आँखों के मोती

26 सितम्बर 2018   |  विजय कुमार तिवारी   (89 बार पढ़ा जा चुका है)

कविता-20/07/1985

आँखों के मोती

विजय कुमार तिवारी


जब भी घुम-घाम कर लौटता हूँ,

थक-थक कर चूर होता हूँ,

निढ़ाल सा गिर पड़ता हूँ विस्तर में।

तब वह दया भरी दृष्टि से निहारती है मुझे

गतिशील हो उठता है उसका अस्तित्व

और जागने लगता है उसका प्रेम।

पढ़ता हूँ उसका चेहरा, जैसे वात्सल्य से पूर्ण,

स्नेहिल होती,फेरने लगती है बालों में अंगुलियाँ।

यथाशीघ्र उबारना चाहती है मुझे,मेरी यन्त्रणा से,

धीरे-धीरे प्रकृतस्थ होता हूँ,

संतोष झलकता है उसकी आँखों में।

तब मैं,

आसपास देख बिदकने लगता हूँ,

उबल पड़ता हूँ घर की बेतरतीबी पर,

या विस्तर की सिलवटों से

या ऐसी ही किन्हीं अयाचित सन्दर्भो में।

वह मौन हो,.सुनती रहती है मेरी घुड़कियाँ

निरीह सी देखती रहती है।

उसका मौन मुझे चिढ़ाने लगता है,

चिढ़ने लगता हूँ अपने आप पर,उसके मौन पर।

आखिर वह प्रतिकार क्यों नहीं करती?

कुछ कहती क्यों नहीं, विरोध में?

क्यों नहीं आता उबाल उसकी भावनाओं में?

बडी शान्त,बेधती सी लगती है उसकी निगाहें,

हारने सा लगता हूँ भीतर भीतर

पिघलने सा लगता हूँ मैं,

उसके होठों में कम्पन होता है,

टप-टप गिर पड़ते हैं उसकी आँखों से मोती।

अगला लेख: उसने कभी निराश नही किया -3



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अक्तूबर 2018
मै
दिल तुम्हारा तोड़ के मै भी खूब रोया हु तुमने शायद आसू बहाए होंगे मै खून मे अपने नहाया हु मै जानता हु कि तुम फूलो से भी नाजुक हो मगर यकीन जानो दिल तुम्हारा तो
09 अक्तूबर 2018
23 सितम्बर 2018
जन्म-जन्मान्तर के वैर के लिए क्षमा और प्रार्थना विजय कुमार तिवारी अजीब सी उहापोह है जिन्दगी में। सुख भी है,शान्ति भी है और सभी का सहयोग भी। फिर भी लगता है जैसे कटघरे में खड़ा हूँ।घर पुराना और जर्जर है। कितना भी मरम्मत करवाइये,कुछ उघरा ही दिखता है। इधर जोड़िये तो उधर टूटता है। मुझे इससे कोई फर्क नहीं
23 सितम्बर 2018
27 सितम्बर 2018
आओ अब कुछ बात करे,कदम कुछ अब साथ भरे।भुला के सारे गिले शिकवे,नये रिश्ते की शुरुआत करे।पहले ही बहुत कम है जिंदगी,फिर रुठ के क्यो वक्त बरबाद करे।बंजर हो गया था जो पतझड़ के आने से,उस गुलशन को प्यार से फिर आबाद करे।भुल गया हूं मै तुम भी भुला दो,बीती जिंदगी को क्यों हम याद करे।आओ अब कुछ बात करे,कदम अब कु
27 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा से आत्मा का मिलनविजय कुमार तिवारीभोर में जागने के बाद घर का दरवाजा खोल देना चाहिए। ऐसी धारणा परम्परा से चली आ रही है और हम सभी ऐसा करते हैं। मान्यता है कि भोर-भोर में देव-शक्तियाँ भ्रमण करती हैं और सभी के घरों में सुख-ऐश्वर्य दे जाती हैं। कभी-कभी देवात्मायें नाना र
23 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नहीं किया-2विजय कुमार तिवारीसौम्या शरीर से कमजोर थी परन्तु मन से बहुत मजबूत और उत्साहित। प्रवर जानता था कि ऐसे में बहुत सावधानी की जरुरत है। जरा सी भी लापरवाही परेशानी में डाल सकती है। पहले सौम्या ने अपनी अधूरी पढ़ायी पूरी की और मेहनत से आगे की तैयारी
26 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 17 सितंबर को अपना 68 वां जन्मदिन अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में मनाएंगे। इसके लिए काशी में विशेष तैयारियां की जा रही हैं। भारतीय जनता पार्टी प्रधानमंत्री के जन्मदिन को खास बनाने के लिए तैयारियों में जुटी है। चौदहवें दौरे पर पीएम लोकार्पण और शिला
17 सितम्बर 2018
09 अक्तूबर 2018
आज देर रात तक तेरे गुड नाईट के इंतजार में जागता रहा,मूंदी नम आंखो से मोबाइल की स्क्रीन को ताकता रहा।ये कहकर कि सो गया होगा तू मनाया मैने मेरे मन को,मन मुझसे दूर और मैं मन से दूर सारी रात भागता रहा।कोई खता अगर हुयी हो तो बता देता मुझको मेरे दोस्त,मैं रात भर चाँद से तुझको मनाने की भीख माँगता रहा।लडते
09 अक्तूबर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नही किया-3विजय कुमार तिवारीजिस प्रोफेसर के पथ-प्रदर्शन में शोधकार्य चल रहा था,वे बहुत ही अच्छे इंसान के साथ-साथ देश के मूर्धन्य विद्वानों में से एक थे। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की निर्धारित तिथि के पूर्व शोध का प्रारुप विश्वविद्यालय मे जमा करना था। मात्र तीन दिन बचे थे।विभागाध्य
26 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
गा
कहानीगाँव की लड़की का अर्थशास्त्रविजय कुमार तिवारीगाँव में पहुँचे हुए अभी कुछ घंटे ही बीते थे और घर में सभी से मिलना-जुलना चल ही रहा था कि मुख्यदरवाजे से एक लड़की ने प्रवेश किया और चरण स्पर्श की। तुरन्त पहचान नहीं सका तो भाभी की ओर प्रश्न-सूचक निगाहों से देखा। "लगता है,चाचा पहचान नहीं पाये,"थोड़ी मु
12 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
कहानीबदले की भावनाविजय कुमार तिवारीभोर की रश्मियाँ बिखेरने ही वाली थीं,चेतन बाहर आने ही वाला था कि उसके मोबाईल पर रिंगटोन सुनाई दिया। उसने कान से लगाया।उधर से किसी के हँसने की आवाज आ रही थी और हलो का उत्तर नही। कोई अपरिचित नम्बर था और हँसी भी मानो व्यंगात्मक थी। कौन हो सकती है? बहुत याद करने पर भी क
12 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
17 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
को
मौलिक कविता 21/11/1984कोख की रोशनीविजय कुमार तिवारीतुम्हारी कोख में उगता सूरज,पुकारता तो होगा?कुछ कहता होगा,गाता होगा गीत? फड़कने नहीं लगी है क्या-अभी से तुम्हारी अंगुलियाँ?बुनने नहीं लगी हो क्या-सलाईयों में उन के डोरे?उभर नहीं रहा क्या-एक पूरा बच्चा?तुम्हारे लिए रोते हुए,अंगली थामकर चलते हुए। उभर र
12 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नहीं किया-4विजय कुमार तिवारीप्रेम में जादू होता है और कोई खींचा चला जाता है। सौम्या को महसूस हो रहा है,यदि आज प्रवर इतनी मेहनत नहीं करता तो शायद कुछ भी नहीं होता। सब किये धरे पर पानी फिर जाता। भीतर से प्रेम उमड़ने लगा। उसने खूब मन से खाना बनाया। प्रवर की थकान कम नहीं हुई थी परन्
26 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x