तुम्हे समर्पित सब गीत मेरे -- कविता

09 सितम्बर 2018   |  रेणु   (67 बार पढ़ा जा चुका है)

तुम्हे समर्पित सब गीत मेरे -- कविता  - शब्द (shabd.in)

मीत कहूं ,मितवा कहूं ,

क्या कहूं तुम्हे मनमीत मेरे ?

नाम तुम्हारे हर शब्द मेरे

तुम्हे समर्पित सब गीत मेरे !!


हर बात कहूं तुमसे मन की -

कह अनंत सुख पाऊँ मैं ,

निहारूं नित मन- दर्पण में -

तुम्हे स्वसम्मुख पाऊँ मैं;

सजाऊँ ख्वाब नये तुम संग -

भूल, ये गीत -अतीत मेरे !!


सृष्टि में जो ये प्रणय का

अदृश्य सा महाविस्तार है -

जो युगों से है अपना -

वही इसका दावेदार है --

बंधने नियत थे तुम संग -

जन्मों के बंध पुनीतमेरे !!

अनुराग बन्ध में सिमटी मैं

यूँ ही पल- पल जीना चाहूं ,

सपन- वपन कर डगर पे साथी -

संग तुम्हारे चलना चाहूं ;

तेरे प्यार से हुए हैं जगमग -

ये नैनों के दीप मेरे !!

नाम तुम्हारे हर शब्द मेरे

तुम्हे समर्पित सब गीत मेरे !!!!!!!!!

अगला लेख: तृष्णा मन की -



अभय चतुर्वेदी
13 सितम्बर 2018

शानदार !!🙏🙏

रेणु
14 सितम्बर 2018

प्रिय अभय आपका आभार | आप कहाँ हो आजकल ?

महातम मिश्रा
10 सितम्बर 2018

बहुत बहुत हृदयावत बधाई बहन रेणु बाला जी, सुंदर भावनात्मक गीत आज पढ़ने को मिला और आज की सर्वश्रेष्ठ रचना का सम्मान प्राप्त हुआ, एक भाई को और क्या चाहिए खूब हर्षित रहो, शुभाशीष

रेणु
11 सितम्बर 2018

आदरणीय भैया आपकी स्नेहाशीष से रचना सार्थक हुई | सादर नमन आपको | इस शब्द नगरी को आभार जिसने अपने प्रांगन में बसेरा दिया और आप जैसे स्नेहियों से मिलवाया | आपका स्नेह अनमोल है | अब आभार क्या कहूं बस नमन |

अलोक सिन्हा
10 सितम्बर 2018

अच्छी रचना है |

Shashi Gupta
12 सितम्बर 2018

बहुत सुंदर एवं प्रेम से भरी रचना है दी

रेणु
11 सितम्बर 2018

आदरणीय आलोक जी सादर नमन |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 सितम्बर 2018
मिले जब तुम अनायास - मन मुग्ध हुआ तुम्हे पाकर ; जाने थी कौन तृष्णा मन की - जो छलक गयी अश्रु बनकर ? हरेक से मुंह मोड़ चला - मन तुम्हारी ही ओर चला अनगिन छवियों में उलझा - तकता हो भावविभोर चला- जगी भीतर अभिलाष नई- चली ले उमंगों की नयी डगर ! !प्राण
23 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x