आईयूआई उपचार के प्रकार और उपचार से पहले किए जाने वाले टेस्ट!

07 फरवरी 2020   |  बबीता राणा   (381 बार पढ़ा जा चुका है)


आईयूआई ट्रीटमेंट एक सामान्य प्रजनन उपचार है। कई जोड़े जिन्हें गर्भधारण करने में परेशानी हो रही है, वे आईवीएफ से पहले आईयूआई से गर्भधारण का विकल्प आज़माते हैं।

आईयूआई के उपचार के प्रकार निम्न हैं :

इंट्रासर्विकल इनसेमिनेशन

सबसे पुरानी और सबसे सामान्य कृत्रिम गर्भाधान प्रक्रिया में से एक है। जिसमें गर्भधारण की संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए सीधे महिला के प्रजनन पथ में शुक्राणु को इंजेक्ट करना शामिल है।

इंट्रावेजायनल इनसेमिनेशन

इंट्रावेजाइनल इनसेमिनेशन सबसे सरल प्रकार का गर्भाधान है, जिसे डोनर स्पर्म का उपयोग करते समय किया जा सकता है बशर्ते जब महिला को प्रजनन से जुड़ी कोई समस्या न हो। इस प्रकिया में शुक्राणु को महिला की योनि में इन्सेमिनेट कर दिया जाता है।

इंट्राट्यूबल इनसेमिनेशन

इंट्राट्यूबल इंसेमिनेशन में पहले से साफ़ किये गए शुक्राणुओं को सीधे महिला के फैलोपियन ट्यूब में इंजेक्ट कर दिया जाता है।

आईयूआई उपचार से पहले किए जाने वाले टेस्ट और जांच

आईयूआई ट्रीटमेंट से पहले महिला और पुरुष दोनों की अलग-अलग जांच की जाती है और कई तरह के टेस्ट करवाए जाते हैं। बांझपन का निदान करने के लिए किए गए परीक्षणों को आमतौर पर प्री-स्क्रीनिंग परीक्षणों के रूप में जाना जाता है। इन परीक्षणों के परिणामों के साथ डॉक्टर निम्न 5 प्रश्नों का जवाब देते हैं :

  • क्या संक्रमण,आनुवंशिक समस्या या ऑटोइम्यून समस्या मौजूद हैं?
  • क्या आप ओव्युलेट कर रही हैं?
  • क्या आपके फैलोपियन ट्यूब सामान्य हैं?
  • क्या आपका गर्भाशय आरोपण के लिए तैयार है?
  • क्या शुक्राणु संख्या और फंक्शन सामान्य हैं?
  • एक बार जब आपकी समस्या के बारे में पता चल जाता है, तो एक उपचार योजना आपकी व्यक्तिगत स्थिति के अनुरूप होगी। अनुशंसित दृष्टिकोण आपकी उम्र, डायग्नोसिस,बांझपन की अवधि, किसी भी पिछले उपचार और आपकी व्यक्तिगत प्राथमिकताओं पर निर्भर करेगा। जबकि सभी मरीज़ों को सभी डायग्नोस्टिक टेस्ट की आवश्यकता नहीं होती है, एक आइडियल ट्रीटमेंट प्लान को निर्धारित करने और इस प्रकार गर्भावस्था के अंतिम लक्ष्य को प्राप्त करने में एक संपूर्ण नैदानिक ​​मूल्यांकन महत्वपूर्ण होता है।

अगला लेख: ओवुलेशन स्पॉटिंग क्या है व कैसे करें पहचान!



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 जनवरी 2020
आईयूआई ट्रीटमेंट जिसे कृत्रिम गर्भधारण भी कहा जाता है यह प्रजनन उपचार का एक प्रकार है। यह एक ऐसी तकनीक है जिसमें पुरुष शुक्राणुओं को प्लास्टिक की पतली कैथेटर ट्यूब के जरिए महिला की ओवेरी में इन्जेक्ट किया जाता है। इस प्रक्रिया को करते वक्त डॉक्टर इस बात का विशेष ध्यान
27 जनवरी 2020
13 फरवरी 2020
चिकित्सीय विज्ञान में इन विट्रो फ़र्टिलाइज़ेशन यानी आईवीएफ तकनीक उन महिलाओं के लिए वरदान है जो माँ बनने की चाह रखते हुए भी गर्भावस्था का सुख नहीं ले पाती है। आईवीएफ तकनीक यानि टेस्ट ट्यूब बेबी प्रक्रिया, बांझपन के उपचार में काफी कारगर
13 फरवरी 2020
13 फरवरी 2020
चिकित्सीय विज्ञान में इन विट्रो फ़र्टिलाइज़ेशन यानी आईवीएफ तकनीक उन महिलाओं के लिए वरदान है जो माँ बनने की चाह रखते हुए भी गर्भावस्था का सुख नहीं ले पाती है। आईवीएफ तकनीक यानि टेस्ट ट्यूब बेबी प्रक्रिया, बांझपन के उपचार में काफी कारगर
13 फरवरी 2020
21 फरवरी 2020
कुछ महिलाओं को ओवुलेशन के आसपास बहत ही हलकी ब्लीडिंग का अनुभव हो सकता है जिसे हम ओवुलेशन स्पॉटिंग या हल्का रक्तस्राव कहते हैं। परन्तु हर महिला ओवुलेशन स्पॉटिंग का अनुभव नहीं करेगी। ओवुलेशन, तब होता है जब आपका अंडाशय एक अंडा जारी करती हैं। यह केवल 3 प्रतिशत महिलाएं दो
21 फरवरी 2020
17 फरवरी 2020
आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में तनाव एक आम समस्या बन चुका है। हर किसी के मन में कई तरह के विचार और चिंताएं चलती रहती हैं। कुछ चिंताएं ऐसी भी होती हैं जो हर किसी के साथ बांटी भी नहीं जा सकती हैं। ये चिंताएं परिवार को लेकर, आर्थिक तंगी को लेकर, स्वास्थ्य को लेकर या आपसी संब
17 फरवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x