जीवन

11 सितम्बर 2018   |  राइ आराधना   (59 बार पढ़ा जा चुका है)

सांसो में आता जाता है

स्पंदन बन चलता जाता है


जीवन तू अंतर मैं मुस्काता है


कभी अश्रु बन के जीता है


कभी स्नेहमय बन जाता है


जीवन तू मौन हो सब कुछ कह जाता है


माँ की ममता बहन का प्यार


और कभी प्रयसी की गुहार


जीवन तू सब कह जाता है


रेशम की झालर सा सहलाता है


व्यथा के अंचल मैं लिपट - लिपट के


आँखों से झर के कह जाता है


जीवन तू सब कुछ अपना जाता है


आराधना राय अरु



अगला लेख: रिश्ता पक्का है नाटिका



अलोक सिन्हा
12 सितम्बर 2018

अच्छी रचना है |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x