गर्भपात के बाद कितनी जल्दी गर्भधारण कर सकती हैं !

27 फरवरी 2020   |  बबीता राणा   (289 बार पढ़ा जा चुका है)


गर्भपात एक महिला को भावनात्मक रूप से तोड़ सकता है। एक महिला को पूरी तरह से स्वस्थ होने और फिर से गर्भवती होने में थोड़ा समय लग जाता है। गर्भपात के कुछ हफ्तों बाद ही आपका मासिक धर्म वापस सामान्य हो जाता है, इसलिए गर्भपात को लेकर कोई खास घबराने की ज़रूरत नहीं है।


गर्भपात के बाद मासिक धर्म चक्र कैसे बदलता है।

आपके शरीर को भ्रूण के नुकसान के बाद स्वस्थ होने के लिए समय की आवश्यकता होती है। गर्भपात के चार से छह सप्ताह बाद पीरियड्स फिर से शुरू होंगे। कुछ महिलाओं में, यह जल्दी भी शुरू हो सकता है। लेकिन, अगर उससे अधिक समय लगे तो अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से मिलें। गर्भपात के बाद आपकी पहले पीरियड्स में बहुत अधिक सर्विकल म्यूकस के साथ भारी रक्तस्राव हो सकता है। आप पीरियड्स में सर्विकल म्यूकस का बदला रंग और ब्लड क्लोट्स भी देख सकती हैं। आपकी माहवारी चार से सात दिनों तक हो सकती है और आप पूरे महीने में स्पॉटिंग देख सकती हैं। गर्भपात के बाद जब आप 20 दिनों के लिए लगातार ब्लीडिंग या स्पॉटिंग का अनुभव नहीं करती हैं, तो आपके पीरियड्स को फिर से नॉर्मल माना जाएगा। यदि गर्भावस्था से पहले आपकी माहवारी अनियमित थी, तो वह गर्भपात के बाद भी अनियमित रूप से जारी रहेंगी। एक अनियमित मासिक चक्र ओवुलेशन की ट्रैकिंग को और अधिक कठिन बना सकता है, लेकिन गर्भपात के बाद पहले कुछ मासिक चक्रों में फिर से गर्भवती होना संभव है।


गर्भपात के बाद ओव्यूलेशन में लगने वाला समय

आप गर्भपात के बाद दो सप्ताह के भीतर ओव्यूलेशन शुरू हो सकता है। यदि गर्भपात प्रेग्नेंसी की शुरुआत में हुआ हो तो लगभग एक सप्ताह में ब्लीडिंग रुक जाती है। यदि पहली या दूसरी तिमाही में गर्भपात हुआ हो तो रक्तस्राव अधिक समय तक चल सकता है। चार सप्ताह तक कुछ स्पॉटिंग भी हो सकती है। जैसे-जैसे रक्तस्राव कम होता है और हार्मोन का स्तर सामान्य हो जाता है, आपका मासिक धर्म भी फिर से शुरू हो जाता है। गर्भपात के बाद कई महिलाओं की माहवारी 4 से 6 सप्ताह के भीतर लौट आती है। जब आपके हार्मोनल स्तर सामान्य हो जाते हैं और आपके पीरियड्स लौट आते हैं, तो आप ओव्यूलेट कर सकती हैं। यदि आप गर्भावस्था की संभावनाओं को बढ़ाना चाहती हैं, तो आपको एक माहवारी के बाद फिर से गर्भवती होने की कोशिश करनी चाहिए। वैसे आप गर्भपात के बाद जल्दी गर्भधारण कर सकती हैं। बस ज्यादा तनाव न लें ।


गर्भपात के बाद ओव्यूलेशन के लक्षण


गर्भपात के बाद ओव्यूलेशन के लक्षण निम्नलिखित हैं:-

  • सेक्स ड्राइव में वृद्धि
  • स्तनों में संवेदनशीलता या कोमलता
  • लाइट स्पॉटिंग
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द
  • सर्विकल म्यूकस जो स्पष्ट और गाढ़ा दिखता है
  • आपके बेसल बॉडी टेंपरेचर में मामूली वृद्धि।

गर्भपात के बाद ओव्यूलेशन ट्रैक कैसे करें


गर्भपात के बाद ओव्यूलेशन पर नज़र रखने के कुछ तरीके यहां दिए गए हैं-


  • ओवुलेशन कैलेंडर का इस्तेमाल करें
  • बेसल बॉडी टेंपरेचर पर ध्यान दें
  • अपने कर्विकल म्यूकस की जाँच करें
  • क्लिनिक में अपने एचसीजी स्तर का परीक्षण करें


अगला लेख: ओवुलेशन स्पॉटिंग क्या है व कैसे करें पहचान!



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 फरवरी 2020
आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में तनाव एक आम समस्या बन चुका है। हर किसी के मन में कई तरह के विचार और चिंताएं चलती रहती हैं। कुछ चिंताएं ऐसी भी होती हैं जो हर किसी के साथ बांटी भी नहीं जा सकती हैं। ये चिंताएं परिवार को लेकर, आर्थिक तंगी को लेकर, स्वास्थ्य को लेकर या आपसी संब
17 फरवरी 2020
12 फरवरी 2020
आईयूआई की प्रक्रिया की ओर रूख करने से पहले डॉक्टर की ओर से महिला को कई तरह के टेस्ट करने की सलाह दी जाती है। ये टेस्ट इसलिए किये जाते हैं ताकि प्रक्रिया के दौरान किसी भी तरह की समस्या न हो और ट्रीटमेंट सफल हो सके।1. सामान्य स्क्रीनिंग टेस्ट - संक्रामक, आनुवंशिकसंक्राम
12 फरवरी 2020
13 फरवरी 2020
चिकित्सीय विज्ञान में इन विट्रो फ़र्टिलाइज़ेशन यानी आईवीएफ तकनीक उन महिलाओं के लिए वरदान है जो माँ बनने की चाह रखते हुए भी गर्भावस्था का सुख नहीं ले पाती है। आईवीएफ तकनीक यानि टेस्ट ट्यूब बेबी प्रक्रिया, बांझपन के उपचार में काफी कारगर
13 फरवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x