“हाइकु” सजी बाजर

29 अगस्त 2018   |  महातम मिश्रा   (117 बार पढ़ा जा चुका है)

हाइकु


सजी बाजर

राखी रक्षा त्यौहार

रंग बिरंगी॥-1


रंग अनेक

कच्चे पतले धागे

राखी वन्धन॥-2


पावनी राखी

रिश्ता ऋतु बैसाखी

सुंदर पल॥-3


ओस छाई री

वर्षा ऋतु आई री

झूलती नारी॥-4


विहग उड़े

पग सिहर पड़े

डरती नारी॥ -5

रे बसंत

तूँ ही दिग-दिगंत

सुंदर नारी॥-6


महतम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "दोहा"इंसानों के महल में पलती ललक अनेक।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 अगस्त 2018
वज़्न- १२२२ १२२२ १२२२ १२२२ काफ़िया-आन रदीफ़- का आरा"गज़ल"उड़ा अपना तिरंगा है लगा आसमान का तारातिरंगा शान है जिसकी वो हिंदुस्तान का प्याराकहीं भी हो किसी भी हाल में फहरा दिया झंडाजुड़ी है डोर वीरों से चलन इंसान का न्यारा।।किला है लाल वीरों का जहाँ रौनक सिपाही कीगरजता शेर के मान
16 अगस्त 2018
30 अगस्त 2018
“कुंडलिया” मोहित कर लेता कमल, जल के ऊपर फूल। भीतर डूबी नाल है, हरा पान अनुकूल॥ हरा पान अनुकूल, मूल कीचड़ सुख लेता। खिल जाता दु:ख भूल, तूल कब रंग चहेता॥ कह गौतम कविराय, दंभ मत करना रोहित। हँसता खिलकर खूब, कमल करता मन मोहित॥महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
30 अगस्त 2018
04 सितम्बर 2018
“भोजपुरी गीत”कइसे जईबू गोरीछलकत गगरिया, डगरिया में शोर हो गइलकहीं बैठल होइहेंछुपि के साँवरिया, नजरिया में चोर हो गइल...... बरसी गजरा तुहार, भीगी अँचरा लिलार मति कर मन शृंगार, रार कजरा के धारपायल खनकी तेहोइहें गुलजार गोरिया मनन कर घर बार, जनि कर तूँ विहार,कइसे विसरी धनापलखत पहरिया, शहरिया अंजोर हो गइ
04 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x