वो लडकी

25 सितम्बर 2018   |  गौरीगन गुप्ता   (100 बार पढ़ा जा चुका है)

क्या दोष था मेरा बस मैं एक लडकी थी अपना बोझ हल्का करने का जिसे बालविवाह की बलि चढा दिया मैं लिख पढकर समाज का दस्तूर मिटा एक नई राह बनाना चाहती थी मजबूर, बेवश,मंडप की वेदी पर बिठा दिया दुगुनी उम्र के वर से सात फेरे पडवा दिए वक्त की मार बिन बुलाए चली आई छीट की चुनरिया के सब रंग धुल गए कल की शुभ लक्ष्मी आज कलंकनी, बन गई जगरीति निभाने जन्मदाता आए समझा बुझा गये जहां डोली आती, वहा से अर्थी उठती मायके के आसरे की धुंध थी वो भी छट गई अब साया भी अपशकुनी बन गया नादान मन में समझ रीति की ना आई बस कुछ समझ आता था तो वो कल तक जो सोलह श्रृंगार की स्वामिनी थी अब सफेद साडी में लिपटी भावशून्य कोला कागज सा जीवन हो गया ये और कोई नहीं मेरे सामने पली बढी मैंने ही उसे किताबी ज्ञान कराया रानी लक्ष्मीबाई का पाठ पढाया पर रानी बनना ना सिखाया उसकी भावशून्य ऑटो मुझसे सवाल है करते क्या जबाव देती पुरजोर कोशिश की पर मुझे सीमाओं मेरे बांध दिया उसका यह वैधव्य रूप देख मन अपने आपको कचोटता है उसका खेलता बचपन क्यों ना बचा पाये परवाह किए बिना जंग छेड देती उफ! अफसोस भर रह गया बस अफसोस भर रह गया

अगला लेख: जन्मसिद्धता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 सितम्बर 2018
दि
Dil chahe yu hi teri baaho mai rahena ,Dhadkan ki tarah dil mai basa lu tujko.Dil chahe yu hi teri palko pe rahena,Khwab ki tarah palko pe saja lu tujko.Dil chahe yu hi teri saanso mai rahena,Phoolo ki tarah saanso mai mila lu tujko.Dil chahe yu hi teri bagiya mai rahena,Khushbu ki tarah muj mai mi
24 सितम्बर 2018
08 अक्तूबर 2018
जन्मसिद्धता तू ही नहीं, सभी खुश थे मेरे दुनियां में आने की खबर सुन लेकिन जब किलकारी गूंजी तेरे घर आंगन में मायूस भरे उदास चेहरे हुए कारण समझ ना पाई पर तू जग की रीति निर्वाह अनबूझ रही मुझसे क्या मैं चिराग नहीं दहेज ढोने वाली ठुमके ठुमक करते पग फूटी आँख किसी को ना सुहाते स्वतंत्रता पर प्रश्न चिन्ह लगा
08 अक्तूबर 2018
09 अक्तूबर 2018
आज देर रात तक तेरे गुड नाईट के इंतजार में जागता रहा,मूंदी नम आंखो से मोबाइल की स्क्रीन को ताकता रहा।ये कहकर कि सो गया होगा तू मनाया मैने मेरे मन को,मन मुझसे दूर और मैं मन से दूर सारी रात भागता रहा।कोई खता अगर हुयी हो तो बता देता मुझको मेरे दोस्त,मैं रात भर चाँद से तुझको मनाने की भीख माँगता रहा।लडते
09 अक्तूबर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x