कितनी वांछित है?

19 सितम्बर 2018   |  अमित   (64 बार पढ़ा जा चुका है)

कितनी वांछित है?

✒️

युवा वर्ग जो हीर सर्ग है, मर्म निहित करता संसृति का

अकुलाया है अलसाया है, मोह भरा है दुर्व्यसनों का

पिता-पौत्र में भेद नहीं है, नैतिकता ना ही कुदरत का;

ऐसी बीहड़ कलि लीला में, आग्नेय मैं बाण चलाऊँ

कहो मुरारे ब्रह्म बाण की, महिमा तब कितनी वांछित है?


जो भविष्य को पाने चल दे, वर्तमान का भान नहीं हो

भूतकाल में दैव प्रेरणा, क्षुधा कभी आराम नहीं हो,

अतुलित चाहत की बारातें, जिसके जीवन में सिर-माथे

सुखी रहे बस नाम मात्र का, उसको ध्यावें, यम आघातें,

नये दौर ने नये सृजन में, सृजित रीति ही कर डाला तो; कहो मुरारे सृष्टि रीति की, मर्यादा कितनी वांछित है?


जनता चोंचें खोल-खोलकर, भ्रमित दृगों से तोल-तोलकर

कुर्सी के भूखे भिखमंगों, को लालचवश बोल-बोलकर

उनके ही फैलाये जालों, में मदिरा में डूब-डूबकर;

शाम सवेरे जब भी देखो, कुकडूँ-कूँ के राग सुनाये

कहो मुरारे गीता की वह, राजनीति कितनी वांछित है?


प्रजा, पुत्र के तुल्य है होती, माने जो राजा महान है

अपने खून-पसीने पाले, संज्ञा ही वह सर्वनाम है

कुंठित हो स्वेच्छाचारी जो, हाथों अपने, प्रजा प्रताड़े;

राजनीति के अधम चरण में, जब मानव, मानव को मारे

सत्ता के गलियारों में यह, मारपीट कितनी वांछित है?


कलि की मंदर महिमा में जब, कवि शब्दों का मान नहीं हो

कहो मुरारे ब्रह्मज्ञान की, महिमा तब कितनी वांछित है?

...“निश्छल”

अगला लेख: रद्दी में फेंकी यादों को



रेणु
19 सितम्बर 2018

प्रिय अमित -- भगवान कृष्ण को मार्मिक उद्बोधन और सार्थक प्रश्न अपने आप में आपकी रचना को अतिविशिष्ट बनाते हैं | अलसाई और भौतिकवाद की आवश्यक - अनावश्यक लालसाओं में आकंठ डूबी युवा पीढ़ी भारतवर्ष में भविष्य के प्रति नैराश्यपूर्ण सोच पैदा करती है | ललचाई प्रजा कभी विवेक से राजा नहीं चुन पाती और राजा राजनीति के कुटिल पंक में डूबा प्रजा के पोषित करने की बजाय अपनी कुर्सी बचाने के अधिक तत्पर है | एक आहत कवि का नैतिक कर्तव्य बनता है कि इस अव्यवस्थाओं पर गहन चिन्तन करे जो आपने किया , भले कविशब्दों का मान हो- ना हो | आक्रांत चिन्तन से उपजी इस रचना के लिए आपको बधाई देती हूँ | आपकी लेखनी इस मंच पर अपनी प्रतिभा का आलोक बिखेरे मेरी यही कामना है |

AMIT NISHCHHAL
29 सितम्बर 2018

कोटशः नमन दीदी🙏😊🙏

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x