1


शरीर पर तेल कब लगाएं नहाने से पहले या बाद में

चरक संहिता के अनुसार तेल मालिश से हमारा शरीरठीक वैसे ही मजबूत होता है,जैसे लाठी को सरसो का तेलपिलाने से वो मजबूत होती है। जो लोग हर दिन अपने शरीर की तेल मालिश करते हैं वे खुद को कईबीमारियों से बचा सकते हैं। अब सवाल यह है कि, शरीर पर त



Punarjanm kya hai aur kyon hota hai*पुनर्जन्म क्या है, और क्यों होता है?*

HomeAboutContactError PageBeautyआध्यात्मिक जीवनसामाजिक जीवनजीवन शैलीGamesTechnologyDownloadSelect Here Home आध्यात्मिक जीवन- सामाजिक जीवन - सामाजिक जीवन1 - सामाजिक जीवन2



जाने आखिर शरीर में सूजन के क्या है कारण

एक ही रुटीन होने के बावजूद रातों-रात ऐसा क्या हो जाता है कि हमारे शरीर में सूजन आ जाती है। सूजन का अर्थ है शरीर के किसी भाग का अस्थायी रूप से बढ़ जाना। जिस अंग में सूजन होती हैं उसमे हल्का दर्द और वहां की त्वचा में थोडी लालिमा सी आ जाती हैं। जाने आखिर शरीर में सूजन



शरीर में थकान की क्या हैं असली वजह, और जाने उनके घरेलु उपाय - Body Me Thakan ke Karan

शरीर में थकान की क्या हैं असली वजह, और जाने उनके घरेलु उपायअगर आप अक्सर थका हुआ महसूस करते हैं और आपमें ऊर्जा की कमी रहती है तो आप अकेले नहीं हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि 5 में से एक व्यक्ति हर समय हल्की थकान महसूस करता है और 10 में से एक लंबे समय तक रहने वाली थकान से परेशान रहता है।कई लोगों में थ



इन पांच चीजों का प्रयोग अपने खानपान में करते रहेंगे, तो पा सकते हैं, दुबली पतली काया

हर व्यक्ति चाहता है, कि उसका शरीर एकदम परफेक्ट और फिट हो, लेकिन ये इतना आसान नहीं है, कि बिना प्रयास किए उसे पाया जा सके । परफेक्ट बॉडी पाने के लिए खाने-पीने पर ध्यान देना होगा । नियमित व्यायाम करना होगा । इस लेख में हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे कुछ फलों के बारे में ज



क्या है रोग प्रतिरोधक क्षमता?

इम्युनिटी पावर शरीर का वह प्राकृतिक सिस्टम है जो कुदरती रुप से हमें रोगों से दूर रखने का काम करता है। सर्दी के मौसम हवा में मौजूद नमी के कारण सर्दी-जुकाम, खांसी जैसे रोग बढ़ जाते हैं। इनसे राहत पाने और इंफैक्शन से बचने के लिए डाइट का खास ख्याल रखने की बहुत जरूरत है ताकि रोगों से लड़ने की शक्ति कायम रह



"ओशो वाणी"



मानव शरीर के पांच तत्त्व

नाड़ी शास्त्र के अनुसार, मानव शरीर में स्थित चक्र, जिनमें मूलाधार चक्र, स्वाधिष्ठान चक्र, मणिपूरक चक्र, अनाहत चक्र, विशुद्ध चक्र, आज्ञा चक्र एवं सहस्त्रार चक्र विद्यमान है। इन चक्रों का संबंध वास्तु विषय के जल-तत्व, अग्नि-तत्व, वायु-तत्व, पृथ्वी-तत्व एवं आकाश-तत्व से संबंधित है। वास्तु में पृथक दिशा



सत्य वचन

जन्म के समय सभी बच्चे कलर ब्लाइंड होते हैं, वह सिर्फ ब्लैक एंड व्हाइट देख सकते हैं। उंगलियों में मांस-पेशियां नहीं होतीं। जिन मांस-पेशियों से उंगलियों के जोड़ कार्य करते हैं, वह हथेली या हाथ के ऊपर होती हैं। पेपर की तुलना में कंप्यूटर स्क्रीन पर इंसान 25 प्रतिशत कम धीमी गति से पढ़ता है। इंसा





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x