"पद" मोहन मुरली फिर न बजाना

10 सितम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (81 बार पढ़ा जा चुका है)

"पद"


मोहन मुरली फिर न बजाना

राह चलत जल गगरी छलके, पनघट चुनर भिगाना।

लाज शरम की रहन हमारी, मैँ छोरी बरसाना।।

गोकुल ग्वाला बाला छलिया, हरकत मन बचकाना।

घूरि- घूरि नैना मलकावें, बात करत मुसुकाना।।

अब नहिं फिर मधुबन को आऊँ, तुम सौ कौन बहाना।

रास रचाना बिनु राधा के, और जिया पछिताना।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: "गज़ल" रुला कर हँसाते बड़ी सादगी से



महातम मिश्रा
19 सितम्बर 2018

दिल से आभारी हूँ सम्मानित शब्दनगरी मंच का इस गज़ल को विशिष्ट रचना का सम्मान प्रदान करने के लिए, ॐ जय माँ शारदा!

महातम मिश्रा
19 सितम्बर 2018

ॐ जय कन्हाई, शुभाशीर्वाद बहन

रेणु
16 सितम्बर 2018

'' रास रचाना बिनु राधा के, और जिया पछिताना।।'' बहुत सही नटखट कान्हा को यही धमकी काफी है चेताने के लिए | बहुत सरस रचना के लिए हार्दिक बधाई आदरणीय भइया |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 सितम्बर 2018
"
"कुंडलिया"खेती हरियाली भली, भली सुसज्जित नार।दोनों से जीवन हरा, भरा सकल संसार।।भरा सकल संसार, वक्त की है बलिहारी।गुण कारी विज्ञान, नारि है सबपर भारी।।कह गौतम कविराय, जगत को वारिस देती।चुल्हा चौकी जाँत, आज ट्रैक्टर की खेती।।-1होकर के स्वछंद उड़े, विहग खुले आकाश।एक साथ का है सफर, सुंदर पथिक प्रकाश।।सुं
17 सितम्बर 2018
05 सितम्बर 2018
“छन्द मुक्त काव्य”“शहादत की जयकारहो”जब युद्ध की टंकारहो सीमा पर हुंकार हो माँ मत गिराना आँखआँसू माँ मत दुखाना दिलहुलासूजब रणभेरी की पुकारहो शहादत की जयकारहो।। जब गोलियों कीबौछार होजब सीमा पर त्यौहारहो माँ भेज देना बहनकी राखी अपने सीने कीबैसाखी वीरों की कलाईगुलजार हो शहादत की जयकार हो॥जब चलना दुश्वार
05 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
छंद - हरिगीतिका(मात्रिक) मुक्तक, मापनी- 2212 2212 2212 2212“मुक्तक” (छंद -हरिगीतिका)फैले हुए आकाश मेंछाई हुई है बादरी। कुछ भी नजर आतानहीं गाती अनारी साँवरी। क्यों छुप गई है ओटलेकर आज तू अपने महल- अब क्या हुआ का-जलबिना किसकी चली है नाव री॥-1क्यों उठ रही हैरूप लेकर आज मन में भाँवरी। क्यों डूबने कोहरघड़
04 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x