“छंद मुक्त काव्य“ (मैं इक किसान हूँ)

14 सितम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (78 बार पढ़ा जा चुका है)

“छंद मुक्त काव्य“ (मैं इक किसान हूँ)

किस बिना पै कह दूँ कि मैं इक किसान हूँ

जोतता हूँ खेत, पलीत करता हूँ मिट्टी

छिड़कता हूँ जहरीले रसायन घास पर

जीव-जंतुओं का जीना हराम करता हूँ

गाय का दूध पीता हूँ गोबर से परहेज है

गैस को जलाता हूँ पर ईधन बचाता हूँ

अन्न उपजाता हूँ गीत नया गाता हूँ

आत्महत्या के लिए हैवान बन जाता हूँ

कहते हैं लोग कि मैं भूख का निदान हूँ

किस बिना पै कह दूँ कि मैं इक किसान हूँ॥

ठंड में काँपता हूँ बरसात में भीगता हूँ

गरमी में पराली जलाकर शरीर सेंकता हूँ

उधार का बीज, उधार की खाद डालता

ब्याज के लिए तिमाही तौलता हूँ अनाज

चूहों से मिन्नते करता हूँ उन्हें समझाता हूँ

किश्त दर किश्त दीपावली सी पुजा करता हूँ

मूर कब घटता है मैं ही कूढ़ता हूँ पकता हूँ

खुद के लिए ही शायद शैतान बन जाता हूँ

लोग सम्मान में कहते हैं मैं कल का बिहान हूँ

किस बिना पै कह दूँ कि मैं इक किसान हूँ॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “मुक्तक” (छंद - हरिगीतिका)



महातम मिश्रा
19 सितम्बर 2018

दिल से आभारी हूँ सम्मानित शब्दनगरी मंच का इस गज़ल को विशिष्ट रचना का सम्मान प्रदान करने के लिए, ॐ जय माँ शारदा!

महातम मिश्रा
17 सितम्बर 2018

बिलकुल सही बहन बहुत ही विडम्बना है समाज में जिससे कवि घायल है और कलम बेपरवाह

रेणु
16 सितम्बर 2018

आदरणीय भैया -- धरतीपुत्र के अंतस की पीड़ा को शब्द देती भावपूर्ण रचना को पढ़कर मुझे किसानों के आक्रांत बुझे मुखड़े याद हो आये जो खेती किसानी करते उत्साह से लबरेज रहते हैं पर फसल की उगाही के वक्त अपराधी जैसे हो जाते हैं | सबकी थाली को अन्न से सजाता है ये भे दोष कम नहीं उसका ? बहुत मर्मान्तक रचना के लिए निशब्द हूँ | बस आभार |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 सितम्बर 2018
गीतिका आधार छंद- शक्ति , मापनी 122 122 122 12, समांत-ओगे, पदांत- नहीं “गीतिका”बनाया सजाया कहोगे नहीं गले से लगाया सुनोगे नहीं सुना यह गली अब पराई नहीं बुलाकर बिठाया हँसोगे नहीं॥बनाकर बिगाड़े घरौंदे बहुत महल यह सजाकर फिरोगे नहीं॥बसाये न जाते शहर में शहर नगर आज फिर से घुमोगे नहीं॥चलो शाम आई सुहानी बहु
18 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
"
वज़्न- 1222 12222122 2, काफ़िया-आ, रदीफ़ - " करते हैं इशारोमें""गज़ल"चलो जी कुछ ख़ताकरते हैं इशारों मेंबवंडर ही खड़ा करतेहै इशारों मेंकहाँ तक चल सकेंगेदिनमान चुप होकरजलाते है अगन दीयाहै इशारों में।।नयी जब रोशनी होगीतम फ़ना होगाउड़ाते हैं वोफतिंगा हैं इशारों में।।भरा पानी शहर मेंले आग मत जानाबुझे मन का ठिकान
04 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
“भोजपुरी गीत”कइसे जईबू गोरीछलकत गगरिया, डगरिया में शोर हो गइलकहीं बैठल होइहेंछुपि के साँवरिया, नजरिया में चोर हो गइल...... बरसी गजरा तुहार, भीगी अँचरा लिलार मति कर मन शृंगार, रार कजरा के धारपायल खनकी तेहोइहें गुलजार गोरिया मनन कर घर बार, जनि कर तूँ विहार,कइसे विसरी धनापलखत पहरिया, शहरिया अंजोर हो गइ
04 सितम्बर 2018
31 अगस्त 2018
“मुक्तक” फिंगरटच ने कर दिया, दिन जीवन आसान। मोबाइल के स्क्रीनपर, दिखता सकल जहान। बिना रुकावट मान लो, खुल जाते हैं द्वार- चाहा अनचाहा सुलभ, लिखो नाम अंजान॥-1 बिकता है सब कुछयहाँ, पर न मिले ईमान। हीरा पन्ना अरु कनक, खूब बिके इंसान। बिन बाधा बाजार में, बे-शर्ती उपहार- हरि प्रणाम मुस्कानसुख, सबसे बिन पह
31 अगस्त 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x