृति शर्मा) के जीवन में भारी बाधाएं देखी गई हैं। सिकंदर दुनिया को यह नहीं बता सका है कि कुल्फी उसकी बेटी है। इस बीच, अमायरा (मायरा सिंह) उसे धमकी



कुल्फी कुमार बाजेवाला: मिया की उनके एक्स पति के साथ वापसी | आई डब्लयू एम बज

गुल खान और निलांजना पुरकायस्थ द्वारा निर्मित लोकप्रिय स्टार प्लस शो कुल्फी कुमार बाजेवाला में एक दिलचस्प नया नाटक दिखाई देगा जिसमें मिया (मोना वासु) की वापसी होगी। आखिरी बार मिया को रियलिटी शो लिटिल सुपरस्टार के दौरान ट्रैक पर लाया गया था, जिसे कुल्फी (आकृति शर्मा) ने अप



“कुंडलिया” मोहित कर लेता कमल, जल के ऊपर फूल।

“कुंडलिया” मोहित कर लेता कमल, जल के ऊपर फूल। भीतर डूबी नाल है, हरा पान अनुकूल॥ हरा पान अनुकूल, मूल कीचड़ सुख लेता। खिल जाता दु:ख भूल, तूल कब रंग चहेता॥ कह गौतम कविराय, दंभ मत करना रोहित। हँसता खिलकर खूब, कमल करता मन मोहित॥महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी



गुनगुनाते हुए यादों के पुल पार कर लूँ?

यूँ ही बचपन की कुछ धुन, गाने, बातें याद आ गई और कुछ सेकण्ड्स के लिए गुनगुना लिया. शायद आप लोगो की कुछ यादें ताज़ा हो जाएँ....1) - 90s Doodh Advertisement Jingle (32 Seconds)2) - Bollywood Music Just Kidding (54 Seconds) 3) - Dimaag ki Faltu Lyrics (40 Seconds)



बेटा जब बड़े हो जाओगे...(कद्र काव्य कॉमिक से)

Intro Poem Kadr Kavya Comicबेटा जब बड़े हो जाओगे….बेटा जब बड़े हो जाओगे ना……और कभी अपना प्रयास निरर्थक लगें, तो मुरझाये पत्तो की रेखाओं से चटख रंग का महत्त्व मांग लेना। जब जीवन कुछ सरल लगे,तो बरसात की तैयारी में मगन कीड़ो से चिंता जान लेना।बेटा जब बड़े हो जाओगे ना……और कभी दुख का पहाड़ टूट पड़े,तो कड़ी धूप



अपना उधार ले जाना! (नज़्म) #मोहितपन

अपना उधार ले जाना!तेरी औकात पूछने वालो का जहां, सीरत पर ज़ीनत रखने वाले रहते जहाँ, अव्वल खूबसूरत होना तेरा गुनाह, उसपर पंखो को फड़फड़ाना क्यों चुना?अबकी आकर अपना उधार ले जाना!पत्थर को पिघलाती ज़ख्मी आहें,आँचल में बच्चो को सहलाती बाहें,तेरे दामन के दाग का हिसाब माँगती वो चलती-फिरती लाशें। किस हक़ से देखा



पत्रिका - अनिक प्लैनेट का पहला अंक

कॉमिक्स पत्रिका अनिक प्लैनेट के पहले अंक की कवर स्टोरी लिखी, साथ ही पत्रिका टीम(कॉमिक्स आवर पेशन) ने मेरे 2 आगामी कॉमिक प्रोजेक्ट्स (कद्र और इंसानी परी) के विज्ञापन पत्रिका में शामिल किये.



सेलेब्रिटी पी.आर. का घपला (लेख) #मोहितपन

पैसा और सफलता अक्सर अपने साथ कुछ बुरी आदते लाते हैं। कुछ लोग इनसे पार पाकर अपने क्षेत्र में और समाज में ज़बरदस्त योगदान देते हैं वहीं कई शुरुआती सफलता के बाद भटक जाते हैं। एक बड़े स्तर पर आने के बाद प्रतिष्ठित व्यक्ति पर इमेज, ब्रांड मैनेजमेंट की ज़िम्मेदारी आ जाती है लोगो पर, अब या तो आप मेहनत और साफ़-



समय का उधार (कहानी) #मोहितपन

पणजी स्थित निजी पर्यटन कंपनी में सेल्स मैनेजर आनंद कुमार एक अरसे बाद कुछ दिनों की छुट्टियों पर अपने घर अलीगढ आया था। पहले कभी कॉलेज हॉस्टल से छुट्टियों में घर लौटकर जो हफ़्तों की बेफिक्री रहती थी वो इस अवकाश में नहीं थी। रास्ते में ही आनंद को काम में कुछ अधूरे प्रोजेक्ट्स की बेचैनी सता रही थी। माँ, प



इंडी आर्टिस्ट का मतलब क्या है?

Art - Thomas Lepineकिसी रचनात्मक क्षेत्र में किये गए स्वतंत्र काम को इंडी (Indie/Indy) यानी इंडिपेंडेंट रचना कहा जाता है। इंडी काम कई प्रकार और स्तर का हो सकता है, कभी न्यूनतम या बिना किसी निवेश के बनी रचना केवल कला के बल पर अनेक लोगो तक पहुंच सकती है और धन अर्जित कर सकती है, तो कभी कलाकार का काफी प



3 रन का सौदा (कॉमिक) - अमित अल्बर्ट, मोहित ज़हन

CulPop intro - "3 रन का सौदा - भारतीय क्रिकेट में राजनीति और पैसे के खेल से बर्बाद हुए अनेक कैरियर्स की दास्ताँ। सुनहरी दुनिया की रौनक के पीछे के मटमैले धब्बो को दर्शाती अमित अल्बर्ट की कला और मोहित शर्मा की लेखनी से सुसज्जित एक यादगार कॉमिक।"



पेंटिंग

कलाकार ज्योति सिंह से कुछ विचार साझा किये, जिनके अनुसार उन्होंने यह सुंदर वाटरकलर पेंटिंग बनाई. इस पेंटिंग को अपनी आगामी कॉमिक पेरीफेरल एंजल में काव्य रचना के साथ जगह दूँगा .



कद्दू ले लो (धर्मनिरपेक्ष कहानी) #मोहितपन

एक महत्वपूर्ण संदेश देती यह ऑडियो कहानी.*) – Youtube: http://goo.gl/AeI1Bv*) – SoundCloud: http://goo.gl/klCe7H *) – Vimeo: http://goo.gl/uaQ4IhDuration – 5 Minutes 28 Seconds



कहानी संग्रह - ज़हनजोरी

नमस्ते! मेरा कथा संग्रह ज़हनजोरी प्रकाशित होने वाला है .आशा है भगवान और आप सबके सहयोग, आशीर्वाद से आगे भी ऐसे ही लिखता रहूँ...



किन्नर माँ (कहानी)

बिल्लो के घर के बाहर उसके साथी किन्नरों का समूह जमा था। बिल्लो के बाहर निकलते ही सबने उसे घेर लिया, भावुक सरोज दल का नेतृत्व कर रहा था।सरोज - “तू रूमी को क्यों पढ़ा रही है? तुझे उसकी माँ बनने का शौक चढ़ा है?”बिल्लो - “रूमी बहुत होशियार है। ग्रैजुएशन कर लिया है, अभी पुलिस अफसर का एग्जाम निकाल देगी देखन



मवाली भूत (कहानी)

गिरधारी बाबा ऊपरी संकट, भूत-प्रेत-चुड़ैल भगाने में पारंगत थे। एक सुनसान रात बाबा भारी ज्वर से पीड़ित अपने आश्रम के बाहर पड़े होते हैं और कई भूत, चुड़ैल और प्रेत उन्हें घेर लेते हैं। बुखार मे तप रहे बाबा कराहते हुए कहते हैं - “चीटिंग! अब इस हालत में बदला लोगे तुम लोग?”भूत दल के मुखिया - “ओहोहोहो…देखो बहु



99 का फेर (कहानी)

एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में उच्च पद पर कार्यरत हितेश कंपनी की तरफ से मिले टूर पर अपने माता-पिता को यूरोप के कुछ देश घुमाने लाया था। टूर के दूसरे दिन उसके अभिभावक सूरज कुमार और वीणा गहन विषय पर चिंतन कर रहे थे। सूरज कुमार - “टूर तो कंपनी का है पर फिर भी यहाँ घूमने-फिरने में काफी खर्चा हो जाएगा।”वीणा -



अर्द्धअच्छा काम (कहानी) #मोहितपन

दिनेश ऑफिस से थका हारा घर पहुंचा। उसकी पत्नी रूपाली जो 1 महीने बाद अपने मायके से लौटी थी, उसके पास आकर बैठी। दोनों बीते महीने की बातें करने लगे। फिर दिनेश ने महीने की बातों के अंत के लिए एक किस्सा बचा कर रखा था। “परसो एक आदमी फ़ोन पर बात कर रहा था। जल्दबाज़ी में ऑफिस के बाहर बैग छोड़ गया, मैंने फिर वाप



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x