बचपन की यह छोटी सी आदत कर देगी मोटापे की छुट्टी

04 फरवरी 2019   |  मिताली जैन   (25 बार पढ़ा जा चुका है)

बचपन की यह छोटी सी आदत कर देगी मोटापे की छुट्टी - शब्द (shabd.in)

बचपन में बच्चे ऐसे कई चीजें करते हैं, जो बड़े होते-होते कहीं पीछे छूट जाती हैं। फिर चाहे बात खेलने कूदने की हो या मस्तमौला स्वभाव की। वक्त बीतने के साथ यह सभी आदतें व्यक्ति के स्वभाव में नजर नहीं आतीं। लेकिन बचपन की ऐसी बहुत सी आदतें होती हैं, जो बड़े होने पर भी यदि बरकरार रखी जाए तो इससे कई तरह के लाभ प्राप्त होते हैं। इन्हीं आदतों में से एक है रस्सी कूदना। रस्सी कूदना बचपन में तो हर किसी को पसंद होता है लेकिन बड़े होने के बाद किसी के पास इतना समय ही नहीं होता। खासतौर से, रस्सी कूदना हेल्दी रहने का एक आसान व मजेदार तरीका है। बढ़ते वजन को नियंत्रित करने से लेकर हड्डियों को मजबूती देने में यह लाभदायक है। तो चलिए जानते हैं रस्सी कूदने से स्वास्थ्य को होने वाले कुछ बेमिसाल फायदों के बारे में-


घटाए कैलोरी


रस्सी कूदना उन लोगों के लिए बेहतरीन एक्सरसाइज है, जिनके पास समय की कमी होती है। आपके पास भले ही पांच या दस मिनट का समय हो, रस्सी अवश्य कूदें। आपको शायद पता न हो लेकिन रस्सी कूदने से काफी तेजी से कैलोरी बर्न होती है। महज दस मिनट तक रस्सी कूदना आठ मील दौड़ने के बराबर आपको लाभ पहुंचाता है। इसका दूसरा सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि रस्सी कूदने से आपके शरीर के सभी हिस्सों का व्यायाम होता है, जिसके कारण आपको शरीर के विभिन्न भागों के लिए अलग से व्यायाम करने आवश्यकता नहीं पड़ती।


हड्डियों को मिलती मजबूती


आपकी हड्डियों की मजबूती के लिहाज से भी रस्सी कूदना एक अच्छा व्यायाम है। जब आप रस्सी कूदते हैं तो इससे बोन डेंसिटी तो बढ़ती है ही, साथ ही यह आपके शरीर की किसी भी हड्डी पर अतिरिक्त प्रभाव नहीं डालती है। इसलिए अगर आपको अपनी बोन डेंसिटी बढ़ानी है तो रस्सी अवश्य कूदें। कुछ लोग रनिंग को रस्सी कूदने से अच्छा व्यायाम मानते हैं। रनिंग भले ही कैलोरी को बर्न करे, लेकिन वहीं दूसरी ओर यह जोड़ों पर भी असर डालता है। यहां तक कि इसके कारण आपके घुटनों में दर्द भी होने लगता है। इसलिए पहले अपनी बोन डेंसिटी को बढ़ाने के लिए रस्सी कूदें।


नहीं लटकती स्किन


खुद को फिट रखने के चक्कर में लोग अपनी खूबसूरती को नजरअंदाज कर देते हैं। उदाहरण के तौर पर, जो लोग मोटे हैं और अपना वजन कम करना चाहते हैं, वह डाइटिंग और एक्सरसाइज के जरिए वजन कम तो कर लेते हैं लेकिन साथ ही साथ उनकी स्किन भी लटकने लगती है। ऐसा मसल्स लाॅस के कारण होता है। लेकिन अगर आप रस्सी कूदते हैं तो इससे मसल्स लाॅस नहीं होती। यह आपके पैरों के साथ-साथ लोअर बाॅडी की मसल्स को भी टोनअप करता है।


बढ़ता स्टेमिना


चूंकि रस्सी कूदने से पूरे शरीर का व्यायाम बेहद आसानी से हो जाता है, इसलिए स्टेमिना बढ़ाने के लिए भी यह बेहद लाभकारी है। अगर आप प्रतिदिन रस्सी कूदते हैं तो इससे शरीर एकदम चुस्त-तंदरूस्त बनता है।


खर्चा कम, फायदा ज्यादा


जिस तरह आजकल लोग अपनी फिटनेस के प्रति काफी जागरूक हैं, उसके कारण जिम से लेकर अन्य कई उपाय अपनाते हैं। जिसके कारण खुद को फिट रखने के चक्कर में उनके काफी पैसे खर्च हो जाते हैं। लेकिन वहीं दूसरी रस्सी कूदने से आपके पैसे भी नहीं लगेंगे और आपके पूरे शरीर का व्यायाम हो जाएगा। रस्सी कूदने के लिए आपको महज एक रस्सी की आवश्यकता होगी। इसका एक अन्य लाभ यह है कि आप इसे कहीं भी अपने साथ कैरी कर सकते हैं और हर वक्त खुद को बेहद आसानी से फिट रख सकते हैं।


सुदंरता का वादा


खूबसूरत दिखने के लिए आप न जाने कितनी तरह के ब्यूटी प्राॅडक्ट व टीटमेंट करवाती होंगी लेकिन फिर भी मनचाही सुदंरता प्राप्त नहीं होती। ऐसे में आप हर दिन 15 से 20 मिनट रस्सी कूदना शुरू करें। दरअसल, रस्सी कूदना एक हाई इंटेसिटी व्यायाम है, जिसके कारण जब आप रस्सी कूदते हैं तो एक मिनट में ही पसीना आने लगता है और पसीने के साथ-साथ शरीर के सभी विषाक्त पदार्थ भी बाहर निकल जाते हैं। इस तरह प्रतिदिन रस्सी कूदने से आपकी स्किन दमकने लगती है। इतना ही नहीं, रस्सी कूदने से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर बनता है, जिसके कारण आपके शरीर के सभी हिस्सों तक रक्त संचार अच्छा होता है और स्किन में प्राकृतिक तरीके से निखार आता है। साथ ही साथ इस व्यायाम से फेफड़े भी मजबूत होती हैं।


दिमाग बनेगा चुस्त


रस्सी कूदना शारीरिक व मानसिक लाभ पहुंचाता है। दरअसल, जब हम किसी भी तरह का व्यायाम करते हैं तो इससे दिमाग अधिक सक्रिय हो जाता है। साथ ही एक्सरसाइज करने से मस्तिष्क में हैप्पी हार्मोन रिलीज होते हैं और व्यक्ति का तनाव कम होता है।


इसका रखें ध्यान


यह सच है कि रस्सी कूदने से शरीर को सिर्फ लाभ ही लाभ होता है, लेकिन रस्सी कूदते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए ताकि किसी भी तरह का नुकसान न हो। सबसे पहले तो हमेशा खाली पेट ही रस्सी कूदें। इसके अतिरिक्त रस्सी कूदते समय बेहद आरामदायक व खुले कपड़े पहनें। अगर आप पहली बार रस्सी कूद रहे हैं तो एकदम से बहुत अधिक, तेजी या उंची रस्सी न कूदें। इससे पैरों में दर्द हो सकता है। शुरूआत में धीरे-धीरे रस्सी कूदें और फिर धीरे-धीरे अपनी स्पीड बढ़ाएं।



अगला लेख: डिलीवरी के बाद निकली तोंद करती है शर्मिन्दा, बस करिए यह छोटा-सा काम



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 जनवरी 2019
आज के समय में लोग जिस तरह लगातार घंटों कंप्यूटर पर बैठकर काम करते हैं, उसके कारण गर्दन में दर्द की शिकायत होने लगती है। कई बार गलत पोजिशन में बैठने या लंबे समय तक एक ही तरह से बैठने के कारण यह परेशानी होती है। इस परेशानी से निपटने के लिए कई तरह के योगासनों का अभ्यास किया जा सकता है। तो चलिए जानते है
27 जनवरी 2019
23 जनवरी 2019
अगर ऐसे मसाले की बात की जाए, जिसके बिना सब्जी या भोजन बनाना संभव ही न हो तो शायद सबसे पहले जुबां पर नमक का ही नाम आए। जब भी भोजन पकाया जाता है तो उसमें नमक का इस्तेमाल होता ही है। जहां एक ओर नमक भोजन के स्वाद को बढ़ाता है और कई तरह के लाभ पहुंचाता है। वहीं इसका सेवन अधिक मात्रा में करने से स्वास्थ्य
23 जनवरी 2019
01 फरवरी 2019
सिर में मालिश करने से लेकर भोजन में तड़का लगाने के लिए अक्सर सरसों के तेल का इस्तेमाल किया जाता है। भले ही लोग इसे कड़वा तेल कहकर पुकारते हैं लेकिन वास्तव में यह तेल स्वास्थ्य के लिए कड़वा नहीं बल्कि औषधि सम
01 फरवरी 2019
24 जनवरी 2019
हर सुबह उठकर ब्रश करने के बाद भी बहुत से लोगों के मुंह से कुछ समय बाद बदबू आने लगती है। कई बार कुछ खाने पीने से होता है तो कई बार इसके लिए मुंह से जुड़ी कुछ बीमारियां या पाचन संबंधी परेशानियां भी जिम्मेदार होती हैं। लेकिन इसके कारण व्यक्ति को किसी के सामने बात करने में भी शर्मिन्दगी का अहसास तो होता
24 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
महिलाएं हमेशा ही अपनेलुक्स को लेकरकाफी सजग रहतीहै। उम्र कापड़ाव चाहे जोभी हो, लेकिनवह हमेशा हीफिट, हेल्दी वआकर्षक दिखना चाहती हैं।लेकिन जैसे-जैसेसमय का पहियाघूमता है तोशरीर में भीबदलाव आता है।खासतौर से, मांबनने के साथस्त्री के शरीरमें कई बड़ेबदलाव आसानी सेदेखे जा सकतेहै
21 जनवरी 2019
20 जनवरी 2019
नींद लेना सिर्फ शरीर को आराम देने के लिए ही जरूरी नहीं होता, बल्कि यह बेहतर स्वास्थ्य की कुंजी है। आमतौर पर देखने में आता है कि लोग तनाव या काम के बोझ तले देर रात तक जागते रहते हैं और फिर उसका विपरीत असर उनके स्वास्थ्य पर पड़ता है। वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो रात को सोते तो हैं, लेकिन फिर भी सुब
20 जनवरी 2019
27 जनवरी 2019
आज के समय में लोग जिस तरह लगातार घंटों कंप्यूटर पर बैठकर काम करते हैं, उसके कारण गर्दन में दर्द की शिकायत होने लगती है। कई बार गलत पोजिशन में बैठने या लंबे समय तक एक ही तरह से बैठने के कारण यह परेशानी होती है। इस परेशानी से निपटने के लिए कई तरह के योगासनों का अभ्यास किया जा सकता है। तो चलिए जानते है
27 जनवरी 2019
31 जनवरी 2019
आमतौर पर महिलाएं घरमें बचत पर अधिक जोर देती हैं, जिसके कारण वह चीजों का बार-बार व एक ही कई चीज का इस्तेमालकरने में विश्वास करती हैं। फिर चाहें बात खान-पान की चीजों की हो या अन्य चीज की।अगर रोटी बच जाए तो चाउमीन बना लिया, रात की दाल बच गई तो सुबह परांठे बना लिए। इसीतरह
31 जनवरी 2019
02 फरवरी 2019
कहते हैं कि जल ही जीवन है। अर्थात पानी के बिना व्यक्ति के जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। वैसे भी मनुष्य के आधे से अधिक शरीर पानी से ही बना है। यह पानी ही शरीर की कार्यप्रणाली को सही तरह से कार्य करने के लिए प्रेरित करता है और अगर इसकी कमी हो जाए तो व्यक्ति को कई गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता
02 फरवरी 2019
25 जनवरी 2019
जीरे के बिना सब्जी में तड़का भी नहीं लगता। यह भोजन का स्वाद बढ़ाने के लिए ही इस्तेमाल नहीं किया जाता, बल्कि यह स्वास्थ्य के लिए भी उतना ही लाभकारी होता है। जीरा शरीर के सभी अंगों के लिए फायदेमंद है और इसके गुणों के कारण ही भारतीय किचन में इसका एक अलग महत्व है। भोजन के अतिरिक्त भी इसे अन्य कई तरीकों से
25 जनवरी 2019
26 जनवरी 2019
भारतीय किचन में ऐसे कई तरह के मसालों का उपयोग प्रतिदिन किया जाता है, जिनके स्वास्थ्य लाभों से अब तक लोग अनजान है। जिसके कारण इन्हें हर दिन एक ही तरह से इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन वहीं दूसरी ओर, अगर इन्हें सही तरह से प्रयोग किया जाए तो इन्हीं मसालों की मदद से कई तरह की बीमारियों से निजात पाई जा सकत
26 जनवरी 2019
27 जनवरी 2019
आज के समय में लोग जिस तरह लगातार घंटों कंप्यूटर पर बैठकर काम करते हैं, उसके कारण गर्दन में दर्द की शिकायत होने लगती है। कई बार गलत पोजिशन में बैठने या लंबे समय तक एक ही तरह से बैठने के कारण यह परेशानी होती है। इस परेशानी से निपटने के लिए कई तरह के योगासनों का अभ्यास किया जा सकता है। तो चलिए जानते है
27 जनवरी 2019
29 जनवरी 2019
आज के समय में जिस तरह लोग अपना काफी वक्त स्क्रीन पर बिताते हैं, उसका एक सबसे बड़ा हानिकारक प्रभाव आंखों पर दिखाई देता है। कंप्यूटर, टीवी या मोबाइल पर लंबे समय तक रहने के कारण आंखों में थकान या दर्द का अहसास होता है। इसके अतिरिक्त धूल-मिट्टी व प्रदूषण के चलते भी आंखें में इंफेक्शन हो जाता है, जो आंखों
29 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x