रक्षाबंधन, 26-8-18राखी का त्यौहार प्रिय, प्रिय बहना का स्नेह।

27 अगस्त 2018   |  महातम मिश्रा   (86 बार पढ़ा जा चुका है)

रक्षाबंधन, 26-8-18

भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को अपने आँचल में छूपाये हुए इस महान पर्व रक्षाबंधन के अनुपम अवसर पर आप सभी को दिल से बधाई व मंगलमयी शुभकामना, ॐ जय माँ शारदा.....!


“चतुष्पदी”

राखी का त्यौहार प्रिय, प्रिय बहना का स्नेह।

पकड़ कलाई वीर की, बाँध रही शुभ नेह।

थाली कंकू से भरी, सूत्र रंग आशीष-

रक्षा करती है बहन, मयका अनुपम गेह॥ “गेह-गृह”


“हाइकु”


सजी बाजर

राखी रक्षा त्यौहार

रंग बिरंगी॥-1

रंग अनेक

कच्चे पतले धागे

राखी बंधन॥-2

पावनी राखी

रिश्ता ऋतु बैसाखी

सुंदर पल॥-3


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "दोहा"इंसानों के महल में पलती ललक अनेक।



महातम मिश्रा
07 सितम्बर 2018

आप को भी राखी की अनंत शुभकामना बहन, आज एक बहन का आशीष पाकर मन प्रफ़्फुलित हो गया , शुभाशीर्वाद

रेणु
06 सितम्बर 2018

आदरणीय भइया -- भाई बहन के पावन स्नेह को समर्पित त्यौहार पर ये सुंदर रचना बहुत देर से पढ़ पायी जिसका बहुत खेद है मुझे | अनुपम स्नेहसिक्त भावों से भरी रचना के लिए बहुत बधाई और आपको मेरी ढेरों शुभकामनायें | प्रिय भाभी और समस्त परिवार के साथ आप हमेशा खुश और स्वस्थ रहें |
रंग अनेक

कच्चे पतले धागे

राखी बंधन!!!!!!!!!!
सचमुच !!!!!!!! सादर और सस्नेह |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 अगस्त 2018
मापनी -२१२२ २१२२ २१२२ २१२ सामंत- आ पदांत-दिख रहा“गीतिका”अटल बिन यह देश अपना आज कैसा दिख रहाहर नजर नम हो रही पल बे-खबर सा दिख रहाशब्द जिनके अब कभी सुर गीत गाएंगे नहींखो दिया हमने समय को अब इंसा दिख रहा।।याद आती हैं वे बातें जो सदन में छप गईझुक गए संख्या की खातिर नभ सितारा
21 अगस्त 2018
20 अगस्त 2018
"दोहा"इंसानों के महल में पलती ललक अनेक।खिले जहाँ इंसानियत उगता वहीँ विवेक।।जैसी मन की भावना वैसा उभरा चित्र।सुंदर छाया दे गया खिला साहसी मित्र।।अटल दिखी इंसानियत सुंदर मन व्यवहार।जीत लिया कवि ने जगत श्रद्धा सुमन अपार।।महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
20 अगस्त 2018
23 अगस्त 2018
"हाइकु"मेरे आँगनगीत गाती सखियाँ तुलसी व्याह।।-१कार्तिक माहभर मांग सिंदूरतुलसी पूजा।।-२तुलसी दलघर-घर मंगलसु- आमंत्रण।।-३तुलसी चौरा रोग विनाशकदीप प्रकाश।।-४तुलसी पत्तासाधक सुखवंतादिव्य औषधि।।-५महातम मिश्र गौतम गोराखपुरी
23 अगस्त 2018
31 अगस्त 2018
“मुक्तक” फिंगरटच ने कर दिया, दिन जीवन आसान। मोबाइल के स्क्रीनपर, दिखता सकल जहान। बिना रुकावट मान लो, खुल जाते हैं द्वार- चाहा अनचाहा सुलभ, लिखो नाम अंजान॥-1 बिकता है सब कुछयहाँ, पर न मिले ईमान। हीरा पन्ना अरु कनक, खूब बिके इंसान। बिन बाधा बाजार में, बे-शर्ती उपहार- हरि प्रणाम मुस्कानसुख, सबसे बिन पह
31 अगस्त 2018
30 अगस्त 2018
“कुंडलिया” मोहित कर लेता कमल, जल के ऊपर फूल। भीतर डूबी नाल है, हरा पान अनुकूल॥ हरा पान अनुकूल, मूल कीचड़ सुख लेता। खिल जाता दु:ख भूल, तूल कब रंग चहेता॥ कह गौतम कविराय, दंभ मत करना रोहित। हँसता खिलकर खूब, कमल करता मन मोहित॥महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
30 अगस्त 2018
22 अगस्त 2018
इस्लाम धर्म में ईद सबसे बड़ा और पवित्र त्यौहार माना जाता है. इस त्यौहार को ईद-उल-फितर और ईद-उल-जुहा भी कहा जाता है. ईद के एक महीना पहले मुस्लिम लोग रोज़े रखते हैं.इस साल यानी 2018 में बकरीद 22 अगस्त को मनाई जा
22 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
काफ़िया- आ स्वर रदीफ़- रह गया वज्न- २१२ २१२ २१२ २१२ फाइलुन फाइलुन फाइलुन फाइलुन"गज़ल"आदमी भल फरज मापता रह गयाले उधारी करज छाँकता रहा गयाखोद गड्ढा बनी भीत उसकी कभीजिंदगी भर उसे पाटता रह गया।।दूर होते गए आ सवालों में सभीहल पजल क्या हुई सोचता रह गया।।उमर भर की जहमद मिली मुफ्त
21 अगस्त 2018
22 अगस्त 2018
देशभर में बकरीद का जश्‍न मनाया जा रहा है. सोशल मीडिया पर भी लोग बकरीद और ईद-उल-अजहा से जुड़े बधाई संदेश शेयर कर रहे हैं. वहीं कई लोग कुबार्नी को लेकर फनी मीम भी शेयर कर रहे हैं.इन मीम में बकरों से जुड़े ज्‍यादातर फोटोज शेयर हो रहे हैं.
22 अगस्त 2018
04 सितम्बर 2018
लीलाधारी प्रभुकृष्ण जन्माष्टमी के परम पावन पुनीत अवसर पर आप सभी महानुभावों को हार्दिक बधाई!“कजरी का धीरज” (लघुकथा)कजरी की शादी बड़ीधूम-धाम से हुई पर कुछ आपसी अनिच्छ्नीय विवादों में रिश्तों का तनाव इतना बढ़ा किउसके ससुराल वालों ने आवागमन के सारे संबंध ही तोड़ लिए और कजरी अपनी ससुराल कीचाहरदीवारों में सि
04 सितम्बर 2018
13 अगस्त 2018
शिल्प विधान- कुल मात्रा =३० (१० ८ १२) १० और ८ पर अतिरिक्त तुकान्त “छंद चवपैया " (मात्रिक )जय जय शिवशंकर प्रभु अभ्यांकर नमन करूँ गौरीशा। जय जय बर्फानी बाबा दानी मंशा शिव आशीषा॥प्रतिपल चित लाऊँ तोहीं ध्याऊँ मन लागे कैलाशा। ज्योतिर्लिंग
13 अगस्त 2018
24 अगस्त 2018
“मुक्तक”मापनी- २१२२ २१२२ २२१२ २१२जिंदगी को बिन बताए कैसे मचल जाऊँगा। बंद हैं कमरे खुले बिन कैसे निकल जाऊँगा। द्वार के बाहर तेरे कोई हाथ भी दिखता नहीं- खोल दे आकर किवाड़ी कैसे फिसल जाऊँगा॥-१ मापनी- २२१२ २२१२ २२१२ २२१२जाना कहाँ रहना कहाँ कोई किता चलता नहीं। यह बाढ़ कैसी आ गई
24 अगस्त 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x