मै गिर चुकी एक ईमारत हु

31 अगस्त 2018   |  Vikas Khandelwal   (83 बार पढ़ा जा चुका है)

मै दर्द मै लिपटी हुई इक रात हु


आँखों से बरसती हुई बरसात हु


मुझको गले से लगा लो आज


अपने आप से बिछड़ी हुई रीत हु


मेरा कोई नहीं तुम्हारे सीवा


मै बस तुम्हारी प्यारी प्रीत हु


मुझको अपनी बाहो मे उठा लो


मै गिर चुकी एक ईमारत हु


मुझको अपना समझो तो अहसान होगा


मै प्यार को तरसी हुई मोह्बत हु


मुझ से दूर जाओगे तो रह ना पाओगे


मानो या ना मानो तुम , मगर यही सच है


मै तुम्हारी पुरानी एक आदत हु


देखो मेरी नज़रो मे और पढ़ लो तुम


जो भूल गए हो तुम आजकल पढ़ना


प्यार का हसीन पाठ


मै वो भूली हुई प्यार कि एक किताब हु


मेरे बिस्तर कि सलवटे कह रही है


कि तुम घर आकर गए हो


बिता लेते कुछ पल मेरे साथ


तो तुम्हारा क्या जाता


मै तुमसे दूर जा रही , तुम्हारे घर कि जीनत हु


मै दर्द मे.................................

अगला लेख: फिर से तन्हाई हाथ आई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 अगस्त 2018
फि
वक़्त तूने फिर वही कहानी दोहराई फिर से दिल टुटा फिर से आँख भर आई फिर से तन्हाई फिर से रुस्वाई , फिर से बेवफाई फिर से दिल तूने प्यार में चोट खाई कहा खो गई है मंज़िल
29 अगस्त 2018
04 सितम्बर 2018
रू
टुटा टुटा है बदन बुझा बुझा है मन जबकि आज सुलझी हुई है हर उलझन कतरा कतरा करके बहता है आँखों से समन्दर फिर भी होठो पे , सजी हुई है मुस्कान रूठा
04 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
कॉ
खब्‍ती डॉट इन का वह बंदाबड़ी सी मोबाइल परहनुमानजी की फोटू निहारताव्यस्त था थोड़ी टीप-टाप के बादमुखातिब होता बोला - अरे, आ गएहां, एक बात कहनी थीहां हां कहिएमेरी कुर्सी टेबल दीवार की तरफ है, चिपकी सी अनइजी लगता हैहां आ आ...आपसे एक बात कहनी थी कल जाते वक्‍त आप बिना बताये निकल गये थेहां, टाइम से निकला थाअ
08 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
मै
तेरी जुस्तजू में मरने को जिन्दगी कहता हु तेरी आरजू मे जीने को बन्दगी कहता हु मै कल तक जियूँगा नहीं आज मे जीने को जिन्दगी कहता हु तुझ से बिछड़ के जीना , मेरा नसीब
08 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
मै
तेरी जुस्तजू में मरने को जिन्दगी कहता हु तेरी आरजू मे जीने को बन्दगी कहता हु मै कल तक जियूँगा नहीं आज मे जीने को जिन्दगी कहता हु तुझ से बिछड़ के जीना , मेरा नसीब
08 सितम्बर 2018
02 सितम्बर 2018
प्यारे कान्हा तुम्हे गोकुल कि छाछ बुलावे साबुत मटकी , गुलेल बुलावे गोप बुलावे , गोपिया बुलावे राधा का रास बुलावे आ जाओ कन्हैया हमारी मान मनुवार बुला
02 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x