कोख की रोशनी

12 सितम्बर 2018   |  विजय कुमार तिवारी   (17 बार पढ़ा जा चुका है)

मौलिक कविता 21/11/1984

कोख की रोशनी

विजय कुमार तिवारी


तुम्हारी कोख में उगता सूरज,

पुकारता तो होगा?

कुछ कहता होगा,गाता होगा गीत?

फड़कने नहीं लगी है क्या-

अभी से तुम्हारी अंगुलियाँ?

बुनने नहीं लगी हो क्या-

सलाईयों में उन के डोरे?

उभर नहीं रहा क्या-एक पूरा बच्चा?

तुम्हारे लिए रोते हुए,

अंगली थामकर चलते हुए।

उभर रहा है सूरज अपने पूरे वजूद के साथ,

पूरी जिद्द,पूरी किलकार,पूरे तौर से मचलता,रूठता।

रोशनी जागती रहेगी,बंद नहीं होगी रोशनी,

तबतक नहीं--

ताकि पूरी तासीर,

सही जीवन का सही आकार।

तुम्हारे चेहरे पर उभरते,उमगते भाव।

नहीं,नहीं उसे रोका नहीं जा सकता,

रुक नही सकती उसकी मृदुल मुस्कान

रुक नहीं सकती रोशनी

तुम्हारे कोख में उग रहे सूरज की।

अगला लेख: उसने कभी निराश नहीं किया



रेणु
15 सितम्बर 2018

वाह !! बहुत ही मर्मस्पर्शी रचना !!!!!!! अजन्मे शिशु के लिए ममत्व का भाव सहेजती माँ को नमन करती रचना के लिए हार्दिक बधाई |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 सितम्बर 2018
मै
तेरी जुस्तजू में मरने को जिन्दगी कहता हु तेरी आरजू मे जीने को बन्दगी कहता हु मै कल तक जियूँगा नहीं आज मे जीने को जिन्दगी कहता हु तुझ से बिछड़ के जीना , मेरा नसीब
08 सितम्बर 2018
29 अगस्त 2018
वो हसते रहे मैं रोता रहा प्यार मे उनका जुल्म बढ़ता रहा नफरत कि धुप से जला ये दिल उनकी जुल्फों का साया ढूंढता रहा इतना तन्हा हु मै आजकल खाली वक़्त में उनको याद करता रहा
29 अगस्त 2018
12 सितम्बर 2018
गा
कहानीगाँव की लड़की का अर्थशास्त्रविजय कुमार तिवारीगाँव में पहुँचे हुए अभी कुछ घंटे ही बीते थे और घर में सभी से मिलना-जुलना चल ही रहा था कि मुख्यदरवाजे से एक लड़की ने प्रवेश किया और चरण स्पर्श की। तुरन्त पहचान नहीं सका तो भाभी की ओर प्रश्न-सूचक निगाहों से देखा। "लगता है,चाचा पहचान नहीं पाये,"थोड़ी मु
12 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
वो
वो भी क्या दिन थे ....बचपन के वो दिनअसल जिंदगी जिया करते थे कल की चिंता छोड़ आज में जिया करते थे ईर्ष्या,द्वेष से परे,पाक दिल तितली की मानिंद उड़ते ना हाथ खर्च की चिंता,ना भविष्य के सपने बुनते हंसी ख़ुशी में गुजरे दिन ,धरती पर पैर ना टिकते छोटे छोटे गम थे,छोटी छोटी
23 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा से आत्मा का मिलनविजय कुमार तिवारीभोर में जागने के बाद घर का दरवाजा खोल देना चाहिए। ऐसी धारणा परम्परा से चली आ रही है और हम सभी ऐसा करते हैं। मान्यता है कि भोर-भोर में देव-शक्तियाँ भ्रमण करती हैं और सभी के घरों में सुख-ऐश्वर्य दे जाती हैं। कभी-कभी देवात्मायें नाना र
23 सितम्बर 2018
31 अगस्त 2018
मै
मै दर्द मै लिपटी हुई इक रात हु आँखों से बरसती हुई बरसात हु मुझको गले से लगा लो आज अपने आप से बिछड़ी हुई रीत हु मेरा कोई नहीं तुम्हारे सीवा मै
31 अगस्त 2018
23 सितम्बर 2018
मिले जब तुम अनायास - मन मुग्ध हुआ तुम्हे पाकर ; जाने थी कौन तृष्णा मन की - जो छलक गयी अश्रु बनकर ? हरेक से मुंह मोड़ चला - मन तुम्हारी ही ओर चला अनगिन छवियों में उलझा - तकता हो भावविभोर चला- जगी भीतर अभिलाष नई- चली ले उमंगों की नयी डगर ! !प्राण
23 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x