से सम्बंधित लेख निम्नलिखित है :-

राजधानी में खरीदा जाता है कूड़े के लिए किराये का बचपन

बच्चों का नाम जहाँ आता है वहां बचपने की एक तस्वीर आँखों के सामने आ जाती है, पर बदलते समय के साथ इस बचपन की तस्वीर धुंधली होती जा रही है। रोज़ाना हम सड़कों पर कूड़ा उठाते बच्चों को देखते हैं और उन्हें देखते ही हमारे ज़हन में बाल मजदूरी का ख़्याल आता है, पर मांजरा यहां कुछ और ही है बाल मजदूरी नहीं बल्कि ये



आज ही के दिन राहुल बने थे कांग्रेस अध्यक्ष, पहली सालगिरह पर मिला ये अद्भुत उपहार

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी आज बेहद खुश है.आखिर खुश हो भी क्यों न, उनकी पार्टी ने इतना जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए भाजपा को मात दे दिया है. राजस्थान ,छत्तीसगढ़ में प्रचंड बहुमत के अलावे कांग्रेस मध्यप्रदेश में भी भाजपा को कांटे की टक्कर दे रही है. वो भी उस दिन जिस दिन कांग्रेस के राष्ट्री



अतहर आमिर से शादी करने वाली आईएएस टॉपर टीना डाबी ने इंस्टाग्राम पर बदला अपना नाम |

2016 में भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) परीक्षा की टॉपर रहीं टीना डाबी और दूसरे स्थान पर रहे अतहर आमिर का इश्क शादी के पवित्र बंधन में बंधने के बाद से ही दोनों मीडिया की सुर्खियों में बने हुए हैं। पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर की हसीन वादियों में दोनों की प्रेम कहानी शादी के बंधन में तब्दील हो गई। टीना और



नाम एवं पद की मर्यादा :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*योनियों भ्रमण करने के बाद जीव को इन योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि प्राप्त होती है | मनुष्य जन्म लेने के बाद जीव की पहचान उसके नाम से होती है | मानव जीवन में नाम का बड़ा प्रभाव होता है | आदिकाल में पौराणिक आदर्शों के नाम पर अपने बच्चों का नाम रखने की प्रथा रही है | हमारे पूर्वजों का ऐसा मानना थ



मानवता :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सकल सृष्टि में परमात्मा द्वारा बनाई गई चौरासी लाख योनि भ्रमण करती हैं | इन सभी योनियों में सर्वश्रेष्ठ बन करके मानव योनि आयी | इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक मनुष्य का एक लक्ष्य होता है | यह अलग बात है कि वह अपने लक्ष्य को पूरा कर सके या ना कर सके परंतु मनुष्य के जन्म लेते ही उसके साथ उसके



अहिंसा परमो धर्म: :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*अखिलनियंता , अखिल ब्रह्मांड नायक परमपिता परमेश्वर द्वारा रचित सृष्टि का विस्तार अनंत है | इस अनंत विस्तार के संतुलन को बनाए रखने के लिए परमात्मा ने मनुष्य को यह दायित्व सौंपा है | परमात्मा ने मनुष्य को जितना दे दिया है उतना अन्य प्राणी को नहीं दिया है | चाहे वह मानवीय शरीर की अतुलनीय शारीरिक संरचन



संतुष्टि :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*ईश्वर ने मनुष्य को इस संसार में सारी सुख सुविधाएं प्रदान कर रखी है | कोई भी ऐसी सुविधा नहीं बची है जो ईश्वर ने मनुष्य को न दी हो | सब कुछ इस धरा धाम पर विद्यमान है आवश्यकता है कर्म करने की | इतना सब कुछ देने के बाद भी मनुष्य आज तक संतुष्ट नहीं हो पाया | मानव जीवन में सदैव कुछ ना कुछ अपूर्ण ही रहा ह



राजस्थान चुनाव: 5 कारण जो भाजपा की हार पर मोहर लगाते हैं -

विधानसभा चुनाव के नतीजे जिस तरह से आ रहे हैं उन्हें देखकर लगता है कि राजस्थान में भाजपा की सरकार बनना अब मुश्किल है और वसुंधरा राजे के दोबारा मुख्यमंत्री बनने की उम्मीदें तो बेहद कम हो गई हैं. कांग्रेस और भाजपा के बीच का ये मुकाबला राजस्थान में बदलकर वसुंधरा खेमा और सचिन



तेलंगाना में बुरी तरह हारी बीजेपी, 119 सीटों में से भाजपा को सिर्फ 2 सीट हासिल

तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के लिए मतगणना जारी है। यहां सभी 119 विधानसभा सीटों के रुझान आ गए हैं। रुझानों के मुताबिक यहां टीआरएस को बहुमत मिल गया है। टीआरएस ने 90 सीटों पर बढ़त बनाई हुई है। इस बार 119 सीटों पर 1821 उम्मीदवार अपनी किस्मत अजमा रहे हैं। बता दें कि रूझानों मे



समीक्षा

भेलपूरी सी चटपटी व्यंग्य की शानदार पुस्तक पुस्तक: हास्य-व्यंग्य भेलपूरी सी चटपटी व्यंग्य की शानदार पुस्तकपुस्तक: हास्य-व्यंग्य की भेलपूरीरचनाकार: विनोद्कुमार विक्की 9113437167प्रकाशक: रवीना प्रकाशन, सी -316 , गली नंबर- 11 गंगा विहार, दिल्ली -110094 मोबाइल 92 0512 72



धीरूभाई अम्बानी की कहानी : मात्र 500 रूपये से बनाया 75000 करोड़ का साम्राज्य

महज़ 500 रूपये से अपने सफर की शुरुआत करने वाले धीरूभाई अंबानी कैसे 75000 करोड़ के मालिक बन गए। ये कोई जादू नहीं बल्कि कड़ी मेहनत और धैर्य का नतीज़ा है। अंबानी परिवार का नाम दुनियाभर में बड़े उद्योगपतियों में शुमार होता है। अपनी मेहनत से उन्होंने दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। देश - विदेश में आज ह



फीफा अध्यक्ष ने पीएम मोदी को तोहफे में दी ‘420’ नंबर लिखी जर्सी! जानिए क्या है वायरल तस्वीर का सच....

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ दिनो पहले जी-20 सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए अर्जेंटीना दौरे पर थे। इस दौरान उन्होंने फीफा अध्यक्ष जियानी इनफेंटिनो से भी मुलाकात की थी, जिन्होंने मोदी को एक फुटबॉल जर्सी भेंट की थी। इस जर्सी पर नरेंद्र मोदी का नाम लिखा था, साथ ह



एक प्यार ऐसा भी

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh



बेबसी

यहाँ जिस चीज़ को चाहो, वही ना पास आती है ज़िन्दगी खेल में अपने, फ़कत सबको नचाती हैजो अपने पास होता है, कदर उसकी नहीं होती दूसरे की सफलता जाने क्यों, सबको लुभाती हैखिलाए गैरों के गुलशन, फक्र इसका मुझे हैं पर अपनी उजड़ी हुईं बगिया देखो, मुझको रूलाती हैकभी थी रोशनी जिससे, शमा वो अब नहीं दिखतीएक लपट आग क



"ग़ज़ल" सखा साया पुराना छोड़ आये वसूलों का ठिकाना छोड़ आये

वज़्न - 1222 1222 122, अर्कान - मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फऊलुन, बह्र - बह्रे हज़ज मुसद्दस महज़ूफ़, काफ़िया -ज़माना (आना की बंदिश) रदीफ़ - छोड़ आये"ग़ज़ल" सखा साया पुराना छोड़ आयेवसूलों का ठिकाना छोड़ आयेन जाने कब मिले थे हम पलों सेनजारों को खजाना छोड़ आये।।सुना है गरजता बादल तड़ककरछतों पर धूप खाना छोड़ आये।।बहाना था



सड़क दुर्घटनायें और हमारी बेपरवाही

सरकारी आंकड़ों के अनुसार भारत में हर दिन चार सौ से अधिकलोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे जाते हैं. निश्चय ही यह एक भयानक सच्चाई है. पर इसत्रासदी को लेकर हम सब जितने बेपरवाह हैं वह देख कर कभी-कभी आश्चर्य होता है; लगताहै कि सभ्य होने में अभी कई वर्ष और लगेंगे.अब जो आंकड़े विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने जारी क



कुछ कुछ - किस्त पहली

कुछ कुछ - किस्त पहलीमेरी ओर से प्रयास, एक लघु कदम, मेरे हिंदी के ज्ञान में सुधार हेतु। जो भी हिंदी के जानकार हैं, विद्वान हैं, उनसे निवेदन है, आग्रह है की वो आगे आयें। इस कार्य में योगदान, सहयोग, सहायता करें। इस उद्देश्य के साथ लेख प्रक



भाई हो तो मुकेश अंबानी जैसा..जो भाई झगड़ा करके उनसे अलग हुआ-सबसे पहले की उसकी मदद

कहते हैं अगर नाक की लड़ाई ना हो तो एक भाई के लिए उसका भाई ही सबसे बड़ा मददगार होता है। मुकेश अंबानी और अनिल अंबानी को ही देख लीजिए। दोनों भाई हैं। सगे भाई। धीरूभाई अंबानी के स्वर्ग सिधारते ही रिश्तों में दूरियां आ गई थी, और दोनों मन से बहुत दूर हो गए।फिर मोबाइल फोन के जिस



शादी के लिए आए फूलों से सजी स्निग्धा की अर्थी काश पापा ने मान ली होती बात

पटना, जेएनएन। जिन फूलों से मंडप सजना था, उनसे स्निग्धा की रविवार को अर्थी सजी। शनिवार को उसके तिलक की रस्म हुई थी। रविवार को मंडप था और सोमवार को शादी होनी थी। मंडप और घर को सजाने के लिए फूल मंगाए गये थे। शव शास्त्रीनगर थाने के पटेलनगर इलाके के स्नेही पथ स्थित उसके घर चंद्र विला लाया गया।शव को अंतिम



सम्मान कब मिलेगा

कहानी सत्य को दर्शाती, इतिहास भी बताती, वर्तमान की दशा दिखाती, और भविष्य का चित्र बनाती सबको अपनी कहानी सुनाती अपने अधिकार की बात है करती सम्मान पाने की चाह लिए निकल पड़ी है खुली सड़क पर साथ आपका पाने अब… शीर्षक सम्मान कब मिलेगा बिंदी माथे से खिसकी हुई, पल्लू भी सिर से सरका हुआ था; चेहरे की रंगत


आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x