से सम्बंधित लेख निम्नलिखित है :-

सुलगता भारत :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमात्मा ने सुंदर सृष्टि की रचना की तो मनुष्य ने इसे संवारने का कार्य किया | सृजन एवं विनाश मनुष्य के ही हाथों में है | हमारे पूर्वजों ने इस धरती को स्वर्ग बनाने के लिए अनेकों उपक्रम किए और हमको एक सुंदर वातावरण तैयार करके सुखद जीवन जीने की कला सिखाई थी | मनुष्य ने अपने बुद्धि विवेक से मानव जीवन मे



उम्मीद यानि डूबते को तिनके का सहारा - दिनेश डॉक्टर

अगर आपकी नीयत ठीक है और किसी के भले के लिए कर रहे है तो लोगों को उम्मीदें बांटे, भले ही झूठी ही क्यों न हो । कई बार झूठा दिलासा भी बहुत काम कर जाता है । ज़रूरी नही कि आप मुझसे सहमत हों । आपकी अपनी वज़हें हो सकती है मुझसे इत्तेफ़ाक़ न रखने के लिए । आप कह सकते है कि यार किसी को अंधेरे में क्यों रखना - जो


How to Create an HTML Sitemap Page in Blogger?

How to Create an HTML Sitemap Page in Blogger?Hello, Friends welcome to Digital Web Show Family. Today we are introducing how to Create HTML Sitemap Page in Blogger. There are many ways to add a sitemap page in a blogger but this Technic is a very easy and simple trick to add sitemap page in blogger



जरा हटके: बारात आने में हुई देरी तो दुल्हन ने दूसरा पटा लिया, ऐसी है दिलचस्प कहानी

हर इंसान के जीवन में शादी बहुत अहम फैसला होती है तभी इसे करने से पहले लोग बहुत सोचते हैं क्योंकि इंसान अपने जीवन में शादी एक बार ही करता है। अगर ये शादी हमेशा चल गई और इंसान खुशी के साथ इसे बिताने लगे तो बस उसकी सारी परेशानी दूर हो जाती है लेकिन अगर ऐसा नहीं हो पाता तो हमेशा के लिए उन्हें भोगना पड़त



मनोरंजन के नाम पर अश्लीलता क्यों :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर मनुष्य कर्मशील प्राणी है निरंतर कर्म करते रहना उसका स्वभाव है | मनुष्य शारीरिक श्रम के साथ-साथ मानसिक श्रम भी करता है जिससे उसे शारीरिक थकान के साथ-साथ मानसिक थकान का भी आभास होता है | इस थकान को दूर करने का सबसे सशक्त साधन कुछ देर के लिए मन को मनोरंजन में लगाना माना गया है | पूर्वकाल



समर्पण

समर्पणमेरे समर्पण को मेरी दीवानगी ठहरा , आज तुम हँस लिए ,मगर ,यह वह आग है , जो अंधेरे को उजाले से मिला ही देगी।परमजीत कौर11 . 12 . 19



दिनचर्या और जीवन शैली

दिनचर्या और जीवनशैली गत सात दिसम्बर को WOW India की ओर से Lifestyle diseases यानी एक अननुशासित दिनचर्या के कारण होने वाली बीमारियों पर चर्चा के लिएएक वर्कशॉप का आयोजन किया गया | आयोजन सफल रहा | लेकिन उसके बाद जब हमने रिपोर्टपोस्ट की तो कुछ लोगों ने बात की कि आज के समय में जो लोग Working हैं, यानी क



रानू मंडल के विवाद पर ये क्या कह गए हिमेश रेशमिया?

पिछले कुछ महीनों से सोशल मीडिया पर रानू मंडल का नाम खूब चर्चित रहा है। रानू मंडल को फिल्मों में गाने के लिए मुंबई बुलाया गया था लेकिन वे गानों से ज्यादा सोशल मीडिया पर किसी ना किसी वीडियो या मीम्स के जरिए छाई रहती हैं। रानू मंडल के ऊपर एक के बाद एक मीम्स या विवाद हो ही रहे हैं यहां तक उनके ऊपर ये भी



हैदराबाद गैंगरेप: अब इस केस में आया नया मोड़, आरोपियों के घरवालों ने लगाया पुलिस पर आरोप, कहा-हमारे बच्चों को..

देश में रेप और उसके बाद हत्या की घटना ज्यादा ही बढ़ने लगी है। हर लड़की एक डर के साए में जी रही है और सरकार से एक ही सवाल कर रही है कि क्या वे भारत में सेफ हैं। पहले दिल्ली वाले निर्भया केस और अब हैदराबाद जैसा केस सामने आया जिसके बाद देश में एक आक्रोश आ गया है। सभी एक ही सवाल कर रहे है कि उन्हें सजा



परियों की कहानी हिन्दी में । परियों की खूबसूरत कहानी। Pari Story in Hindi 2019.

परियों की कहानी परीलोक में परियों की एक राजकुमारी थी। वह छोटे बच्चों से बहुत प्यार करती थी। एक दिन राजकुमारी नई तय किया कि बच्चों के स्कूल के सबसे स्वस्थ बच्चे को ढेर सारे तोहफे और वरदान देगी।राजकुमारी अपने उड़नखटोले पर बैठ कर बच्चों के स्कूलों का निरिक्षण करने लगी। र



रोला छंद

रोला- रोला छंद दोहा का उलटा होता है l विषम चरण में ग्यारह मात्रा एवं सम चरण में तेरह मात्रा के संयोग सेनिर्मित [११+१३=२४ मात्रिक ] लोकप्रिय रोला छंद है l रोला छंद में ११,१३ यति २४ मात्रिक छंद है दो क्रमागत चरण तुकांत होते हैं काव्य रम



मनुष्यता से पशुता की ओर :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*आदिकाल में परमपिता परमात्मा ने इस धरती पर जीवन की सृष्टि करते हुए अनेकों प्राणियों का सृजन किया | पशु पक्षी जिन्हें हम जानवर कहते हैं इनके साथ ही मनुष्य का भी निर्माण हुआ | मनुष्य ने अपने बुद्धि कौशल से निरंतर विकास किया और समाज में स्थापित हुआ | यदि वैज्ञानिक तथ्यों को माना जाय तो मनुष्य भी पहले प



सेल्फियों की दुनियां

सेल्फियों का देशआज सुबह एक मित्र का मेसेज आया कि मैं जहां जहां घूम रहा हूँ , वहां के दृश्यों की अपने साथ सेल्फी लेकर पोस्ट क्यों नही कर रहा हूँ । क्यों सिर्फ कुदरत के नज़ारों को ही शूट करके शेयर कर रहा हूँ । दरअसल उनके लिखने की मंशा ये थी कि 'तुम किसी दूसरे के फोटो चुरा कर हमें इम्प्रेस कर रहे हो कि


छत्तीसगढ़ मेें 'एम्स... नाम बड़े, दर्शन छोटे

सिर्फ 'छींकने वालों की जांच के लिये क्यों बना दिया अस्पताल ?पांच साल से ज्यादा का वक्त गुजर गया.. मरीजों को दूसरे अस्पताल जाने का डायरेक्शन दिया जाता है... साफ्टवेयर अपडेट करने जैसे मामलों के लिये दस रूपये की वसूली... वह भी बिना रसीद के..करोडों रूपये खर्च करने के बाद



जीवन साथी

प्रकृति में भांति-भांति के रंगबिखेरमन को मेरे- छोड़ दिए प्रभुसादामनमोहक संध्या हो या सुहानी भोरप्रिये बिन न रखना कभी मुझे तुम आधाडॉ. कवि कुमार निर्मल©®



जीवन के उद्गम को न भूलें :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संपूर्ण सृष्टि की रचना पारब्रह्म परमेश्वर ने अपनी इच्छा मात्र से कर दिया | इस सृष्टि का मूल वह परमात्मा ही है | प्रत्येक मनुष्य को मूल तत्व का सदैव ध्यान रखना चाहिए क्योंकि यदि मूल को अनदेखा कर दिया जाए तो जीवन सुचारू रूप से नहीं चल सकता | जिस प्रकार इस सृष्टि का मूल परमात्मा है उसी प्रकार मनुष्



काल एक साया

लक्ष्य पर नहीं पहुंच पाना अफसोस की बात नहीं          पहुंचने के लिए लक्ष्य ही ना हो यह अफसोस की बात हैएक लड़का था. उसे पढ़ने का बहुत शौक था. जब वह बड़ा हुआ तो उसने दूसरे देशों में जाकर आगे की पढ़ाई करने की बात सोचा.और अपने पिता के पास जाकर कहा- पिताजी मैं अब बाहर जाकर आगे की पढ़ाई करना चाहता हूं आप


Forts in Maharashtra : महाराष्ट्र के प्रसिद्ध मुख्य किले। जाने प्रमुख किलों के बारे में।

१- विजय दुर्ग – यह मुंबई से ४८५ किलोमीटर दूर सिंधुदुर्ग जिले में स्थित है। यह अरब सागर और सह्याद्री पहाड़ियों के बीच में स्थित है। यह मराठा शास न के दौरान नौसेना बेस के रूप में काम किया और इस समय भी एक बंदरगाह के रूप में सेवा दे रहा है।यह एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है। यहां



शेर

लुटेरे बन गए हो तुम, महफिले लूट लेते हो सजा अब आपको है मुकर्रर महफिले सजाने की



अपनी सोच , अपना कर्म।

यदि आप सकारात्मक सोचेंगे तो आपके जिवन में भी सकारात्मक होगा। उदाहरण के लिए यदि आप गाडी से कहिंं जा रहे हो और तब अचानक से आपको एक्सिडेंट का ख्याल आता है, यहांं ध्यान देने वाली बात यह है कि आपने स्वयम ही एक्सिडेंट को अपने दिमाग में जगह दी इसलिए एक्सिडेंट होना तय है , इससे बचने के लिए अपने आसपास सकारात



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x