अक्षय तृतीया :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म इतना दिव्य एवं अलौकिक है कि इसका प्रत्येक दिन विशेष है | यहां प्रतिदिन कोई न कोई पर्व एवं त्योहार मनाया जाता रहता है , परंतु कुछ विशेष तिथियां होती हैं जो स्वयं में महत्वपूर्ण होती है | इन्हीं महत्वपूर्ण तिथियों में एक है वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया | वैसे तो प्रत्येक माह की शुक्ल पक्षीय



हमारे लोकगीत :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारे देश भारत की संस्कृति आदिकाल से ही समृद्धशाली रही है | समय-समय पर पड़ने वाले अनेक पर्व एवं त्योहार हमारी संस्कृति का दर्शन कराते रहे हैं | इन त्योहारों के समय गाए जाने वाले लोकगीत हमारे त्योहारों की भव्यता को और भी बढ़ा देते थे | सावन के महीने में गाय जाने वाले कजरी गीत एवं झूला गीत तथा फागुन



होली का बदलता स्वरूप :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारे देश भारत में सभी त्योहार बड़े ही हर्षोल्लास के मनाए जाते रहे हैं | हमारे त्योहारों ने समस्त विश्व के समक्ष सदैव एक आदर्श प्रस्तुत किया है इन्हीं त्योहारों में होली का त्योहार एक उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | पूर्वकाल में होली के दिन इतना हर्षोल्लास देखने को मिलता था कि सनातन धर्म को मांनने वा



रंगोत्सव (होली) :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारत ही नहीं अपितु संपूर्ण विश्व में मनाया जाने वाला होली का त्यौहार हर्षोल्लास का सर्वोपरि पर्व है | यह हमारे देश का मंगलोत्सव है और भारतीयता का शीर्षस्थ पर्व है | होली वसंत ऋतु का यौवनकाल है | होली के इस समय में जहां एक और वनश्री के साथ-साथ खेत खलिहान भी फाल्गुन के ढलते ढलते संपूर्ण समृद्धि की आभ



होलिका दहन का उद्देश्य

*हमारे देश भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक त्यौहार है होली | होली वस्तुतः दो दिनों का पर्व है प्रथम दिन होलिका दहन का होता है दूसरा दिन रंगोत्सव का | होलिका दहन का पर्व बड़ी ही उल्लास के साथ हमारे देश में मनाया जाता है | सनातन धर्म के प्रत्येक पर्व एवं त्यौहार नकारात्मकता का त्याग करके जीवन में



मदनोत्सव :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारतीय संस्कृति एवं सनातन मान्यताएं सदैव प्रकृति से जुड़ी रही हैं क्योंकि प्रकृति के सहयोग के बिना मानव जीवन संभव नहीं है | जिस प्रकार चौरासी लाख योनियों में मनुष्य को सर्वश्रेष्ठ बताया गया है उसी प्रकार बारह महीनों में छ: ऋतुयें बताई गई और इन छ: ऋतुओं में सर्वश्रेष्ठ वसंत ऋतु कहा गया है | माघ मास



गरीब की दीवाली

गरीब की दीवाली दीवाली के दिए जले हैं घर-घर में खुशहाली है।पर इस गरीब की दीवाली लगती खाली खाली है।पैसा वालों के घर देखोअच्छी लगे सजावट है।इस गरीब के घर को देखोटूटी- फूटी हालत है।हाय-हाय बेदर्द विधातागला गरीबी घोट रही।बच्चों के अब ख्वाब घरौंदेलाचारी में टूट रही।जेब पड़ी है खाली मेरीकैसे पर्व मनाऊं म



अपने पूर्वजों ,मृत्युलोक के प्राणियों की याद में मनाये जाने वाले पर्व

अपने पूर्वज ,मृत्यु लोक के प्राणियों की याद में मनाये जाने वाले पर्व डॉ शोभा भारद्वाज विश्व की लगभग सभी संस्कृतियों में जन्म मृत्यु आत्मा भूत प्रेत पूर्वजों आदि की मान्यता है। पश्चिमी देशों में ‘एक दिन’ का हैलोवीन एवं आल सेंट्स डे पर्व मनाया जाता है। एशिया में वर्ष का सातवाँ महीना, घोस्ट धरती पर



गीता और जैन दर्शन

पर्यूषण पर्व चल रहे हैं, और आज भाद्रपद शुक्ल अष्टमी को भगवान श्री कृष्ण की परा शक्ति श्री राधा जी का जन्मदिवस राधा अष्टमी भी है – सर्वप्रथम सभी को श्री राधाअष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ...गीता गायक भगवान श्री कृष्ण... पर्यूषण पर्व के



राधाष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमात्मा ने ऐसी सृष्टि बनाई है कि इसमें बिना प्रकृति के परमपुरुष भी कुछ नहीं कर सकता है | देवों के देव महादेव शिव भी बिना शक्ति शव हो जाते हैं | जीवन में नारी शक्ति का बड़ा महत्त्व है | मर्यादापुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की शक्ति के रूप में यदि सीता जी का अवतार न हुआ होता तो शायद उनको इतनी प्रसिद्धि न



गुरु पर्व - गुरु पूर्णिमा

अज्ञान्तिमिरान्धस्य ज्ञानांजनशलाकयाचक्षुरुन्मीलितं येन तस्मै श्री गुरवे नमःआजगुरु पूर्णिमा का पावन पर्व है | कल प्रातः 11:35 के लगभग पूर्णिमा तिथि का आगमन हुआथा | जो आज सवा दस बजे तक रहेगी | उदया तिथि होने के कारण गुरु पूजा का पर्व आज हीमनाया जाएगा | पूर्णिमा काव्रत क



उत्तराखंड की 5 सबसे सुंदर हिल स्टेशन।

यूं तो भारत के देवभूमि कहे जाने वाले राज्य उत्तराखंड में घूमने के लिए बहुत सी सुंदर जगह है। लेकिन आज हम आपको था की 5 ऐसी खास और स्वर्ग जैसी सुंदर जगहों के बारे में बताएंगे जहां आकर आपको मानसिक सुकून का अनुभव होगा। दूर तक फैले नरम घास के मैदान, उनके चारो और फैली विशाल हिमालय की बर्फीली चोटिया और उनकी



वटसावित्री (बरगदही अमावस) :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*आदिकाल से लेकर आज तक संसार में सबके हित की बात सोचने एवं पुरुष समाज के लिए समय-समय पर अनेकों व्रत एवं उपवास करके नारियों ने पुरुष समाज का हित ही साधा है | हमारे देश में नारियों का दिव्य इतिहास रहा है | समय-समय पर कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्र के लिए नारियाँ कठिन उपवास रखकर के उनके कल



एक आधुनिक पौराणिक कहानी

एक “आधुनिक” पौराणिक कहानीआप सभी नेपौराणिक कहानियों मेंपढ़ा हीहोगा किदेवताओं औरदानवों काबार बारयुद्ध होताथा, औरबार बारदेवता हारतेहुए, भगवान् (अर्थात भगवान् विष्णु ) के दरबारमें गुहारलगते थे–त्राहि माम,त्राहि माम.भगवान् फिरकिसी नएदेवी यादेवता कीरचना करकेदेवताओं कोशक्ति प्रदानकरते थे.देवता विजयीहोते थेऔ





पवित्र मास कार्तिक ...

https://duniaabhiabhi.com/holy-month-karthik-the-perfect-occasion-for-merit/



विप्र धेनु सुर संत हित लीन मनुज अवतार

विप्र धेनु सुर संत हित लीन्ह मनुज अवतार डॉ शोभा भारद्वाज रावण के भय से सम्पूर्ण ब्रह्मांड थर्राने लगा दस सिर बीस भुजाओं एवं ब्रह्मा जी से अमरत्वका वरदान प्राप्त राक्षस राज रावण निर्भय निशंक विचर रहा था हरेक को युद्ध मेंललकारता |रावण का पुत्र मेघनाथमहत्वकांक्षी ,रावण के समान बलशाली पिताको समर्पित



समय गणना की वैदिक पद्धति

तिथि के लिए आकाश-दर्शन तथा वेधशाला का प्रयोग(वैदिक पञ्चाङ्गपद्धति में वेधशाला तथा दृक् गणना की उपयाेगिता)------------हरितालिका तृतीया (तीजा) पर्व सेप्टेम्बर १ तारिख (भाद्र १५ आदित्यवार) को अथवा २ तारिख (भाद्र १६ सोमवार) को मनाना चाहिए इस विषय में विज्ञों के बीच विवाद चल रहा है । इस प्रसङ्ग में वैदि



Archana Ki Rachna: Preview "देखो फिर आई दीपावली"

देखो फिर आई दीपावली, देखो फिर आई दीपावलीअन्धकार पर प्रकाश पर्व की दीपावली नयी उमीदों नयी खुशियों की दीपावली हमारी संस्कृति और धरोहर की पहचान दीपावली जिसे बना दिया हमने "दिवाली"जो कभी थी दीपों की आवलीजब श्री राम पधारे अयोघ्या नगरीलंका पर विजय पाने के बादउनके मार्ग में अँ



राधाष्टमी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*संपूर्ण सृष्टि का सार प्रेम को कहा गया है | प्रेम क्या होता है ?? प्रेम में क्या प्राप्त होता है ?? यदि इसका दर्शन करना हो तो श्री राधारानी का जीवन चरित्र अवश्य देखना चाहिए | जिनके नाम के बिना भगवान कृष्ण का नाम अधूरा माना जाता है , जिनकी पूजा किए बिना भगवान श्री कृष्ण नहीं प्राप्त हो पाते हैं , ऐस



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x