हमारा सुख जीवन की उन रचनाओं में है जिससे मानवता विकसे

02 अक्तूबर 2018   |  सहज कृष्ण प्यारे   (58 बार पढ़ा जा चुका है)

सदा सहज हो जीवन दाता कटुटा ना अपनाऊँ मानवता हित सदा समर्पित का जीवनदर्शन अपनाऊँ । जिस हित बना बना राष्ट्र यह उस हित बलि बलिदान सदा अपने को पाऊँ नाथ मालिक ईश है सृष्टा उसकी मर्जी पर चल पाऊँ नारी सम्मान सतत् जीवन माता का जीवन भारी भार ऋण से सदा ऋणी जीवन कैसे ऋण उतारू तेरी ममता सी आचल में शिशु मन करता क्रन्दन , सहज स्नेह लुटा दे माँ अब भी मैं बेटा तेरा

अगला लेख: जन्मदिन विशेष: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर उनकी द्वारा लिखी 5 कविताएं: 'जलते गए, जलाते गए'



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x