तुम्हारे लिए

12 सितम्बर 2018   |  विजय कुमार तिवारी   (18 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता-12/12/1984

तुम्हारे लिए

विजय कुमार तिवारी


बाट जोहती तुम्हारी निगाहें,

शाम के धुँधलके का गहरापन लिए,

दूर पहाड़ की ओर से आती पगडण्डी पर,

अंतिम निगाह डाल

जब तलक लौट चुकी होंगी।

उम्मीदों का आखिरी कतरा,आखिरी बूँद

तुम्हारे सामने ही

धूल में विलीन हो चुका होगा।

आशा के संग जुड़ी,सारी आकांक्षायें

मटियामेट हो ,दम तोड़ चुकी होंगी।

उच्छवसित हो,आह जज्ब करती,

पीड़ा से व्यथित तुम,निढाल पड़ चुकी होगी।

तब देखना,

रोम-रोम को आलोकित करता,

रोमांचित करता,तुम्हारे ईर्द-गिर्द छा जाऊँगा ।

मेरी उपस्थिति के अहसास से,आनन्दित

ज्योंही तुम्हारी पलकें उन्मिलित होंगी,

कोख सुगबुगायेगी,

बज उठेगा मधुर संगीत,

तुम्हारे कानों में,तुम्हारे आसपास।

देखना,

पूरा का पूरा आ चुका रहूँगा मैं,

तुम्हारे लिए,तुम्हारी गोद में।

अगला लेख: उसने कभी निराश नही किया -3



कामिनी सिन्हा
06 अक्तूबर 2018

सोच से परे की कल्पना ,अति उत्तम,सादर नमन

रेणु
16 सितम्बर 2018

वाह !! जन्म के पार एक और जन्म के साथ का वादा !!!!!!! अनुराग का ये रूप विस्मय भरा है | बहुत सराहनीय रचना के लिए हार्दिक बधाई --
आदरणीय विजय जी | सादर ------

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 सितम्बर 2018
मै
तेरी जुस्तजू में मरने को जिन्दगी कहता हु तेरी आरजू मे जीने को बन्दगी कहता हु मै कल तक जियूँगा नहीं आज मे जीने को जिन्दगी कहता हु तुझ से बिछड़ के जीना , मेरा नसीब
08 सितम्बर 2018
27 सितम्बर 2018
कभी आता है ख्याल तुम्हारा,दिल करता है तुमसे बात करे,इतनी तो दुश्मनी नहीं हैचलो एक मुलाकात करे।मै तुमसे तुम मुझसे हो,खफा किस बात पर मालूम नहीं ,इश्क पर किसी का जोर चलता नहीं,जब इश्क का फैसला दो दिल साथ करे।कहाँ से इब्तिदा करिये अब,कि दीदार हुआ है तुम्हारा हमको,दिल फिर भी कह रहा है जानम,लबो को बंद रहन
27 सितम्बर 2018
25 सितम्बर 2018
वो
लाठी की टेक लिए चश्मा चढाये , सिर ऊँचा कर मां की तस्वीर पर एकटक टकटकी लगाए पश्चाताप के ऑंसू भरे लरजती जुवान कह रही हो कि तुम लौट कर क्यों नहीं आई शायद खफा मुझसे बस, इतनी सी हुई हीरे को कांच समझता रहा समर्पण भाव को मजबूरी का नाम देता हठधर्मिता करता रहा जानकर भी, नकारता रहा फिर, पता नहीं कौन सी बात
25 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नही किया-3विजय कुमार तिवारीजिस प्रोफेसर के पथ-प्रदर्शन में शोधकार्य चल रहा था,वे बहुत ही अच्छे इंसान के साथ-साथ देश के मूर्धन्य विद्वानों में से एक थे। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की निर्धारित तिथि के पूर्व शोध का प्रारुप विश्वविद्यालय मे जमा करना था। मात्र तीन दिन बचे थे।विभागाध्य
26 सितम्बर 2018
27 सितम्बर 2018
हाँ मत करो बात मुझसे,तुम्हारी मर्जी।अपनो को क्या देना पडे,बार बार माफी की अर्जी।मानता हू मै हो जाती है गलतियाँ अक्सर,ईंसान है हम खुदा तो नहीं।जरा सी बात पर इतने दिन तक रुठे रहना,ऐसी भी क्या हो खुदगर्जी।हाँ मत करो बात मुझसे,तुम्हारी मर्जी।
27 सितम्बर 2018
21 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
21 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
जब उनको मेरी जरुरत होती है वो दिखा देते है की प्यार करते है जरुरत खत्म होते हि वो मेरे दिल को तोड़ देते है कभी इतना करीब रखते है कि सब दूरियाँ मिटा देते है जरुरत खत
07 सितम्बर 2018
25 सितम्बर 2018
वो
क्या दोष था मेरा बस मैं एक लडकी थी अपना बोझ हल्का करने का जिसे बालविवाह की बलि चढा दिया मैं लिख पढकर समाज का दस्तूर मिटा एक नई राह बनाना चाहती थी मजबूर, बेवश,मंडप की वेदी पर बिठा दिया दुगुनी उम्र के वर से सात फेरे पडवा दिए वक्त की मार बिन बुलाए चली आई छीट की चुनरिया के सब रंग धुल गए कल की शुभ लक्ष
25 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नहीं किया-4विजय कुमार तिवारीप्रेम में जादू होता है और कोई खींचा चला जाता है। सौम्या को महसूस हो रहा है,यदि आज प्रवर इतनी मेहनत नहीं करता तो शायद कुछ भी नहीं होता। सब किये धरे पर पानी फिर जाता। भीतर से प्रेम उमड़ने लगा। उसने खूब मन से खाना बनाया। प्रवर की थकान कम नहीं हुई थी परन्
26 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानी उसने कभी निराश नहीं किया-1विजय कुमार तिवारी"अब मैं कभी भी ईश्वर को परखना नहीं चाहता और ना ही कुछ माँगना चाहता हूँ। ऐसा नहीं है कि मैंने पहले कभी याचना नहीं की है और परखने की हिम्मत भी। हर बार मैं बौना साबित हुआ हूँ और हर बार उसने मुझे निहाल किया है।दावे से कहता हूँ-गिरते हम हैं,हम पतित होते है
26 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
कहानीबदले की भावनाविजय कुमार तिवारीभोर की रश्मियाँ बिखेरने ही वाली थीं,चेतन बाहर आने ही वाला था कि उसके मोबाईल पर रिंगटोन सुनाई दिया। उसने कान से लगाया।उधर से किसी के हँसने की आवाज आ रही थी और हलो का उत्तर नही। कोई अपरिचित नम्बर था और हँसी भी मानो व्यंगात्मक थी। कौन हो सकती है? बहुत याद करने पर भी क
12 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
को
मौलिक कविता 21/11/1984कोख की रोशनीविजय कुमार तिवारीतुम्हारी कोख में उगता सूरज,पुकारता तो होगा?कुछ कहता होगा,गाता होगा गीत? फड़कने नहीं लगी है क्या-अभी से तुम्हारी अंगुलियाँ?बुनने नहीं लगी हो क्या-सलाईयों में उन के डोरे?उभर नहीं रहा क्या-एक पूरा बच्चा?तुम्हारे लिए रोते हुए,अंगली थामकर चलते हुए। उभर र
12 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x