“मुक्तक” हिंदी सिर बिंदी सजी, सजा सितंबर माह।

14 सितम्बर 2018   |  महातम मिश्रा   (75 बार पढ़ा जा चुका है)

हिन्दी दिवस के सुअवसर पर आप सभी को दिल से बधाई सह शुभकामना, प्रस्तुत है मुक्तक....... ॐ जय माँ शारदा......!


“मुक्तक”


हिंदी सिर बिंदी सजी, सजा सितंबर माह।
अपनी भाषा को मिला, संवैधानिक छाँह।
चौदह तारिख खिल गया, दे दर्जा सम्मान-
धूम-धाम से मन रहा, प्रिय त्यौहारी चाह॥-1


बहुत बधाई आप को, देशज मीठी बोल।
सगरी भाषा बहन सम, मिल जाती दिल खोल।
लिखना-पढ़ना सहज है, अक्षर शब्द समान-
भाव-भंगिमा आपसी, हिंदी है अनमोल॥-2


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: “मुक्तक” (छंद - हरिगीतिका)



महातम मिश्रा
17 सितम्बर 2018

हार्दिक बधाई बहन राजभाषा के लिए

रेणु
16 सितम्बर 2018

हिंदी को समर्पित सुंदर रचना आदरणीय भैया | आपको भी देर ही सही हार्दिक शुभकामनायें हिंदी दिवस की | सादर प्रणाम |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 सितम्बर 2018
बहुत दिनों से हजारों बातों को दबाएं बैठा हुआ हूं,ये जो क्या...डिजीटल चिट्ठी चली है न अपने तो समझ से ऊपर है। चचा जान अच्छा हुआ आज आप हो नही..,नही तो देश की वास्तविकता से जूझ रही धरती माँ को तड़पते ही देखते। इस न जाने डिजीटल दुनिया में क्या है कि लोग अपनी वास्तविकता ओर पहचान से शर्म खाते हैं। चचा जान
01 सितम्बर 2018
14 सितम्बर 2018
"कुंडलिया"कटना अपने आप का, देख हँस रहा वृक्ष।शीतल नीर समीर बिन, हाँफ रहा है रिक्ष।।हाँफ रहा है रिक्ष, अभिक्ष रहा जो वन का।मत काटो अब पेड़, जिलाते जी अपनों का।।कह गौतम कविराय, शुभ नहिं नदी का पटना।जल को जीवन जान, रोक अब वृक्ष का कटना।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
14 सितम्बर 2018
04 सितम्बर 2018
"
वज़्न- 1222 12222122 2, काफ़िया-आ, रदीफ़ - " करते हैं इशारोमें""गज़ल"चलो जी कुछ ख़ताकरते हैं इशारों मेंबवंडर ही खड़ा करतेहै इशारों मेंकहाँ तक चल सकेंगेदिनमान चुप होकरजलाते है अगन दीयाहै इशारों में।।नयी जब रोशनी होगीतम फ़ना होगाउड़ाते हैं वोफतिंगा हैं इशारों में।।भरा पानी शहर मेंले आग मत जानाबुझे मन का ठिकान
04 सितम्बर 2018
03 सितम्बर 2018
*हिन्दी खबर* चैनल विस्तार कर रहा है। *यूपी, एमपी, उत्तराखंड एवं छत्तीसगढ़* में सफलतापूर्वक संचालन के बाद अब राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, जम्मू कश्मीर, बिहार, झारखंड, गुजरात और महाराष्ट्र में *प्रदेश प्रतिनिधि/स्टेट हेड/ब्यूरो चीफ* की नियुक्तियां की जा रहीं हैं।अधिक जानकारी के लिए निचे दी
03 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
शीर्षक ---भाषा/बोली/वाणी/इत्यादि समानार्थक“मुक्तक”तुझे छोड़ न जाऊँ रीसैयां न कर लफड़ा डोली में। क्या रखा है इसझोली में जो नहीं तेरी ठिठोली में। आज के दिन तूँ रोकले आँसू नैन छुपा ले नैनों से-दिल ही दिल की भाषाजाने क्या रखा है बोली में॥-1 हंस भी मोती खाएगा, फिर एक दिन ऐसा आयेगा। कागा अपने रंग मेंआकर,
07 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
काफ़िया- आ स्वर, रदीफ़- रह गया शायद“गज़ल”जुर्म को नजरों सेछुपाता रह गया शायदव्यर्थ का आईनादिखाता रह गया शायद सहलाते रह गया कालेतिल को अपने नगीना है सबकोबताता रह गया शायद॥ धीरे-धीरे घिरती गईछाया पसरी उसकी दर्द बदन सिरखुजाता रह गया शायद॥ छोटी सी दाग जबनासूर बन गई माना मर्ज गैर मलहमलगाता रह गया शायद॥
17 सितम्बर 2018
14 सितम्बर 2018
बहुत सी बोलियों और भाषाओं वाले हमारे देश में आजादी के बाद भाषा को लेकर एक बड़ा सवाल आ खड़ा हुआ. आखिरकार 14 सितंबर 1949 को हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया. हालांकि शुरू में हिंदी और अंग्रेजी दोनो को को नए राष्ट्र की भाषा चुना गया और संविधान सभा ने देवनागरी लिपि वाली हिं
14 सितम्बर 2018
11 सितम्बर 2018
मापनी- 2122 2122 , पदांत- पाना,समांत- जीत, ईत स्वर“गीतिका”प्यार खोना मीतपाना युद्ध को हर जीतपाना हो सका संभव नहींजग पार कर हद हीतपाना॥दिल कभी भी छल करेक्या प्रीत पावन चीतपाना॥ (चित्त)जिंदगी कड़वी दवा हैस्वाद मिर्चा तीतपाना॥ (तीखा) राग वीणा की मधुरहै तार जुड़ संगीतपाना॥दो किनारों की नदीबन क्यों भला ज
11 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
हर कोई खुद की आज़ादी चाहता है पर दूसरे को आज़ादी देने से कतराता है. हर किसी को फक्र है अपने मज़हब पर अपनी जात या नस्ल पर, पर किसी को परवाह नहीं उस परवरदिगार की जो इन सबसे ऊपर है जिसने हर किसी को बनाया है. उसके यहाँ तो ना कोई मज़हब है ना जात ना ही कोई नस्ल, उसके यहाँ अगर कुछ ह
12 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
08 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
शीर्षक ---भाषा/बोली/वाणी/इत्यादि समानार्थक“मुक्तक”तुझे छोड़ न जाऊँ रीसैयां न कर लफड़ा डोली में। क्या रखा है इसझोली में जो नहीं तेरी ठिठोली में। आज के दिन तूँ रोकले आँसू नैन छुपा ले नैनों से-दिल ही दिल की भाषाजाने क्या रखा है बोली में॥-1 हंस भी मोती खाएगा, फिर एक दिन ऐसा आयेगा। कागा अपने रंग मेंआकर,
07 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x