अमर शहीद के नाम --

15 अगस्त 2018   |  रेणु   (72 बार पढ़ा जा चुका है)

अमर शहीद के नाम --   - शब्द (shabd.in)

जब तक हैं सूरज चाँद --

अटल नाम तुम्हारा है ,

ओ ! माँ भारत के लाल !

अमर बलिदान तुम्हारा है !!-


आनी ही थी मौत तो इक दिन --

जाने किस मोड़ पे आ जाती.-

कैसे पर गर्व से फूलती , -

मातृभूमि की छाती ;-

दिग -दिंगत में गूंज रहा आज--

यशोगान तुम्हारा है !!

ओ ! माँ भारत के लाल !

अमर बलिदान तुम्हारा है !!


धन्य हुई आज वो जननी -

तुम जिसके बेटे हो ,-

बना दिया मौत को उत्सव --

तिरंगे में लिपट घर लौटे हो ;-

कल थे एक गाँव - शहर के --

अब हिंदुस्तान तुम्हारा है !!-


ओ ! माँ भारत के लाल !-

अमर बलिदान तुम्हारा है !!


अत्याचारी कपटी दुश्मन

छिपके घात लगाता ,-

नामों निशान मिटा देते उसका --

जो आँख से आँख मिलाता ;-

पराक्रम से फिर भी सहमा --

दुश्मन हैरान तुम्हारा है -


-ओ ! माँ भारत के लाल !-

अमर बलिदान तुम्हारा है !!!!!!!!!!!


नमन ! नमन ! नमन !!!!!!!!!!!


कृपया मेरे ब्लॉग पर पधारे --

क्षितिज ---- renuskshitij.blospot.com

मीमांसा --- mimansarenu550.blogspo

-सादर

अगला लेख: सावन की सुहानी यादें -- लेख -



धन्य हुई आज वो जननी तुम जिसके बेटे हो,-बना दिया मौत को उत्सव तिरंगे में लिपट घर लौटे हो;...माँ भारती के सच्चे सपूत, जिसने सदा देश को प्रथम रखा मेरी भावभीनी अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि तथा ऐसे ओजस्वी व्यक्तित्व को करबद्ध शत शत नमन,...भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री माननीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी को यह रचना एक उत्कृष्ट भावभीनी श्रद्धांजलि है आपकी आदरणीया रेणु जी |

रेणु
27 अगस्त 2018

सस्नेह आभार प्रिय मनोज

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 अगस्त 2018
प्
जबसे साँसों ने तुम्हारी गंध पहचानानी शुरु की है तुम्हारी खुशबू हर पल महसूस करती हूँ हवा की तरह, ख़ामोश आसमां पर बादलों से बनाती हूँ चेहरा तुम्हारा और घनविहीन नभ पर काढ़ती हूँ तुम्हारी स्मृतियों के बेलबूटे सूरज की लाल,पीली, गुलाबी और सुनहरी किरणों के धागों से, जंगली फूलों पर मँडराती सफेल तितलियों सी
20 अगस्त 2018
20 अगस्त 2018
केरल अपने इतिहास की सबसे भयानक बाढ़ का सामना कर रहा है. पूरा देश केरल की मदद कर रहा है. केरल के पड़ोसी राज्य कर्नाटक का एक जिला कोडागू (कुर्ग) भी बाढ़ का सामना कर रहा है. यहां पर भूस्खलन से भी तबाही मची है. लेकिन लोग आपदा के टाइम में भी अपना एजेंडा फैलाने से बाज नहीं आ रह
20 अगस्त 2018
14 अगस्त 2018
जिस देश में गंगा बहती है: शैलेन्द्रहोठों पे सच्चाई रहती है, जहां दिल में सफ़ाई रहती हैहम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैंजिस देश में गंगा बहती हैमेहमां जो हमारा होता है, वो जान से प्यारा होता हैज़्यादा की नहीं लालच हमको, थोड़े मे गुज़ारा होता हैबच्चों के लिये जो धरती माँ, सदियों से सभी कुछ
14 अगस्त 2018
10 अगस्त 2018
बब्बू की याद आज इस दौर में इसलिए आ गई कि आज किसी ऐतिहासिक चरित्र के बारे कुछ कह दो , लिख दो या फिल्म ही बना लो तो एक हंगामा हो जाता है. ना तो हम उस दौर में थे और ना ही हमने देखा है , कुछ उस वक्त के इतिहासकारों ने या कवियो
10 अगस्त 2018
03 अगस्त 2018
Book - Ibadat Ishq ki (Poetry Collection)Poet - Vikas Durga MahtoMy role - EditorPublisher: Sooraj Pocket Books; First edition (31 July 2018)Language: HindiISBN-10: 9388094018ISBN-13: 978-9388094016इस दौर में लोगों को काव्य से बांधना मुश्किल होता जा रहा है। बचपन से उँगलियों पर रखे मनोरंजन के हर साधन
03 अगस्त 2018
06 अगस्त 2018
ये
Ye Dharati Ye Ambar Jab Se Teraa-meraa Prem Hai Tabase Lyrics of Prem : Ye Dharati Ye Ambar Jab Se Teraa-meraa Prem Hai Tabase is a beautiful hindi song from 1995 bollywood film Prem. This song is composed by Laxmikant and Pyarelal. Alka Yagnik and Nalin Dev has sung this song. Its lyrics are writte
06 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
फि
वक़्त तूने फिर वही कहानी दोहराई फिर से दिल टुटा फिर से आँख भर आई फिर से तन्हाई फिर से रुस्वाई , फिर से बेवफाई फिर से दिल तूने प्यार में चोट खाई कहा खो गई है मंज़िल
29 अगस्त 2018
02 अगस्त 2018
मोक्ष / नाश है अहं का...अहं क्या है ?मनुष्य के सुखी होने की अनुभूति ?या फिर दर्द का अहसास ?किसी का अपना होने की राहत ?या फिर पराया होने का दर्द ? लेकिन दुःख में भी तो है कष्ट का आनन्द...अपनेपन से ही तो उपजता है परायापन क्योंकि एक ही भाव के दो अनुभाव हैं दोनोंउसी तरह जैसे
02 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x