दिन एक महान आ रहा है

03 सितम्बर 2018   |  Vikas Khandelwal   (79 बार पढ़ा जा चुका है)

राधा का कृष्ण आ रहा है


फिर जन्म का दिन आ रहा है


मै हु तैयार , तुम भी तैयार रहो


दिन एक महान आ रहा है


हर हिन्दू , हर घर और


हर मन्दिर के लिए


प्यारा एक त्यौहार आ रहा है


बंसी बजाने , हम को जगाने


मुरली वाला आ रहा है


बजते है मृदंग , ताल और डमरू


घुंघरू और गाजे बाजे


रात कि इस तन्हाई मे


कान्हा हमारा दुलार पाने आ रहा है


कान्हा हम जानते है , तुमको क्या पसन्द है


तुम्हारे लिए प्यारे कान्हा


हमारे प्यार मे भीगा हुआ


माखन आ रहा है







अगला लेख: फिर से तन्हाई हाथ आई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 अगस्त 2018
मै
मै दर्द मै लिपटी हुई इक रात हु आँखों से बरसती हुई बरसात हु मुझको गले से लगा लो आज अपने आप से बिछड़ी हुई रीत हु मेरा कोई नहीं तुम्हारे सीवा मै
31 अगस्त 2018
07 सितम्बर 2018
जब उनको मेरी जरुरत होती है वो दिखा देते है की प्यार करते है जरुरत खत्म होते हि वो मेरे दिल को तोड़ देते है कभी इतना करीब रखते है कि सब दूरियाँ मिटा देते है जरुरत खत
07 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
वो हसते रहे मैं रोता रहा प्यार मे उनका जुल्म बढ़ता रहा नफरत कि धुप से जला ये दिल उनकी जुल्फों का साया ढूंढता रहा इतना तन्हा हु मै आजकल खाली वक़्त में उनको याद करता रहा
29 अगस्त 2018
31 अगस्त 2018
मै
मै दर्द मै लिपटी हुई इक रात हु आँखों से बरसती हुई बरसात हु मुझको गले से लगा लो आज अपने आप से बिछड़ी हुई रीत हु मेरा कोई नहीं तुम्हारे सीवा मै
31 अगस्त 2018
07 सितम्बर 2018
जब उनको मेरी जरुरत होती है वो दिखा देते है की प्यार करते है जरुरत खत्म होते हि वो मेरे दिल को तोड़ देते है कभी इतना करीब रखते है कि सब दूरियाँ मिटा देते है जरुरत खत
07 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
वो हसते रहे मैं रोता रहा प्यार मे उनका जुल्म बढ़ता रहा नफरत कि धुप से जला ये दिल उनकी जुल्फों का साया ढूंढता रहा इतना तन्हा हु मै आजकल खाली वक़्त में उनको याद करता रहा
29 अगस्त 2018
08 सितम्बर 2018
मै
तेरी जुस्तजू में मरने को जिन्दगी कहता हु तेरी आरजू मे जीने को बन्दगी कहता हु मै कल तक जियूँगा नहीं आज मे जीने को जिन्दगी कहता हु तुझ से बिछड़ के जीना , मेरा नसीब
08 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
रू
टुटा टुटा है बदन बुझा बुझा है मन जबकि आज सुलझी हुई है हर उलझन कतरा कतरा करके बहता है आँखों से समन्दर फिर भी होठो पे , सजी हुई है मुस्कान रूठा
04 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x