“छन्द मुक्त काव्य” “शहादत की जयकार हो”

05 सितम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (90 बार पढ़ा जा चुका है)

“छन्द मुक्त काव्य”


“शहादत की जयकार हो”

जब युद्ध की टंकार हो

सीमा पर हुंकार हो

माँ मत गिराना आँख आँसू

माँ मत दुखाना दिल हुलासू

जब रणभेरी की पुकार हो

शहादत की जयकार हो।।


जब गोलियों की बौछार हो

जब सीमा पर त्यौहार हो

माँ भेज देना बहन की राखी

अपने सीने की बैसाखी

वीरों की कलाई गुलजार हो

शहादत की जयकार हो॥


जब चलना दुश्वार हो

वर्फ की ठंडी बौंछार हो

माँ भेजना आँचल की गर्मी

देश की हलचल व मर्मी

तेरा लालन खुद्दार हो

शहादत की जयकार हो!

शहादत की जयकार हो!

शहादत की जयकार हो!


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "गज़ल" चलो जी कुछ ख़ता करते हैं इशारों में



रेणु
06 सितम्बर 2018

इस सुंदर लेख को आज का लेख के रूप में चुने जाने पर आपको हार्दिक बधाई |

रेणु
06 सितम्बर 2018

इस सुंदर लेख को आज का लेख के रूप में चुने जाने पर आपको हार्दिक बधाई |

महातम मिश्रा
07 सितम्बर 2018

हार्दिक धन्यवाद बहन, स्वागतम

रेणु
06 सितम्बर 2018

माँ भेजना आँचल की गर्मी
देश की हलचल व मर्मी
तेरा लालन खुद्दार हो
शहादत की जयकार हो!!!!!!!
आदरनीय भैया --- आज आपने जो लिखा उसका कोई सानी नहीं | एक वीररस से भरपूर ओजमयी रचना !!!!!! कहा गयाहै धन्य है वो कलम जो वीरों के गौरव गान लिखती है और उनका यशोगान गा ,समाज को उनके बलिदान से परिचित करवाती है |
शहादत की जय - जय कार हो -
ना वीरों का तिरस्कार हो -
जिन्होंने राष्ट्र को अपने लहू से सींचा
उस ऋण का कैसे उतार हो !!!!!!!!!
भइया हार्दिक बधाई इस सुंदर और गर्व का अनुभव कराती रचना के लिए | सादर प्रणाम |

महातम मिश्रा
07 सितम्बर 2018

बहुत बहुत शुभाशीष प्रिय बहन रेणु, वीरों से ही धरा पावन है, प्रतिफल उन्हें नमन, जय हिन्द, कैसी हैं आप और बच्चे, आप का दिन मंगलमय हो!

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अगस्त 2018
"हाइकु"मेरे आँगनगीत गाती सखियाँ तुलसी व्याह।।-१कार्तिक माहभर मांग सिंदूरतुलसी पूजा।।-२तुलसी दलघर-घर मंगलसु- आमंत्रण।।-३तुलसी चौरा रोग विनाशकदीप प्रकाश।।-४तुलसी पत्तासाधक सुखवंतादिव्य औषधि।।-५महातम मिश्र गौतम गोराखपुरी
23 अगस्त 2018
14 सितम्बर 2018
“छंद मुक्त काव्य“(मैं इक किसान हूँ) किस बिना पै कह दूँकि मैं इक किसान हूँजोतता हूँ खेत, पलीत करता हूँ मिट्टी छिड़कता हूँ जहरीलेरसायन घास पर जीव-जंतुओं का जीनाहराम करता हूँ गाय का दूध पीताहूँ गोबर से परहेज है गैस को जलाता हूँपर ईधन बचाता हूँ अन्न उपजाता हूँगीत नया गाता हूँ आत्महत्या के लिएहैवान बन जा
14 सितम्बर 2018
31 अगस्त 2018
“मुक्तक” फिंगरटच ने कर दिया, दिन जीवन आसान। मोबाइल के स्क्रीनपर, दिखता सकल जहान। बिना रुकावट मान लो, खुल जाते हैं द्वार- चाहा अनचाहा सुलभ, लिखो नाम अंजान॥-1 बिकता है सब कुछयहाँ, पर न मिले ईमान। हीरा पन्ना अरु कनक, खूब बिके इंसान। बिन बाधा बाजार में, बे-शर्ती उपहार- हरि प्रणाम मुस्कानसुख, सबसे बिन पह
31 अगस्त 2018
04 सितम्बर 2018
छंद - हरिगीतिका(मात्रिक) मुक्तक, मापनी- 2212 2212 2212 2212“मुक्तक” (छंद -हरिगीतिका)फैले हुए आकाश मेंछाई हुई है बादरी। कुछ भी नजर आतानहीं गाती अनारी साँवरी। क्यों छुप गई है ओटलेकर आज तू अपने महल- अब क्या हुआ का-जलबिना किसकी चली है नाव री॥-1क्यों उठ रही हैरूप लेकर आज मन में भाँवरी। क्यों डूबने कोहरघड़
04 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x