एम्ब्र्यो फ्रीजिंग के बारे में जाने !

10 फरवरी 2020   |  बबीता राणा   (401 बार पढ़ा जा चुका है)

एम्ब्र्यो फ्रीजिंग

एम्ब्र्यो फ्रीजिंग एक चिकित्सीय प्रक्रिया है जिसके द्वारा एक भ्रूण (शुक्राणुओं द्वारा फर्टिलाइजड अंडे) को एक प्रयोगशाला में तरल नाइट्रोजन में प्रीज़र्व किया जाता है। इसके बाद यह सुनिश्चित किया जाता है कि भ्रूण अगले कुछ वर्षों तक सस्पेंडेड एनीमेशन की स्थिति में रहे। भ्रूण को पाँच से दस 10 साल तक के लिए प्रीज़र्व किया जा सकता है। भ्रूण फ्रीजिंग सुनिश्चित करता है कि भ्रूण को लंबे समय तक स्वस्थ और सही तरीके से संरक्षित किया जा सके। सर्वोत्तम परिणामों के लिए केवल उच्च गुणवत्ता वाले भ्रूणों को ही संरक्षित किया जाता है। फर्टिलिटी सेंटेर्स, स्टोरेज बैंकों में भ्रूण को सबसे सुरक्षित तरीके से संग्रहीत किया जाता है।


एम्ब्र्यो फ्रीजिंग के लाभ

आईवीएफ के विफल होने पर फ़्रोजन एम्ब्र्यो का उपयोग किया जा सकता है।

महिला को ओवरियन स्टिमुलेशन और एग रेट्रीवल की प्रक्रियाओं से गुजरने की जरूरत नहीं पड़ती है और वह सीधे भ्रूण स्थानांतरण कर सकती है।

फ़्रोजन एम्ब्र्यो का स्थानांतरण उन मामलों में भी किया जा सकता है जब कपल आईवीएफ के द्वारा पहला बच्चा होने के बाद अपना दूसरा बच्चा चाहते हैं। अगर वे बढ़ती उम्र में बच्चे को जन्म देने की योजना बना रहे हैं, तो वो भी इस प्रक्रिया का लाभ उठा सकते हैं। यह सुनिश्चित करता है कि उन्हें भविष्य में शुक्राणु दाताओं या अंडा दाताओं की आवश्यकता नहीं है।

ऐसे मामलों में, जटिल प्रजनन उपचार के बिना गर्भावस्था सरल तरीके से हो सकती है।


एम्ब्र्यो फ्रीजिंग के नुकसान

  1. एम्ब्र्यो फ्रीजिंग के समय सेवन की जाने वाली वाली दवाओं के साइड-इफेक्ट्स हो सकते हैं। इसलिए, इन दवाओं को लेते समय उचित देखभाल की ज़रूरत होती है।
  2. एम्ब्र्यो फ्रीजिंग से गुजरने वाले रोगियों में ओवरियन हाइपर स्टिमुलेशन सिंड्रोम हो सकता है।

एम्ब्र्यो फ्रीजिंग की प्रक्रिया

एम्ब्र्यो फ्रीजिंग की प्रक्रिया में कुछ निश्चित चरण होते हैं, जिन्हें उचित देखभाल की आवश्यकता होती है।

एग रिट्रीवल की प्रक्रिया शुरू होने से पहले आपको कम से कम एक सप्ताह के लिए कुछ सावधानियां बरतने की ज़रूरत होगी ताकि प्राप्त किए गए अंडों से गुणवत्ता वाले भ्रूण तैयार किए जा सकें। साथी के शुक्राणु के साथ महिला मरीज़ के अंडों को फर्टिलाइज किया जाता है। इससे भ्रूण का निर्माण होता है। भ्रूण को 3-4 दिनों के लिए मैचयोर होने के लिए रखा जाता है। इसके बाद इसे फ्रीज़ किया जाता है। एम्ब्र्यो फ्रीजिंग उन कपल्स के लिए सर्वोत्तम है जो अपने परिवार को शुरू करने या विस्तार करने के लिए एक सुरक्षित उपाय चाहते हैं।

सिंगल एम्ब्र्यो ट्रान्सफर बहुत लोकप्रिय हैं और फ़्रोजन एम्ब्र्यो ट्रान्सफर में आईवीएफ की सफलता दर भी अधिक है।


एम्ब्र्यो फ्रीजिंग की तैयारी कैसे करें

  1. एम्ब्र्यो फ्रीजिंग की सफलता के लिए विशिष्ट तैयारी की आवश्यकता होती है ताकि यह प्रक्रिया अंततः उस जोड़े के लिए सफल गर्भावस्था का कारण बन पाये:
  2. ब्लड टेस्ट्स स्क्रीनिंग (एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। इससे रोगियों की वास्तविक स्वास्थ्य स्थिति का पता लगाने में मदद मिलती है।
  3. अडों की गुणवत्ता और संख्या का पता लगाने के लिए ओवरियन रिजर्व टेस्टिंग की जाती है।
    फोल्लिकल स्टिमुलाटिंग हॉरमोन और एस्ट्राडियोल का परीक्षण महिला में अंडे की गुणवत्ता और संख्या का पता लगाने के लिए किया जाता है।
  4. संक्रामक रोग स्क्रीनिंग , यह जानने के लिए की जाती है कि क्या महिला एचआईवी, हेपेटाइटिस बी और सी से तो प्रभावित नहीं है। यह टेस्ट शिशु में इन गंभीर बीमारियों को ट्रान्सफर होने से रोकता है।
  5. एम्ब्र्यो फ्रीजिंग की प्रक्रिया शुरू करने से पहले कपल्स को चाहिए की वे सारे ज़रूरी टेस्ट्स करवा लें ताकि एक स्वस्थ बच्चे की जन्म प्रक्रिया में किसी तरह की बाधा न आए।

अगला लेख: ओवुलेशन स्पॉटिंग क्या है व कैसे करें पहचान!



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 फरवरी 2020
नॉ
सामान्य प्रसव के तीन चरण और सामान्य डिलीवरी में कितना समय लगता है :1. सामान्य डिलीवरी का पहला चरणसामान्य डिलीवरी के पहले चरण के तीन फेज़ निम्न हैं :अर्लि या लेटेंट फेज़पहली गर्भावस्था में लेटेंट फेज़ छह से दस घंटे तक रहता है। कुछ मामलों में यह अधिक लंबा या कम समय का भी हो सकता है। इस चरण में सर्विक्स (
08 फरवरी 2020
12 फरवरी 2020
आईयूआई की प्रक्रिया की ओर रूख करने से पहले डॉक्टर की ओर से महिला को कई तरह के टेस्ट करने की सलाह दी जाती है। ये टेस्ट इसलिए किये जाते हैं ताकि प्रक्रिया के दौरान किसी भी तरह की समस्या न हो और ट्रीटमेंट सफल हो सके।1. सामान्य स्क्रीनिंग टेस्ट - संक्रामक, आनुवंशिकसंक्राम
12 फरवरी 2020
31 जनवरी 2020
आईवीएफ ट्रीटमेंट की प्रक्रिया से पहले महिलाओं को टेस्ट, अलग-अलग जांच की जाती है और कई तरह के टेस्ट करवाए जाते हैं। करने की सलाह दी जाती है। जिससे आईवीएफ की प्रक्रिया के दौरान किसी भी तरह की समस्या न हो और ट्रीटमेंट सफल रहे। बांझपन का निदान करने के लिए किए गए परीक्षणों
31 जनवरी 2020
21 फरवरी 2020
कुछ महिलाओं को ओवुलेशन के आसपास बहत ही हलकी ब्लीडिंग का अनुभव हो सकता है जिसे हम ओवुलेशन स्पॉटिंग या हल्का रक्तस्राव कहते हैं। परन्तु हर महिला ओवुलेशन स्पॉटिंग का अनुभव नहीं करेगी। ओवुलेशन, तब होता है जब आपका अंडाशय एक अंडा जारी करती हैं। यह केवल 3 प्रतिशत महिलाएं दो
21 फरवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x