“छंद, वाचिक प्रमाणिका” लगा उड़ा लगा उठा पहाड़ का धुआँ उठा

27 अगस्त 2018   |  महातम मिश्रा   (93 बार पढ़ा जा चुका है)

छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी - 12 12 12 12 अथवा - लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र - जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा) विशेष : प्रमाणिका 'मापनीयुक्त वर्णिक छंद' है, जिसमें वर्णों की संख्या निश्चित होती है अर्थात किसी गुरु 2 के स्थान पर दो लघु 11 प्रयोग करने की छूट नहीं होती है। ऐसे छंद को 'वर्ण वृत्त' भी कहा जाता है। जब इस छंद में उच्चारण के अनुरूप एक गुरु/गा के स्थान पर दो लघु/ल प्रयोग करने की छूट ली जाती है तो इसका स्वरूप मात्रिक हो जाता है और तब इसे वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) छंद कहते हैं। जहाँतक मात्रापतन की बात है, अभ्यास में मात्रापतन की छूट ली जा सकती है किन्तु बाद में इससे बचने का ही प्रयास करें।


“छंद, वाचिक प्रमाणिका”


लगा उड़ा लगा उठा

पहाड़ का धुआँ उठा

न आग है न राख़ है

विचार का धुआँ उठा॥


लगा पता कि क्या उठा

हवा कहाँ कि छा उठा

कभी गए जहाँ नहीं

बता कहाँ धुआँ उठा॥


क्यों मानते जला उठा

मकां बिना लगा उठा

गिरा न आँख से हया

दिखा कहाँ धुआँ उठा॥


निशां न देखता उठा

लगा जुबां न जा उठा

बंद जो किवाड़ है

खुला कि आ धुआँ उठा॥


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "दोहा"इंसानों के महल में पलती ललक अनेक।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अगस्त 2018
"हाइकु"मेरे आँगनगीत गाती सखियाँ तुलसी व्याह।।-१कार्तिक माहभर मांग सिंदूरतुलसी पूजा।।-२तुलसी दलघर-घर मंगलसु- आमंत्रण।।-३तुलसी चौरा रोग विनाशकदीप प्रकाश।।-४तुलसी पत्तासाधक सुखवंतादिव्य औषधि।।-५महातम मिश्र गौतम गोराखपुरी
23 अगस्त 2018
16 अगस्त 2018
“कुंडलिया” आगे सरका जा रहा समय बहुत ही तेज। पीछे-पीछे भागते होकर हम निस्तेज॥ होकर हम निस्तेज कहाँ थे कहाँ पधारे। मुड़कर देखा गाँव आ गए शहर किनारे॥ कह गौतम कविराय चलो मत भागे-भागेकरो वक्त का मान न जाओ उससे आगे॥महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी
16 अगस्त 2018
29 अगस्त 2018
“हाइकु” सजी बाजर राखी रक्षा त्यौहार रंग बिरंगी॥-1 रंग अनेक कच्चे पतले धागेराखी वन्धन॥-2 पावनी राखी रिश्ता ऋतु बैसाखी सुंदर पल॥-3 ओस छाई रीवर्षा ऋतु आई रीझूलती नारी॥-4 विहग उड़ेपग सिहर पड़ेडरती नारी॥ -5 आ रे बसंततूँ ही दिग-दिगंतसुंदर नारी॥-6 महतम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
29 अगस्त 2018
21 अगस्त 2018
काफ़िया- आ स्वर रदीफ़- रह गया वज्न- २१२ २१२ २१२ २१२ फाइलुन फाइलुन फाइलुन फाइलुन"गज़ल"आदमी भल फरज मापता रह गयाले उधारी करज छाँकता रहा गयाखोद गड्ढा बनी भीत उसकी कभीजिंदगी भर उसे पाटता रह गया।।दूर होते गए आ सवालों में सभीहल पजल क्या हुई सोचता रह गया।।उमर भर की जहमद मिली मुफ्त
21 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x