जन्म जन्मांतर के बैर के लिए प्रार्थना

23 सितम्बर 2018   |  विजय कुमार तिवारी   (85 बार पढ़ा जा चुका है)

जन्म-जन्मान्तर के वैर के लिए क्षमा और प्रार्थना
विजय कुमार तिवारी
अजीब सी उहापोह है जिन्दगी में। सुख भी है,शान्ति भी है और सभी का सहयोग भी। फिर भी लगता है जैसे कटघरे में खड़ा हूँ।घर पुराना और जर्जर है। कितना भी मरम्मत करवाइये,कुछ उघरा ही दिखता है। इधर जोड़िये तो उधर टूटता है। मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। मेरे लिये पर्याप्त है। कितनी हरियाली है यहाँ और पेड़-पौधों की बहुलता। अमराईयों में बैठने का अपना सुख है। फूलों की बेतरतीब क्यारियों,गुँजार करते भौरों,उछलती-कुदती गिलहरियों,रंग-विरंगी चिड़ियो,तितलियों और बाड़े की झाडियों द्वारा सृजित यह परिवेष बहुत ही आकर्षक,मनमोहक और सुखकर है। यहाँ अलग से ध्यान करने की जरुरत नही हैं,स्वतः ध्यान लगता है। ईश्वर की उपस्थिति का अहसास होता है और मन में उमंग और प्रफुल्लता है। भला और क्या चाहिये?
दूसरे लोग मेरी तरह क्यों नहीं सोचते? सुख और शान्ति भीतरी चीज है जो आपके विचारों से जुड़ी है। अपने विचारों को ठीक कीजिये,आपका संसार खुद-ब-खुद सँवर जायेगा। किसी को कमतर मत आँकिये। सभी को परमात्मा ने कुछ न कुछ विशेष दिया है। उस विशेष को पहचानिये और उसका सम्मान कीजिये। कोई राजमहल में भी करवटें बदलता रहता है,उसे नींद नहीं आती और कोई झोपड़ी में भी चैन की नींद लेता है। कोई बहुत धन-दौलत एकत्र करके भी दुखी रहता है और कोई
कम संसाधनों में भी सुखी-सन्तुष्ट रहता है। इसलिए बाहरी तौर पर किसी को देखकर उसके भीतरी आनन्द को समझना सरल नहीं है।
आत्मा के सम्बन्ध को समझना बहुत जरुरी है। केवल वही लोग आपके नहीं हैं जो कुल-खानदान में पैदा हुए हैं।कुल-खानदान के रिश्ते ऐसे हैं जिन्हें चाहे-अनचाहे आपको स्वीकार करना ही है और इनसे सुख कम, दुख और विरोध ज्यादा मिलने की सम्भावना है।इनसे बाहर के सम्बन्ध ऐसे हैं जिनमें दोनो पक्ष की तत्परता काम करती है। निभाने की जिम्मेदारी दोनो की होती है। एक ने ढ़ीलापन दिखाया तो सम्बन्ध खत्म होने लगता है। कुछ ऐसे भी बाहरी सम्बन्ध हैं जो खूब आनन्द देते हैं। खूब निभाये जाते हैं।रिश्ता की पहली शर्त है कि कभी भी एक-दूसरे पर बोझ ना बने और ना ही किसी तरह की दखलंदाजी करे। बहुत सुझाव या सलाह ना दिया करे। कोई भी जिस अवस्था में है उसके लिए उसके संस्कार,उसका परिवेष,उसकी सोच,उसका अन्य सभी से सम्बन्ध और उसके खुद के गुण-दुर्गुण जिम्मेदार हैं।
हम केवल मानव शरीरधारी आत्मा को महत्व देते हैं। अन्य योनियों में स्थित आत्माओं को महत्व नहीं देते या कम देते हैं। पूर्व जन्मों के सम्बन्धों के कारण ही उन आत्माओं से पुनर्मिलन होता है।
कोई भी जीव जो आपके करीब आ गया है, समझिये कि उस से आपका सम्बन्ध है। रिश्तों की शुरुआत भी वैसे ही होगी,जहाँ आप पूर्व जन्म में छोड़ आये हैं। अत आसपास के सभी जीवों से प्रेम भाव ही रखना चाहिये। प्रेम से ही हमारा जीवन सुखी हो सकता है।
जिस व्यक्ति या जीव से सम्बन्ध अच्छे नहीं है,वह आपका अहित करने में लगा है और आपको गिराना या दुखी करना चाहता है तो सम्भल जाईए,यह वही आत्मा है जिसके साथ आपने किसी पूर्व जन्म में ऐसा ही व्यवहार किया है। ज्योंही ऋण पूरा हो जायेगा,सम्बन्ध सामान्य हो जायेंगे या आप दोनो फिर ना मिलने के लिए अलग हो जायेंगे। दो आत्माओं के सम्बन्ध खराब नहीं होते परन्तु जब वे शरीरों में आकर किसी रिश्ते में जुड़ती हैं तो बहुत से तात्कालिक तत्व प्रभावित करते हैं। लोभ,ईर्ष्या,अहंकार आदि के चलते सम्बन्ध बिगड़ने लगते हैं। एक सिलसिला शुरु हो जाता है और जन्म-जन्मान्तर तक चलता रहता है। यही माया का खेल है। यह तभी रुकेगा जब एक पक्ष सामने वाले के आक्रमण को सहन करना सीख जायेगा। कोई भी वही व्यवहार वापस करेगा जो आपने उसके साथ किया है। हमें अपनी आत्मा को उच्चतर अवस्था में ले जाने का प्रयास करना चाहिए। लगातार बुरी संगति,बुरे कर्म हमें गिराते हैं और हमारी आत्मा कमजोर होती है। कमजोर आत्मा सही निर्णय नहीं ले पाती। इसके लिए हमे अपने सद्गुणों को जगाये रखना चाहिए।
सबसे पहले उन लोगों से सावधान हो जाईये जो आपके नैतिक भीतरी आनन्द पर प्रश्न करते हैं। या तो वे कुछ जानते नहीं या जानबुझकर अपना खेल खेलते हैं। आत्म-रक्षा करनी ही चाहिए। सजग रहकर हम बड़ी हानि को कम कर सकते हैं। हमे परमात्मा से प्रार्थना करनी चाहिए। एक बार मेरा तबादला ऐसी जगह हुआ जहाँ ना तो मैं परिवार ले जा सकता था और न ही कोई रेल-बस की समुचित व्यवस्था थी।साप्ताहिक मोटर साईकिल से आना-जाना शुरु हुआ। सोमवार को जाना और शनिवार को वापस आना। 4 बजे प्रातः घर छोड़ देता था और 153 किलोमीटर की दूरी तय करके 8 बजे गन्तव्य तक पहुँचता था । घर से मुँह अन्धेरे निकलना पड़ता था।लगभग 40 किलोमीटर की दूरी पर एक गाँव था जहाँ के लोग घरों के सामने बहुत साफ-सुथरा रखते थे और 8-10 कुत्ते सोये रहते थे। किसी सोमवार को अचानक उसमें से एक युवा कुत्ते ने मुझपर आक्रमण कर दिया। किसी तरह गिरने और उसके काटने से बचा। अगले सोमवार को घर से निकलते ही उस घटना की याद आ गयी। उसका मुझपर ऋण है, मैने मान लिया।पहले भगवान से अपने पूर्व के किसी जन्म में किये अपराध के लिए क्षमा मांगी," हे परमात्मा,मुझे याद नहीं कि किस जन्म में इस जीव में स्थित आत्मा को दुखी और पीड़ित किया है। जिस तरह से इसने मुझ पर आक्रमण किया है,निश्चित ही मैने अपराध किया होगा। आज मैं उस आत्मा से दिल से क्षमा मागता हूँ और आपसे भी प्रार्थना करता हूँ कि मुझ पर और उस आत्मा दोनो पर कृपा करें।" जब उस गाँव से गुजरा तो वह उठ खड़ा हुआ और क्रोधपूर्ण दृष्टि से देखा परन्तु आक्रमण नहीं किया। उसके अगले सोमवार को भी मेरी प्रार्थना जारी थी। इसवार वह सजग होकर बैठे हुए गुस्से से देखता रहा। उसके बाद वाले सोम को उसने सोये-सोये आँखे खोलकर देख लिया। शायद क्रोध भी नहीं था। उसके अगले सोम को वह दिखा ही नहीं। मैने रुक कर उसे इधर-उधर खोजना चाहा पर नहीं मिला.। उस आत्मा को मैने दिल से प्रणाम किया और क्षमा कर देने के लिए धन्यवाद भी।

अगला लेख: उसने कभी निराश नही किया -3



रेणु
23 सितम्बर 2018

आदरणीय विजय जी -- आज आपने लेख से बहुत अनमोल जीवन दर्शन ग्रहण किया और भावुक भी हो गयी | आपने पूर्व जन्मों की क्षमा की बात बताई तो कई लोगों से शिकायत खुद ब खुद भीतर से गायब हो गयी | शायद यही सच है | सादर आभार और नमन इस सुंदर अध्यात्मिक लेख के लिए |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 सितम्बर 2018
जब था छोटागाँव में, घर मेंसबका प्यारा, सबका दुलाराथोडा सा कष्ट मिलने परमाँ के कंधे पररखकर अपना सिरसरहोकर दुनिया से बेखबरबहा देता, अपने सारे अश्कमाँ के हाथ की थपकियाँदेती सांत्वनासाहस व झपकियाँसमय ने, परिस्थितियों नेउम्र से पहले बड़ा कर दियाअब जब भीजरूरत महसूस करतासांत्वना, आश्वासन कीमाँ के पास जाता
10 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नहीं किया-2विजय कुमार तिवारीसौम्या शरीर से कमजोर थी परन्तु मन से बहुत मजबूत और उत्साहित। प्रवर जानता था कि ऐसे में बहुत सावधानी की जरुरत है। जरा सी भी लापरवाही परेशानी में डाल सकती है। पहले सौम्या ने अपनी अधूरी पढ़ायी पूरी की और मेहनत से आगे की तैयारी
26 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
कहानीबदले की भावनाविजय कुमार तिवारीभोर की रश्मियाँ बिखेरने ही वाली थीं,चेतन बाहर आने ही वाला था कि उसके मोबाईल पर रिंगटोन सुनाई दिया। उसने कान से लगाया।उधर से किसी के हँसने की आवाज आ रही थी और हलो का उत्तर नही। कोई अपरिचित नम्बर था और हँसी भी मानो व्यंगात्मक थी। कौन हो सकती है? बहुत याद करने पर भी क
12 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
गा
कहानीगाँव की लड़की का अर्थशास्त्रविजय कुमार तिवारीगाँव में पहुँचे हुए अभी कुछ घंटे ही बीते थे और घर में सभी से मिलना-जुलना चल ही रहा था कि मुख्यदरवाजे से एक लड़की ने प्रवेश किया और चरण स्पर्श की। तुरन्त पहचान नहीं सका तो भाभी की ओर प्रश्न-सूचक निगाहों से देखा। "लगता है,चाचा पहचान नहीं पाये,"थोड़ी मु
12 सितम्बर 2018
22 सितम्बर 2018
तु
कोशिशें लाख की मगर तुझे भुला ना पाया हूँ तस्वीर तेरी दिल से हटा ना पाया हूँ खुदा के घर में बैठा हूँ मगर नाम तेरा ही है लबों पर उसकी इबादत भी कर ना पाया हूँमहफ़िलों में मिलते हैं हसीन कई, मगर ढूँढती है जिसे नज़रदीदार उसके कर ना पाया हूँ मोहब्बत की वजह से है ज़िंदगी मेरीमगर, जिससे की है मोहब्बतउसे बात
22 सितम्बर 2018
02 अक्तूबर 2018
सदा सहज हो जीवन दाता कटुटा ना अपनाऊँ मानवता हित सदा समर्पित का जीवनदर्शन अपनाऊँ । जिस हित बना बना राष्ट्र यह उस हित बलि बलिदान सदा अपने को पाऊँ नाथ मालिक ईश है सृष्टा उसकी मर्जी पर चल पाऊँ नारी सम्मान सतत् जीवन माता का जीवन भारी भार ऋण से सदा
02 अक्तूबर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा और पुनर्जन्मविजय कुमार तिवारी यह संसार मरणधर्मा है। जिसने जन्म लिया है,उसे एक न एक दिन मरना होगा। मृत्यु से कोई भी बच नहीं सकता। इसीलिए हर प्राणी मृत्यु से भयभीत रहता है। हमारे धर्मग्रन्थों में सौ वर्षो तक जीने की कामना की गयी है-जीवेम शरदः शतम। ईशोपनिषद में कहा गया है कि अपना कर्म करते हुए मन
23 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा से आत्मा का मिलनविजय कुमार तिवारीभोर में जागने के बाद घर का दरवाजा खोल देना चाहिए। ऐसी धारणा परम्परा से चली आ रही है और हम सभी ऐसा करते हैं। मान्यता है कि भोर-भोर में देव-शक्तियाँ भ्रमण करती हैं और सभी के घरों में सुख-ऐश्वर्य दे जाती हैं। कभी-कभी देवात्मायें नाना र
23 सितम्बर 2018
25 सितम्बर 2018
वो
क्या दोष था मेरा बस मैं एक लडकी थी अपना बोझ हल्का करने का जिसे बालविवाह की बलि चढा दिया मैं लिख पढकर समाज का दस्तूर मिटा एक नई राह बनाना चाहती थी मजबूर, बेवश,मंडप की वेदी पर बिठा दिया दुगुनी उम्र के वर से सात फेरे पडवा दिए वक्त की मार बिन बुलाए चली आई छीट की चुनरिया के सब रंग धुल गए कल की शुभ लक्ष
25 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानी उसने कभी निराश नहीं किया-1विजय कुमार तिवारी"अब मैं कभी भी ईश्वर को परखना नहीं चाहता और ना ही कुछ माँगना चाहता हूँ। ऐसा नहीं है कि मैंने पहले कभी याचना नहीं की है और परखने की हिम्मत भी। हर बार मैं बौना साबित हुआ हूँ और हर बार उसने मुझे निहाल किया है।दावे से कहता हूँ-गिरते हम हैं,हम पतित होते है
26 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नही किया-3विजय कुमार तिवारीजिस प्रोफेसर के पथ-प्रदर्शन में शोधकार्य चल रहा था,वे बहुत ही अच्छे इंसान के साथ-साथ देश के मूर्धन्य विद्वानों में से एक थे। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की निर्धारित तिथि के पूर्व शोध का प्रारुप विश्वविद्यालय मे जमा करना था। मात्र तीन दिन बचे थे।विभागाध्य
26 सितम्बर 2018
25 सितम्बर 2018
वो
लाठी की टेक लिए चश्मा चढाये , सिर ऊँचा कर मां की तस्वीर पर एकटक टकटकी लगाए पश्चाताप के ऑंसू भरे लरजती जुवान कह रही हो कि तुम लौट कर क्यों नहीं आई शायद खफा मुझसे बस, इतनी सी हुई हीरे को कांच समझता रहा समर्पण भाव को मजबूरी का नाम देता हठधर्मिता करता रहा जानकर भी, नकारता रहा फिर, पता नहीं कौन सी बात
25 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
आँ
कविता-20/07/1985आँखों के मोतीविजय कुमार तिवारीजब भी घुम-घाम कर लौटता हूँ,थक-थक कर चूर होता हूँ,निढ़ाल सा गिर पड़ता हूँ विस्तर में।तब वह दया भरी दृष्टि से निहारती है मुझेगतिशील हो उठता है उसका अस्तित्वऔर जागने लगता है उसका प्रेम।पढ़ता हूँ उसका चेहरा, जैसे वात्सल्य से पूर्ण,स्नेहिल होती,फेरने लगती है
26 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x