आओ अब कुछ बात करे

27 सितम्बर 2018   |  महेश कुमार बोस   (93 बार पढ़ा जा चुका है)

आओ अब कुछ बात करे

आओ अब कुछ बात करे,

कदम कुछ अब साथ भरे।

भुला के सारे गिले शिकवे,

नये रिश्ते की शुरुआत करे।

पहले ही बहुत कम है जिंदगी,

फिर रुठ के क्यो वक्त बरबाद करे।

बंजर हो गया था जो पतझड़ के आने से,

उस गुलशन को प्यार से फिर आबाद करे।

भुल गया हूं मै तुम भी भुला दो,

बीती जिंदगी को क्यों हम याद करे।

आओ अब कुछ बात करे,

कदम अब कुछ साथ भरे।

भुला के सारे गिले शिकवे,

नये रिश्ते की शुरुआत करे।

आओ अब कुछ बात करे…………………

अगला लेख: खुद में खोकर खुद को पाना



अलोक सिन्हा
30 सितम्बर 2018

अ च्छी रचना है |

महेश कुमार बोस
01 अक्तूबर 2018

धन्यवाद श्रीमान

Nasrin
27 सितम्बर 2018

bhut achi lekhni thi really meri life pr bilkul fit bethti h

महेश कुमार बोस
01 अक्तूबर 2018

धन्यवाद

Nasrin
27 सितम्बर 2018

bhut achi lekhni thi really meri life pr bilkul fit bethti h

Nasrin
27 सितम्बर 2018

bhut achi lekhni thi really meri life pr bilkul fit bethti h

Nasrin
27 सितम्बर 2018

bhut achi lekhni thi really meri life pr bilkul fit bethti h

Nasrin
27 सितम्बर 2018

bhut achi lekhni thi really meri life pr bilkul fit bethti h

Nasrin
27 सितम्बर 2018

bhut achi lekhni thi really meri life pr bilkul fit bethti h

Nasrin
27 सितम्बर 2018

bhut achi lekhni thi really meri life pr bilkul fit bethti h

Nasrin
27 सितम्बर 2018

bhut achi lekhni thi really meri life pr bilkul fit bethti h

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 सितम्बर 2018
विलायती बोलीः बनावटी लोग ****************************************** हमारे संस्कार से जुड़े दो सम्बोधन शब्द जो हम सभी को बचपन में ही दिये जाते थें , " प्रणाम " एवं " नमस्ते " बोलने का , वह भी अब किसमें बदल गया है, इस आधुनिक भद्रजनों के समाज में... *******************************************
14 सितम्बर 2018
09 अक्तूबर 2018
मै
दिल तुम्हारा तोड़ के मै भी खूब रोया हु तुमने शायद आसू बहाए होंगे मै खून मे अपने नहाया हु मै जानता हु कि तुम फूलो से भी नाजुक हो मगर यकीन जानो दिल तुम्हारा तो
09 अक्तूबर 2018
29 सितम्बर 2018
व्
आपके कर्मों की ज्योति अब राह हमें दिखलायेगी-----------------------------------------कुछ यादें कुछ बातें, जिनकी पाठशाला में मैं बना पत्रकार***************************एक श्रद्धांजलि श्रद्धेय राजीव अरोड़ा जी को***********************किया था वादा आपने कभी हार न मानेंगे ,बनके अर्जुन जीवन रण में जीतेंगे हा
29 सितम्बर 2018
10 अक्तूबर 2018
मेरी शायरी मुख्तलिफ है मेरे शेर अलग है अभी हासिल -ए -शोहरत मे देर अलग है ।अभी महफूज़ हूँ मै नाकामियों के साये में और मेरे हिस्से कि भी अन्धेर अलग है ।कोशिशों ने कामयाबियों से रिश्ता तोड़ लिया खुदा के
10 अक्तूबर 2018
25 सितम्बर 2018
वो
लाठी की टेक लिए चश्मा चढाये , सिर ऊँचा कर मां की तस्वीर पर एकटक टकटकी लगाए पश्चाताप के ऑंसू भरे लरजती जुवान कह रही हो कि तुम लौट कर क्यों नहीं आई शायद खफा मुझसे बस, इतनी सी हुई हीरे को कांच समझता रहा समर्पण भाव को मजबूरी का नाम देता हठधर्मिता करता रहा जानकर भी, नकारता रहा फिर, पता नहीं कौन सी बात
25 सितम्बर 2018
27 सितम्बर 2018
कभी आता है ख्याल तुम्हारा,दिल करता है तुमसे बात करे,इतनी तो दुश्मनी नहीं हैचलो एक मुलाकात करे।मै तुमसे तुम मुझसे हो,खफा किस बात पर मालूम नहीं ,इश्क पर किसी का जोर चलता नहीं,जब इश्क का फैसला दो दिल साथ करे।कहाँ से इब्तिदा करिये अब,कि दीदार हुआ है तुम्हारा हमको,दिल फिर भी कह रहा है जानम,लबो को बंद रहन
27 सितम्बर 2018
27 सितम्बर 2018
कभी आता है ख्याल तुम्हारा,दिल करता है तुमसे बात करे,इतनी तो दुश्मनी नहीं हैचलो एक मुलाकात करे।मै तुमसे तुम मुझसे हो,खफा किस बात पर मालूम नहीं ,इश्क पर किसी का जोर चलता नहीं,जब इश्क का फैसला दो दिल साथ करे।कहाँ से इब्तिदा करिये अब,कि दीदार हुआ है तुम्हारा हमको,दिल फिर भी कह रहा है जानम,लबो को बंद रहन
27 सितम्बर 2018
25 सितम्बर 2018
वो
क्या दोष था मेरा बस मैं एक लडकी थी अपना बोझ हल्का करने का जिसे बालविवाह की बलि चढा दिया मैं लिख पढकर समाज का दस्तूर मिटा एक नई राह बनाना चाहती थी मजबूर, बेवश,मंडप की वेदी पर बिठा दिया दुगुनी उम्र के वर से सात फेरे पडवा दिए वक्त की मार बिन बुलाए चली आई छीट की चुनरिया के सब रंग धुल गए कल की शुभ लक्ष
25 सितम्बर 2018
01 अक्तूबर 2018
गुज़रा हुआ ज़माना आता नहीं दुबारा , हाफ़िज़ खुदा तुम्हारा********************************आज रविवार का दिन मेरे आत्ममंथन का होता है। बंद कमरे में, इस तन्हाई में उजाला तलाश रहा हूँ। सोच रहा हूँ कि यह मन भी कैसा है , जख्मी हो हो कर भी गैरों से स्नेह करते रहा है।*************
01 अक्तूबर 2018
30 सितम्बर 2018
ओ दूर के मुसाफ़िर हम को भी साथ ले ले रे******************** मैं छोटी- छोटी उन खुशियों का जिक्र ब्लॉग पर करना चाहता हूँ, उन संघर्षों को लिखना चाहता हूँ, उन सम्वेदनाओं को उठाना चाहता हूँ, उन भावनाओं को जगाना चाहता हूँ, जिससे हमारा परिवार और हमारा समाज खुशहाली की ओर बढ़े । बिना धागा, बिना माला इन बिख
30 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x