माँ भारती की आरती

15 अगस्त 2018   |  दीपिका तिवारी   (89 बार पढ़ा जा चुका है)

माँ भारती की आरती, हम यूँ सदा गाते रहे।


चरणों में अपनी माँ के, हम शीश झुकाते रहे।।


है मन में इक आस, कि बढ़ता रहे विश्वास


प्रेम की धारा दिलों में, हम सदा बहाते रहे।


माँ भारती की आरती, हम यूँ सदा गाते रहे।।


खेतों में हो हरियाली, चहुँओर हो खुशहाली


फूल खुशियों के हम, सदा ही उगाते रहे।


माँ भारती की आरती, हम यूँ सदा गाते रहे।।


समृद्धि हो अपार, शान्ति का हो प्रसार


रास्ता अमन का हम, दुनिया को दिखाते रहे।


माँ भारती की आरती, हम यूँ सदा गाते रहे।।


मन में अपने ठान ले, हम खुद को यूँ पहचान दें


मातृभूमि के लिए सदा ही, हम प्राण लुटाते रहे।


माँ भारती की आरती, हम यूँ सदा गाते रहे।।

अगला लेख: मोक्ष – अहं का नाश



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x