politics



डाल डाल की दाल (व्यंग्य)

"दाल रोटी खाओ प्रभु के गुण गाओ "बहुत बहुत वर्षों से ये वाक्य दोहरा कर सो जाने वाले भारतीयों का ये कहना अब नयी और मध्य वय की पीढ़ी को रास नहीं आ रहा है।दाल की वैसे डाल नहीं होती लेकिन ना जाने क्यों फीकी और भाग्य से प्राप्त चीजों की तुलना



Video: कांग्रेस विधायक नितेश राणे ने इंजीनियर के हाथ-पैर बांधकर फेंका कीचड़, फिर किया कुछ ऐसा कि....

आज के समय में नेताओं का बोलबाला इसलिए है कि उनके सामने आम नागरिक के साथ ही प्रशासन के हाथ भी बंधे रहते हैं। किसी भी नेता के मन में कानून या इंसानियत नाम की कोई चीज नहीं है और इस बात को कांग्रेस के एक विधायक ने साबित कर दिया है। अपनी पावर के बल पर कांग्रेस विधायक नितेश



सोशल मीडिया और भारतीय राजनीति

pic credit-anthony bordarao(medium.com)वर्तमान दौर में सोशल मीडिया आम आदमी के जीवन का एक अभिन्न हिस्सा बन गया है।आप चाहे पत्रकार हों चाहे व्यवसायी हों,विद्यार्थी हो अथवा,किसी सरकारी विभाग में नौकरी करने वाले आम कर्मचारी।सोशल मीडिया ने खास से लेकर आम लोगों की ज़िंदगी पर गंभीर प्रभाव डाला है।व्यवसाय,



आर टी आई कानून को कमजोर करने की कोशिश

प्रशासन में पारदर्शिता एवं भ्रष्टाचार से निजात पाने हेतु बक्त बक्त पर भारत एवं अन्य देशों में कानूनों की मांग लगातार होती रही है।प्रशासन में पारदर्शिता एवं भ्रष्टाचार का मुद्दा पूरी दुनिया में हमेशा से ही एक गंभीर मुद्दा रहा है इसी कड़ी में 2005 में सूचना का अधिकार कानून बनाया गया जोकि आम नागरिकों क



दिल्ली में लोकतान्त्रिक प्रक्रियाओं से छेड़छाड़

दिल्ली का दंगल,दिल्ली का ड्रामा,धरना वाला मुख्यमंत्री जैसे शब्द आजकल सुनने को मिल जाते है मीडिया,नेता,संविधान बिशेषज्ञ सबके अलग अलग विचार हैं परंतु जो मुलभूत विचार है उसको ठेंगा दिखाने की कोशिश जरूर की जा रही यह स्पष्ट है।विशेषज्ञों का यह मानना है की दिल्ली में यह समस्या तब शुरू हुई जब दो अनुभवी



भारत में ईसाई और मुसलमानों की हो रही हिंसा रोकने के लिए अमेरिका देगा पांच लाख डॉलर : आजाद भारत

क्या हिंदुत्व खतरे में है?#सनातन धर्म के हिन्दू समाज ने #विश्व को #शांति का पाठ पढ़ाया आज उनको ही हिंसक घोषित किया जा रहा है और #हिदुत्व को #मिटाने का #षडयंत्र चल रहा है ।हिन्दुस्तान में ही हिन्दू पराये होते जा रहे हैं, उनकी कहीं भी सुनवाई



ज़रा सोचिए

ज़रा सोचिए - भारतीय संस्कृति भारतीय भाषाओं में सुरक्षित रहेगी या विदेशी भाषाओं में?भारत भारतीय भाषाओं के माध्यम से विश्व गुरु बनेगा या विदेशी ?भारत की तरक्की का आधार भारतीय भाषाएँ हैं या सिर्फ अंग्रेज़ी ?(सारे भगत मुख्य ज़रूरी मुद्दों पर कभी चर्चा नहीं करते । कुछ ऐसे मु



अपनी संख्या बढ़ाने और भारत को पाकिस्तान बनाने के लिए किया जा रहा लव जिहाद : श्री मुनि तरुण सागर

सुप्रीम कोर्ट ने पिछले दिनों राष्ट्रीय जाँच एजेंसी को लव जिहाद के जांच का आदेश दिया थाऔर तभी से एक बार फिर देश में लव जिहाद का मुद्दा सुर्ख़ियों में हैसुप्रीम कोर्ट ने केरल के एक मामले की सुनवाई करते हुए लव जिहाद के जांच का आदेश दिया थाइस मामले में एक मुस्लिम लड़के ने ए



लालकृष्ण आडवाणी ने किया था कुछ ऐसा जिसके कारण हुई उनकी ऐसी हालत !

एक कहावत है कि इंसान जो करता है उसका फल उसे समय आने पर मिलता जरूर है। बस फर्क़ इतना होता है किसी को ये फल जल्दी तो किसी को देर में मिलता है। फिर आप अगर किसी को सता भी रहे हैं तो आपके सामने वो किसी ना किसी रूप में आएगा ही। यहां मैं आपको राजनीति के बारे में बताऊंगी जहां लोग अपना औधा पाने के बाद लोगों



भारत से इतने हिस्से अलग हुए तो बने ये इस्लामिक राष्ट्र- जरूर पढेँ

भारत से इतने हिस्से अलग हुए तो बने ये इस्लामिक राष्ट्र- *1378 मेँ भारत से एक हिस्सा अलग हुआ, इस्लामिक राष्ट्र बना -* नाम है इरान. *1761 मेँ भारत से एक हिस्सा अलग हुआ, इस्लामिक राष्ट्र बना -* नाम है अफगानिस्तान. *1947 मेँ भारत से एक हिस्सा अलग हुआ, इस्लामिक राष्ट्र बना -* नाम है पाकिस्तान.*1971 म



आजम खां, अगर गैंगरेप कर सत्ता पाई जाती है तो आप सत्ता में कैसे आए थे?

बुलंदशहर में गैंगरेप हुआ. मां-बेटी को नेशनल हाईवे से उठाकर गैंगरेप हुआ. पहले पुलिस वाले सोते रहे. 100 नंबर पर 20 मिनट तक किसी ने फोन नहीं उठाया. बाद में जैसे-तैसे एक्शन लिया गया. कुछ आरोपी पकड़े गए. कुछ पुलिसवाले सस्पेंड कर दिए गए. फिर आया नंबर नेताओं के बयानों का.अब चूंकि सपा सरकार में लीचड़ बयान ग



लो जी, लेट हो गई मोदी जी की हाई स्पीड टाल्गो ट्रेन

बहुत चर्चा थी स्पेनिश ट्रेन टाल्गो की. स्पेशल प्रोजेक्ट है ये सरकार का. इसके तीसरे फेस वाला ट्रायल मंगलवार को हुआ. ट्रेन फिर से दिल्ली से मुंबई के बीच चलाई गई. ये पहुंची तीन घंटे लेट. वजह बताई गई बारिश.कल शाम को ये ट्रेन चली थी 7 बजकर 55 मिनट पर और आज सवेरे ये 11 बजकर 40 मिनट पर मुंबई पहुंची. यानी 1



‘‘स्वाति सिंह’’ के ‘‘(दुः)’’ ‘‘साहस’’ की दाद दी जानी चाहिये!

‘‘गिलास आधा खाली हैं या आधा भरा हैं’’, यह भारतीय जनता पार्टी के उत्तर प्रदेश के उपाध्यक्ष दयाशंकर द्वारा सुश्री मायावती पर की गई अभद्र, अमर्यादित टिप्पणी व उससे उत्पन्न प्रतिक्रिया व उस पर अगली क्रिया-प्रतिक्रिया पर लगभग सही बैठती हैैं। यह घटना निम्न महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर देश की जम्हूरियत का ध्यान



राजनीति का देश पर प्रभाव

किसी भी देश की राजनीति उस देश के विकास देशवासियों के हितार्थ होती है. भारत में पहले राजतंत्र था. तमाम राजा अपने प्रभुत्व अपनी शक्ति और पराक्रम से अपने राज्य काविस्तार करते थे.राजाओं की आपसी लड़ाई दुश्मनी के कारण ही भारत गुलाम हो गया.आठ सौ साल गुलामी झेलने के बाद बड़ी त्याग तपस्या और वलिदान के बाद भारत



राजनीति की बजाय जनता से जुड़े कांग्रेस

अपने अब तक के इतिहास में कांग्रेस का इतना बुरा दौर शायद ही आया हो. लोकसभा में उसके सदस्यों की संख्या 44 के स्तर तक पहुँचने को तो शर्मनाक कहा ही जा सकता है, मगर उससे भी ज्यादा लज्जास्पद यह बात है कि कांग्रेस वर्तमान के राजनीतिक हालात से अभी भी मुंह चुराती नजर आ रही है. हकीकत में उसे इस बात का अहसास



कांव कांव न करें ट्विटर पर

पूरे विश्व में फेसबुक, गूगल प्लस, लिंकेडीन और दुसरे प्लेटफॉर्म्स का उभार बेहद तेजी से हुआ है, जिसका प्रयोग लाखों करोड़ों यूजर्स करते हैं. इस बात में कोई दो राय नहीं है कि ट्विटर, सोशल मीडिया के अन्य सभी प्लेटफॉर्म्स से ज्यादा चर्चा में रहता है. बात चाहे पॉलिटिक्स की हो, सिनेमा की हो या कोई सोशल मुद्



याकूब का समर्थन मतलब देशद्रोह!

सुप्रीम कोर्ट के रूम नंबर चार में तीन जजों जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस प्रफुल्ल पंत और जस्टिस अमिताभ रॉय की लार्जर बेंच ने सुबह सुनवाई शुरू की. यहाँ, याकूब की ओर से तीन वकील आए थे और उन्‍होंने दो बातें कहीं- क्‍यूर‍ेटिव पीटिशन पर दोबारा सुनवाई होनी चाहिए और डेथ वारंट जारी करने का तरीका गलत था. इसके



राजनीति, खुन्नस और बिहार चुनाव

राजनीति की वर्तमान दुनिया में यदि दो बड़े विरोधियों की बात की जाय तो निश्चित रूप से नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार का नाम सबसे ऊपर आएगा. वैसे, नरेंद्र मोदी के कई कट्टर विरोधी रहे हैं, लेकिन चर्चित तो नीतीश कुमार ही हुए हैं. मोदी का विरोध नीतीश कुमार ने राजनीति से परे हटकर व्यक्तिगत स्तर पर भी निभाया



थरूर ने कुरेदा गुलामी का ज़ख्म!

कांग्रेस नेता और संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत की ओर से महासचिव पद का चुनाव लड़ चुके शशि थरूर आजकल काफी चर्चा में हैं. चर्चा की कई वजहें हैं, जिनमें एक सोनिया गांधी द्वारा उनको साफगोई के लिए डांट पड़ना था तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उनकी काउंटर तारीफ़ करना भी चर्चा के कारणों में शामिल रहा है.



एडजस्टमेंट, करप्शन और संसदीय मर्यादा

संसद के चालू सत्र में मध्य प्रदेश के कटनी से दिल्ली आए कुछ बच्चे संसद की कार्यवाही देखकर निराश हो गए थे. स्कूल की शिक्षिका की इस बाबत प्रतिक्रिया थी कि 'हम इन बच्चों को इतनी दूर से यहां संसद की कार्यवाही दिखाने लाए, संसद चली नहीं. ये तकरीबन हर रोज़ की कहानी है. जो लोग संसद की कार्यवाही देखने आते हैं



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x