गीत

17 सितम्बर 2018   |  अलोक सिन्हा   (64 बार पढ़ा जा चुका है)

मानव जब राह भटक जाता , -

नैतिक मूल्यों से हट जाता , -

तब मानवता अपने पावन आदर्श बता उससे कहती -

कुछ तो अतीत गुन कर देखो

मेरे पथ पर चल कर देखो


जब स्वार्थ भावना बढ़ जाती ,

सौहार्द्र न कहीं नजर आता | -

सबको बस अपने सुख दिखते ,

अपनापन प्यार बिसर जाता |

तब अश्रु , भूख ,अधनग्न बदन , कुछ आर्द्र करुण स्वर में कहते -

हमको अपना कह कर देखो |

दो पल हम से जुड़ कर देखो ||


जब तम ही तम भू पर होता ,

झंझा का संकट गहराता |

मन बेबस सा चिन्तित व्याकुल ,

पग एक न आगे बढ़ पाता | -

तब तम से सतत निडर लडती , जुगनू की लघु आभा कहती -

मेरा जीवन जी कर देखो |

तम से कुछ पल लड़ कर देखो ||


जब बहुत अकेलापन खलता , -

कैसे भी चैन नहीं मिलता |

हर ओर उदासी सी दिखती , -

मरघट जैसा सब जग लगता |

तब सीमा पर निशि दिन सन्नद्ध , प्रहरी की मौन प्रीत कहती --

मुझ जैसा व्रत लेकर देखो |

यह दुःख , सुख सा सह कर देखो ||


हर पल जब घुटन भरा लगता ,

पग पग पर असफलता मिलती |

नित घ्रणा द्वेश आहत करते ,

हर ओर निराशा ही दिखती ||

तब हर मन में आशा भरती , प्राची की भोर किरन कहती -

मुझसे प्रेरित होकर देखो | -

आशावादी बनकर देखो ||



रेणु
19 सितम्बर 2018

आदरणीय आलोक जी --- सादर प्रणाम | आज एक मुद्दत बाद आपके गीत को पढ़कर मुझे कितनी ख़ुशी हो रही है बता नहीं सकती | शब्द नगरी के मंच की हैं अनुपम शोभा हैं आपको रचनाएँ | बहुत ही प्रेरक जीवन मूल्यों को प्रतिष्ठापित करती रचना अपने आप में सद्भावना का संदेश है |
जब तम ही तम भू पर होता ,
झंझा का संकट गहराता
मन बेबस सा चिन्तित व्याकुल ,
पग एक न आगे बढ़ पाता | -
तब तम से सतत निडर लडती ,
जुगनू की लघु आभा कहती -
मेरा जीवन जी कर देखो |
तम से कुछ पल लड़ कर देखो ||
मुझसे प्रेरित होकर देखो | -
आशावादी बनकर देखो ||-
अत्यंत मंजे भाव और सुदक्ष लेखनी के अनुपम मेल से रची गयी इस रचना के लिए आपको सादर आभार और अनेको शुभकामनायें | आप स्वस्थ रहें और इसी तरह मधुर ,सरस गीत रचते रहें मेरी यही कामना है |

अलोक सिन्हा
20 सितम्बर 2018

एक अच्छी और सार्थक टिपणी के लिए बहुत बहुत आभार |

शिशिर मधुकर
19 सितम्बर 2018

बेहद सुन्दर सृजन आलोक जी .....

अलोक सिन्हा
20 सितम्बर 2018

शिशिर जी बहुत बहुत धन्यवाद |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x