से सम्बंधित लेख निम्नलिखित है :-

जल्दी आना-लघुकथा

जल्दी आना-लघुकथापत्नी ने आफिस जाते पति से कहा - " घर जल्दी आ जाना !" हमेशा की भाँति पति - " हाँ, अवश्य" कहकर मुसकुराता हुआ ऑफिस के लिए निकल गया ! सदैव की भाँती पत्नी, पति के घर लौटने का इंतजार करने लगी और पति के साथ आने वाली शाम के सुहाने सपने बुनने लगी ! आदतन पति दोस्तों के साथ



अर्जुन के तीर

🔥⚜🔥⚜🔥⚜🔥⚜🌸⚜🔥⚜️ ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🏹 *अर्जुन के तीर* 🏹🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻 *मानव जीवन कर्माधीन है ! जिसका जैसा कर्म होता है उसको वैसा ही फल प्राप्त है | जिस प्रकार खेत में बीज डालने पर कोई तो शीघ्र जम जाता है परंतु कोई ब



24 नवम्बर 2020

tabib khan jiya sisters

bhatiji



24 नवम्बर 2020

tabib khan jiya sisters

bhatiji



24 नवम्बर 2020

tabib khan jiya sisters

my bhatiji



हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ६५

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *विश्राम - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*चौंसठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*पवन तनय संकट हरण म



हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ६४

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *चौसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*तिरसठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*पवन तनय संकट हरण म



हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ६३

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *तिरसठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*बासठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*पवन तनय संकट हरण म



हनुमान चालीसा !! तात्विक अनुशीलन !! भाग ६२

🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🟣 *श्री हनुमान चालीसा* 🟣 *!! तात्त्विक अनुशीलन !!* 🩸 *बासठवाँ - भाग* 🩸🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧🏵️💧*गतांक से आगे :--*➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖*इकसठवें भाग* में आपने पढ़ा :--*तुलसीदास सदा हरि चे



जिन्दगी की बैलेंसशीट

जिन्दगी की बैलेंसशीटहम सभी अपने व्यापर-व्यवसाय में अथवा जमा पूँजी यानि धन-संपत्ति का ब्यौरा रखते हैं। हर वर्ष की समाप्ति पर उसकी बैलेंसशीट तैयार करवाते हैं। उसका उद्देश्य यही होता है कि पूरा वर्ष हमने क्या कमाया और क्या खर्च किया। फिर उसी बची हुई राशि को हम आगामी वर्ष के लिए अपनी ओपनिंग स्टॉक बनाकर


गुपतार डिक्लरेशन , आर्टिकल 370 की बहाली का गठबंध

गुपतार डिक्लरेशन, आर्टिकल 370 की बहाली का गठबंधन?डॉ शोभा भारद्वाज पीडीपी अध्यक्षा महबूबा मुफ्ती का का झुकाव सदैव पाकिस्तान की तरफ रहा है उनकी भाषा बदलती रहती है जब वह सत्ता में रहती हैउनकी भाषा अलग होती है सत्ता से हटते ही अलग तेवर दिखाती है .अब पाकिस्तान कमजोर पड़ता जा रहा है आये दिन पाकिस्तान की



डर के आगे…

डर के आगे…एक शीतल पेय के विज्ञापन की आख़िरी पंक्ति से बात शुरू करते हैं,डर के आगे......जीत है.विज्ञापन में तो अतिशयोक्तिपूर्णदावा किया गया है.परंतु क्या ये मुमकिन है?यदि हाँ,तो कैसे?संस्कृत का एक श्लोक हमारा मार्गदर्शन कर सकता है-तावद्भयस्य भेतव्यं,यावद् भयमनागतम | आगतं तुभयं वीक्ष्य,प्रातिकुर्याद यथ



"सामान"

मेरी एकादशोत्तरशत काव्य रचना (My One Hundred eleventh Poem)"सामान"“घर-घर सामान भरा पड़ा हैहद से ज्यादा भरा पड़ा हैखरीद-खरीद के बटुआ खालीखाली दिमाग में सामान भरा पड़ा है -१हर दूसरे दिन बाहर जाना हैनयी-नयी चीजें लाना हैजरूरत है एक सामान कीढोकर हजार सामान लाना है-२अपने घर में जो रखा हैउसकी खुशी न करना



जीवन मरण के बीच के समय का सदुपयोग :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*ईश्वर द्वारा बनाई गई है सृष्टि बहुत ही रहस्य पूर्ण है | यहां पग पग पर रहस्य भरे पड़े हैं जिनको सुलझाने में मानव जीवन भी कम पड़ जाता है | जीवन एवं मरण का रहस्य अपने आप में अद्भुत रहस्य है | बड़े बड़े ज्ञानी विद्वान इस रहस्य को नहीं समझ पाते हैं और जो इस रहस्य को समझ गया वही परम ज्ञानी कहा जाता है |



श्री राम चरित मानस पाठ

‼️ भगवत्कृपा हि केवलं‼️ओम् नमो भगवते वासुदेवाय श्री राम चरित मानस 🌻अयोध्याकाँड🌻गतांक से आगे... चौपाई-एक कलस भरि आनहिं पानी।अँचइअ नाथ कहहिं मृदु बानी।।सुनि प्रिय बचन प्रीति अति देखी।राम कृपाल सुसील बिसेषी।।जानी श्रमित सीय मन माहीं।घरिक बिलंबु कीन्ह बट छाहीं।।मुदित नारि नर दे



परिक्रमा :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में जितना महत्व पूजा - पाठ , साधना - उपासना का है उससे कहीं अधिक महत्त्व परिक्रमा का है | परिक्रमा करने से अनेकों जन्मों के पाप भी नष्ट हो जाते हैं | हमारे शास्त्रों में स्पष्ट लिखा है :- "यानि कानि च पापानि , जन्मांतर कृतानि च ! तानि सर्वाणि नश्यन्तु प्रदिक्षण पदे पदे !! अर्थात :- अनेक



गिरनार की चढ़ाई (संस्मरण)

गिरनार की चढ़ाई (संस्मरण)समय-समय की बात होती है। कभी हम भी गिरनार की चढ़ाई को साधारण समझते थे पर आज तो सोच के ही पसीना छूटने लगता है। आज से आठ वर्ष पूर्व एक विशेष राष्ट्रीय एकता शिविर (Special NIC Camp) में महाराष्ट्र डायरेक्टरेट का प्रतिनिधित्व करने का अवसर मिला। पूरे बारह दिन का शिविर था। मेरे साथ द



मनुष्यों का वर्गीकरण

मनुष्यों का वर्गीकरणपरमपिता परमात्मा की इस सुन्दर सृष्टि में विभिन्न प्रकार के लोग हैं। ईश्वर के प्रति उनके कैसे भाव हैं, इसे आधार बनाकर यदि उनका वर्गीकरण किया जाए तो उन लोगों को हम तीन श्रेणियों में विभाजित कर सकते हैं। यानि इस संसार में तीन तरह के लोग होते हैं।           प्रथम श्रेणी में वे लोग आत


व्‍यवस्‍था में नम्‍बर पावर गेम की एंट्री

व्‍यवस्‍था में नम्‍बर पावर गेम की एंट्री नम्‍बरगेम और पावर गेम के चलते प्राय: देशों की लोकतांत्रिक व्‍यवस्‍था पर अब सवाल उठनेलगे हैं:पढे लिखे च विद्वान ज्ञानी लोगो को किनारे कर अब सिर्फ नम्‍बर व पावर गेमपर ध्‍यान दिया जा रहा है:अगर संवैधानिक व्‍यवस्‍था में इसे सुधार किया जाये तोबहुत हद तक लोकतात्रिक



MLT Course क्या है एक बार में कम्पलीट जानकारी

MLT Course के बारे में जान लीजिए, जोकि एक बहुत ही लाजवाब करियर ऑप्शन है आपके लिए।http://www.safaladda.com/2020/11/mlt-course-kya-hai-complete-jankari.html?m=1 MLT Course kya hai ek baar me complete jankariआज के बदलते हुए दौर में MLT Course करने वालों की संख्या बढ़ती जा रही



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x