पेट की समस्याएं तथा उनका सरल आयुर्वेदिक समाधान

03 सितम्बर 2019   |  Ambic Ayurved   (2892 बार पढ़ा जा चुका है)


दूषित खानपान तथा जीवन शैली से पेट की कई समस्याएं जैसे एसिडिटी, अफरा या दर्द आदि होने लगती हैं। वर्तमान समय में लोग पेट की समस्याओं से काफी परेशान हैं। स्कुल, कॉलेज के छात्र, व्यापारी या जॉब वर्कर्स जैसे लोगों की जीवन शैली कुछ इस प्रकार की होती है की इनका अधिकतर समय घर के बाहर ही गुजरता है। ज्यादा समय बाहरी वातावरण में रहने तथा खाने पीने के परिणाम स्वरुप पेट खराब होने लगता है। जॉब वर्कर्स, स्कुल, कॉलेज के छात्र या व्यापारी जो ज्यादातर बाहर रहते हैं तथा बाहरी वस्तुओं का सेवन करते हैं। इन कारणों से भी पेट ख़राब हो जाता है। इस प्रकार की समस्याओं के लिए पॉचस्ट सीरप या टेबलेट एक सर्वाधिक गुणकारी औषधी है। इस औषधी का मानव शरीर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। इस औषधी में त्रिफला, अमलतास, स्वर्ण पत्री, वायविडगं जैसी प्राकृतिक ओषधियां हैं जो पेट को स्वस्थ रखने में बहुत कारगर होती हैं।

पेट तथा पाचन संबंधी समस्याएं -

1 - बवासीर की समस्या।

2 - कब्ज की समस्या।

3 - पेट में छाले होना।

4 - भूख लगना।

5 - पेट में जलन होना आदि।



पेट तथा पाचन संबंधी समस्याओं के कारण -

1 - अस्वस्थ खानपान तथा सुस्त जीवनशैली।

2 - चाय, कॉफी आदि का अधिक सेवन करना।

3 - अधिक मिर्च मसाले का भोजन करना।

4 - ऑयली भोजन अधिक करना।

5 - व्यायाम करना तथा पानी कम पीना।

जिन लोगों का समय अधिकतर बाहरी स्थान पर ही गुजरता है। ऐसे लोग बाहरी वस्तुओं का सेवन अधिक करते हैं और इसी कारण उनका पाचनतंत्र खराब हो ही जाता है। पेट की समस्याएं आगे चलकर ज्यादा गंभीर हो जाती हैं। यदि ऊपर लिखे लक्षणों को ध्यान में रख कर समय से लोग अपना उपचार करा लेते हैं तो भविष्य में कोई समस्या नहीं हो पाती है। यदि ये लोग पॉचस्ट सीरप या टेबलेट का सेवन प्रतिदिन करते हैं तो उनको सामान्य लोगों से पेट की समस्याओं का ख़तरा कम ही होता है।

कुछ लोग शराब का सेवन करते हैं यह भी पाचन तंत्र के ख़राब होने का कारण होता है। जो लोग बजन उठाने या ज्यादा घूमने फिरने का कार्य करते हैं उन लोगों को भी पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। इन सभी समस्याओं से बचने के लिए ये लोग पॉचस्टसीरप या टेबलेट का सेवन कर सकते हैं।



पेट तथा पाचन तंत्र की समस्याओं से बचने के लिए कुछ उपाय -

1 - तेज मिर्च मसलों के भोजन से परहेज करें।

2 - ऑयली भोजन का सेवन करें।

3 - तनाव लेने से बचें।

4 - प्रतिदिन पॉचस्ट सीरप या टेबलेट का सेवन करें।

5 - प्रतिदिन व्यायाम करें तथा अधिक पानी का सेवन करें।

अगला लेख: एलिएंट कैप्सूल - बच्चों की स्किन एलर्जी और उसका समाधान



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 अगस्त 2019
पेट की समस्याएंवैसे तो सभी के लिएहानिकारक होती हैं।लेकिन महिलाओं कोयदि पेट की समस्याएं होने के चांस ज्यादाहोते हैं। असलमें महिलाएं दिनभर किसी न किसी कार्यमें लगी ही रहती हैं।चाहे वह घर का कार्यहो या बाहरी।ऐसे में महिलाओंके खानपान मेंगड़बड़ी होने के कारण वेपाचन तंत्र कीस
28 अगस्त 2019
11 सितम्बर 2019
वर्तमान समय मेंमहिलाएं में बहुतसारी समस्याएं देखनेको मिलती हैं।जब महिलाओं मेंपीरियड्स की शुरुआतहोती है, उस अवस्था मेंमहिलाओं में बहुतसारे हार्मोनल चेंजेसहोते हैं। जैसेमहिलाओं के शरीर पर बालोंका आना, चेहरेपर कील मुहांसोका होना। यहसभी प्रक्रियाएं हार्मोन्सके बदलाव केकारण शरीर मेंहोते हैं। बहुतसी महिला
11 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x