जिस देश में गंगा बहती है: शैलेन्द्र

14 अगस्त 2018   |  कुनाल मंजुल   (52 बार पढ़ा जा चुका है)

जिस देश में गंगा बहती है: शैलेन्द्र - शब्द (shabd.in)

जिस देश में गंगा बहती है: शैलेन्द्र

होठों पे सच्चाई रहती है, जहां दिल में सफ़ाई रहती है
हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं
जिस देश में गंगा बहती है
मेहमां जो हमारा होता है, वो जान से प्यारा होता है
ज़्यादा की नहीं लालच हमको, थोड़े मे गुज़ारा होता है
बच्चों के लिये जो धरती माँ, सदियों से सभी कुछ सहती है
हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं
जिस देश में गंगा बहती है

कुछ लोग जो ज़्यादा जानते हैं, इन्सान को कम पहचानते हैं
ये पूरब है पूरबवाले, हर जान की कीमत जानते हैं
मिल जुल के रहो और प्यार करो, एक चीज़ यही जो रहती है
हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं
जिस देश में गंगा बहती है

जो जिससे मिला सिखा हमने, गैरों को भी अपनाया हमने
मतलब के लिये अन्धे होकर, रोटी को नही पूजा हमने
अब हम तो क्या सारी दुनिया, सारी दुनिया से कहती है
हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं
जिस देश में गंगा बहती है..

अगला लेख: हिंदी में मज़ेदार चुटकुले, हँसते-हँसते हो जायेंगे लोट-पोट !



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 अगस्त 2018
डाक सर्कल ने अनुबंध के आधर पर ग्राम डाक सेवक के 2411 रिक्त पदों पर भर्ती के लिए साक्षात्कार कार्यक्रम का आयोजन किया हैं। जिन उम्मीदवारो ने किसी मान्यता बोर्ड से 10वीं पास की हो, वे आवेदन कर सकते है। चयनित उम्मीदवारो को मापदंडो के अनुसार वेतन मिलेगा। यह पोस्ट उम्मीदवारों को अच्छा अनुभव प्राप्त करने
14 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
मोक्ष / नाश है अहं का...अहं क्या है ?मनुष्य के सुखी होने की अनुभूति ?या फिर दर्द का अहसास ?किसी का अपना होने की राहत ?या फिर पराया होने का दर्द ? लेकिन दुःख में भी तो है कष्ट का आनन्द...अपनेपन से ही तो उपजता है परायापन क्योंकि एक ही भाव के दो अनुभाव हैं दोनोंउसी तरह जैसे
02 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
मापनी -२१२२ २१२२ २१२२ २१२ सामंत- आ पदांत-दिख रहा“गीतिका”अटल बिन यह देश अपना आज कैसा दिख रहाहर नजर नम हो रही पल बे-खबर सा दिख रहाशब्द जिनके अब कभी सुर गीत गाएंगे नहींखो दिया हमने समय को अब इंसा दिख रहा।।याद आती हैं वे बातें जो सदन में छप गईझुक गए संख्या की खातिर नभ सितारा
21 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
नई दिल्ली: 15 August, 2018: भारत में 72वें स्वतंत्रता दिवस (72nd Independence Day) का जश्न मनाया जा रहा है. स्वतंत्रता दिवस (Independence Day 2018) के मौके पर लाल किले की प्राचीर से जब प्रधानमंत्री तिरंगा लहराते हैं तो हर भारतीय का सिर गर्व से ऊंचा हो जाता है. 1947 में भा
14 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
Book - Ibadat Ishq ki (Poetry Collection)Poet - Vikas Durga MahtoMy role - EditorPublisher: Sooraj Pocket Books; First edition (31 July 2018)Language: HindiISBN-10: 9388094018ISBN-13: 978-9388094016इस दौर में लोगों को काव्य से बांधना मुश्किल होता जा रहा है। बचपन से उँगलियों पर रखे मनोरंजन के हर साधन
03 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
दि
मुझे अपनी मोहबत दे दो इतनी सी मुझ पे इनायत कर दो बरस रहा है सावन लेकिन दिल तो मेरा प्यासा है अपने प्यार कि मुझ पे बरसात कर दो खुद को भूल
29 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x